Tokyo 2020: 'क्लब में स्वागत है', लवलीना को बॉक्सिंग दिग्गजों विजेंदर सिंह, मैरी कॉम ने दी बधाई

टोक्योः भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह और एमसी मैरी कॉम ने शुक्रवार को टोक्यो खेलों में ओलंपिक पदक के लिए लवलीना बोरगोहेन की जीत को सेलिब्रेट करते हुए बधाई दी। विजेंदर 2008 में ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष मुक्केबाज थे, वहीं मैरी कॉम 2012 के लंदन संस्करण में ऐसा करने वाली पहली महिला बनीं। दोनों ने कांस्य पदक जीते थे और वे उम्मीद कर रहे हैं कि बोर्गोहेन टोक्यो में इससे बेहतर कर दिखाएं।

35 वर्षीय विजेंदर ने पीटीआई के हवाले से बात करते हुए कहा, "क्लब में आपका स्वागत है।"

लवलीना ने पूर्व विश्व चैंपियन चीनी ताइपे की निएन-चिन चेन को 4-1 से हराकर अंतिम चार में जगह बनाई जहां उनका सामना मौजूदा विश्व चैंपियन तुर्की की बुसेनाज सुरमेनेली से होगा।

मैरी कॉम ने कहा- हम इस पदक का इंतजार कर रहे थे

मैरी कॉम ने कहा- हम इस पदक का इंतजार कर रहे थे

टोक्यो से मैरी कॉम ने कहा, "हम इस पदक का इंतजार कर रहे थे, सभी ने बहुत मेहनत की थी। मैं उनके लिए बहुत खुश हूं।"

उन्होंने आगे कहा, "वह हमेशा से लड़की रही है जिसके बहुत महत्व नहीं दिया गया। यह जश्न मनाने लायक पदक है।"

विजेंदर सिंह लवलीना की रणनीति से विशेष रूप से प्रभावित थे, जिसने उन्हें अपने पुराने दिनों की याद दिला दी।

Tokyo 2020: पीवी सिंधु ने जबरदस्त खेल के साथ बनाई सेमीफाइनल में जगह, यामागुची को सीधे सेटों में हराया

विजेंदर सिंह को याद आए अपने पुराने दिन-

विजेंदर सिंह को याद आए अपने पुराने दिन-

35 वर्षीय ने कहा, "क्या शानदार लड़ाई है। उसकी रणनीति शानदार थी। उन्होंने अपने दाहिने हाथ का इतनी प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया, मुझे अमेच्यौर सर्किट में अपने दिनों की याद दिला दी। गॉड ब्लैस हर।"

अंत में भारत को बधाई।

उन्होंने कहा, "अगले दौर में उनका सामना कठिन है, लेकिन जिस तरह से वे जा रही हैं उससे निश्चित रूप से बहुत आगे जा सकती हैं।"

बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) के अध्यक्ष अजय सिंह ने उनके संघर्षों की ओर इशारा किया और कहा कि लवलीना पैदाइशी फाइटर हैं और वे इस क्षण का इंतजार कर रहे हैं।

बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया गदगद-

बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया गदगद-

बीएफआई के अध्यक्ष ने कहा, "यह एक ऐसी खबर है जिसका हम सभी बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। यह न केवल मुक्केबाजी के लिए बल्कि असम और पूरे देश के लिए भी गर्व का क्षण है। यह वास्तव में लवलीना का एक बहुत ही साहसी प्रयास था।

"वह पिछले साल COVID से पीड़ित थी और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसकी मां भी एक जानलेवा बीमारी से जूझ रही थी। लेकिन लवलीना एक जन्मजात लड़ाकू है। यह भारतीय मुक्केबाजी के लिए एक बहुत बड़ा मील का पत्थर है और जिस तरह से इस युवा लड़की ने साबित किया है। खुद हम सभी को गौरवान्वित करता है।

लवलीना को पिछले साल कोविड के चलते यूरोप में अपनी ट्रेनिंग को मिस करना पड़ा था। उनके पास कई तरह की मुश्किलें थी जिनसे निकलते हुए उन्होंने यह मुकाम हासिल किया। जैसे ही क्वार्टरफाइनल में रेफरी ने जीत के लिए लवलीना का हाथ उठाया, उनकी एक बड़ी चीख निकल गई जो खुशी की लहर में उनकी भावनाओं को बयां कर रही थी।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Friday, July 30, 2021, 15:28 [IST]
Other articles published on Jul 30, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X