अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने किया वायदा, महिलाओं को खेल में ऊपर उठाएंगे

नई दिल्लीः अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) के अध्यक्ष अज़ीज़ुल्लाह फाजली ने कहा है कि एसीबी देश में महिलाओं के खेल को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है और उम्मीद करता है कि नवंबर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनका एकमात्र टेस्ट आगे बढ़ेगा।

ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड ने कहा था कि महिला क्रिकेट के विकास को बढ़ावा देना उसके लिए जरूरी है और वह अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड से बहुत खुश नहीं है क्योंकि तालिबान की सरकार आने के चलते महिला क्रिकेट का भविष्य चौपट होता लगता है, लेकिन फाजली ने कहा कि सीए के साथ थोड़ी गलतफहमियां हो गई हैं जिनको दूर किया जा रहा है।

फाजली ने रॉयटर्स को बताया, "हमने आधिकारिक तौर पर उनके साथ बात की और टेस्ट मैच के मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा।"

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के एक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि वे "एसीबी के साथ नियमित बातचीत" कर रहे थे, लेकिन कहा कि, जैसा कि चीजें हैं, होबार्ट टेस्ट पर बोर्ड की स्थिति पिछले सप्ताह से नहीं बदली है।

यह विवाद तब पैदा हुआ जब तालिबान के एक प्रतिनिधि ने पिछले हफ्ते ऑस्ट्रेलियाई प्रसारक एसबीएस से कहा कि उन्हें नहीं लगता कि महिलाओं को क्रिकेट खेलने की अनुमति दी जाएगी क्योंकि यह जरूरी नहीं है और यह इस्लाम के खिलाफ होगा।

दिग्गज श्रीलंकाई गेंदबाज लसिथ मलिंगा ने लिया क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यासदिग्गज श्रीलंकाई गेंदबाज लसिथ मलिंगा ने लिया क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास

तालिबान के सत्ता में आने के बाद पिछले महीने एसीबी अध्यक्ष के रूप में वापसी करने वाले फाजली ने कहा कि उन्हें अभी भी महिला क्रिकेट के भविष्य पर सरकार के निर्देशों का इंतजार है।

प्रशासक ने कहा, "अफगानिस्तान की नई सरकार अपने प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों पर ध्यान केंद्रित कर रही है।"

"उन्होंने हमें महिला क्रिकेट के बारे में कुछ नहीं बताया (लेकिन) हम महिला क्रिकेट को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।"

दो दशक पहले जब तालिबान ने आखिरी बार अफगानिस्तान पर शासन किया था, तब लड़कियों को स्कूल जाने तक की अनुमति नहीं थी और महिलाओं को काम और शिक्षा से प्रतिबंधित कर दिया गया था।

गवर्निंग इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) नवंबर में अपनी अगली बोर्ड बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा करेगी।

ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन ने पिछले हफ्ते कहा था अफगानिस्तान का महिलाओं के प्रति ऐसा रवैया रहा तो दुनिया के बड़े क्रिकेट देश उनके साथ खेलने से इंकार कर सकते हैं जिसमें टी20 वर्ल्ड कप भी शामिल हैं।

फाजली ने हालांकि ऐसी किसी संभावना से इंकार किया। उन्होंने कहा, "टी20 विश्व कप में अफगानिस्तान की भागीदारी को कोई खतरा नहीं है।"

"हम पहले से ही तैयारी शुरू कर रहे हैं। एक पूर्ण सदस्य टीम के रूप में, अन्य पूर्ण सदस्य देशों के साथ हमारे अंतरराष्ट्रीय संबंध बहुत अच्छे हैं।"

एसीबी को एक झटका तब लगा था जब राशिद खान ने टी 20 विश्व कप टीम के कप्तान के रूप में पद छोड़ दिया, यह कहते हुए कि चयनकर्ताओं ने टीम चुनने से पहले उनसे सलाह नहीं ली थी।

फाजली ने कहा कि साथी ऑलराउंडर मोहम्मद नबी अब संयुक्त अरब अमीरात में टीम की अगुवाई करेंगे।

उन्होंने कहा, "मोहम्मद नबी टीम के सीनियर खिलाड़ी हैं और अब वह कप्तान हैं। वह अपनी टीम के सदस्यों को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं।"

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Tuesday, September 14, 2021, 20:45 [IST]
Other articles published on Sep 14, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X