Pics: बिंदी लगाकर और दुपट्टा ओढ़कर गौतम गंभीर ने किया ये काम, हर किसी ने की प्रशंसा


नई दिल्ली।भारतीय क्रिकेट टीम से लंबे समय से बाहर चल रहे गौतम गंभीर सामाजिक कार्य करने को लेकर काफी जाने जाते हैं। समाज के प्रति उनकी निष्ठा जगजाहिर है। छत्तीसगढ़ में नक्‍सली हमले में शहीद हुए जवानों के बच्‍चों की शिक्षा का खर्च उठाना हो या फिर कश्‍मीर में आतंकी हमले में शहीद हुए एएसआई अब्दुल रशीद की बेटी जोहरा की मदद, गौतम गंभीर ने ऐसे पवित्र काम कर के लोगों के दिलों में जगह बनाई है। गौतम गंभीर ने एक बार फिर कुछ ऐसा किया जिसे सुनकर सब लोग उनकी प्रशंसा कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें-Pics: शादी के बाद ट्रैक्टर पर चर्च से बाहर आए थे 'देहाती' एलिस्टर कुक,जानिए उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें

इस वजह से पहने ऐसे कपड़े:

हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान माथे पर बिंदी लगाए और दुपट्टा डाले गौतम गंभीर की फोटो मीडिया की सुर्खियां बनी।उनके इस कपड़े के पहनावे को लेकर लोग हैरत में थे लेकिन जब कारण पता चला तो सभी ने गंभीर की प्रशंसा की।गौतम किन्‍नर समाज के प्रति समर्थन जताने के लिए उनके कार्यक्रम हिजड़ा हब्‍बा के उद्घाटन समारोह में पहुंचे थे। कार्यक्रम में किन्‍नरों ने गौतम गंभीर को उनकी तरह तैयार होने में मदद की थी।

दो ट्रांसजेंडर्स बहन:

गौरतलब है कि यह पहली दफा नहीं है जब वह ट्रांसजेंडर्स के प्रति सम्मान जाहिर कर चुके हैं। हाल ही में गंभीर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर अबीना अहर और सिमरन शेख नाम की दो ट्रांसजेंडर्स को अपनी बहन बनाते हुए भावनाओं से भरा संदेश लिखा था

बीजेपी से जुड़ने की खबर:

हाल ही में खबर आई थी कि टीम इंडिया से बाहर चल रहे गौतम गंभीर आने वाले समय में बीजेपी का हाथ थाम सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गंभीर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की तरफ से दिल्ली से चुनाव लड़ सकते हैं।

कोलकाता नाइटराइडर्स को दो बार दिलाया खिताब:

पिछले काफी समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे गौतम गंभीर ने आखिरी टेस्ट साल 2016 और आखिरी वन-डे साल 2013 में खेला था। उन्होंने भारत के लिए 58 टेस्ट, 147 वन-डे, 37 टी-20 मैच खेले हैं। इसके अलावा उन्होंने और 154 आईपीएल मैच भी खेले हैं। आईपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स ने उनकी कप्तान में दो बार खिताब भी जीता है।

Have a great day!
Read more...

English Summary

IN pics :gautam gambhir during the inauguration of seventh edition of hijra habba