बीसीसीआई होगा मालामाल, आईपीएल की 2 नई टीमों से बरसेगा इतना पैसा

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) मालामाल होने जा रहा है। सोमवार को बोली प्रक्रिया शुरू होने पर दो नई इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फ्रेंचाइजी से 7000 करोड़ रुपए से 10,000 करोड़ रुपये तक जाने की उम्मीद कर रहा है। यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि बीसीसीआई बोलियों का तकनीकी मूल्यांकन करने के बाद सोमवार को ही सफल बोली लगाने वालों की घोषणा करेगा या नहीं। कुल 22 कंपनियां हैं, जिन्होंने 10 लाख रुपए के टेंडर दस्तावेज लिए हैं, लेकिन नई टीमों के लिए बेस प्राइस 2000 करोड़ रुपए रखा गया है। यानी कि बोली की शुरूआत 2000 करोड़ से शुरू होगी। ऐसे में केवल पांच से छह कंपनियों द्वारा बड़ी बोली लगाने वालों के होने की उम्मीद है।

इसके अलाव बीसीसीआई फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाने के लिए तीन कंपनियों/व्यक्तियों के एक संघ को भी अनुमति दे रहा है। हालांकि, किसी व्यक्ति या कंपनी के मामले में, उस विशेष इकाई का वार्षिक कारोबार न्यूनतम एनआर 3000 करोड़ होना चाहिए और कंसोर्टियम के मामले में तीनों संस्थाओं में से प्रत्येक का हर साल का कारोबार 2500 करोड़ रूपए होना चाहिए। ऐसे में माना जा रहा है कि भारत के सबसे अमीर बिजनेस टाइकून में से एक गौतम अडानी और उनके अदानी समूह से अहमदाबाद फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाने की उम्मीद है। अदानी समूह, यदि वे अंततः बोली लगाते हैं, तो वे एक नई फ्रेंचाइजी के मालिक होने के लिए पसंदीदा हैं।

यह भी पढ़ें- 'बाबर आजम उन तक नहीं पहुंच सकते', आकाश चोपड़ा ने इसे बताया 'सुपरस्टार'

इसी तरह, अरबपति संजीव गोयनका के प्रमुख आरपीएसजी समूह को भी नई फ्रेंचाइजी के लिए बड़ी बोली लगाते देखा जा सकता है। सूत्रों के अनुसार, "गौतम अडानी और संजीव गोयनका भारतीय उद्योग में सबसे बड़े नाम हैं। वे बड़ी बोली लगाने वालों में शामिल होंगे। ये 3500 करोड़ तक जा सकते हैं। यह नहीं भूलना चाहिए कि आईपीएल प्रसारण अधिकार लगभग 5 बिलियन अमरीकी डालर यानी कि 36,000 करोड़ के हैं।''

बीसीसीआई के एक अंदरूनी सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, "इसलिए अर्थशास्त्र उसी के अनुसार काम करेगा क्योंकि फ्रेंचाइजी को टीवी राजस्व का हिस्सा समान रूप से मिलता है।" गोयनका दो साल के लिए पुणे फ्रेंचाइजी राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स (आरपीएस) के मालिक रहे हैं और आईएसएल फ्रेंचाइजी एटीके मोहन बागान के मालिक भी हैं। इसके अलावा मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक अवराम ग्लेज़र के स्वामित्व वाले लांसर समूह ने भी बोली दस्तावेज उठाया है। बाकी को रेस में कंपनियां जो मैदान में हैं, उनमें कोटक समूह, फार्मास्युटिकल प्रमुख अरबिंदो फार्मा और टोरेंट समूह शामिल हैं।

सूत्र के अनुसार भारत का कोई पूर्व सलामी बल्लेबाज किसी ऐसी कंपनी में शामिल हो सकता है जिसके नई फ्रेंचाइजी के लिए गंभीर बोली लगाने वाले होने की उम्मीद है। सूत्र ने कहा, "हां, भारत का एक पूर्व सलामी बल्लेबाज लगभग 300 करोड़ रुपए खर्च करने और अल्पसंख्यक हिस्सेदारी खरीदने के लिए तैयार है। वह जिस कंपनी का हिस्सा है, वह एक नई टीम के लिए सफलतापूर्वक बोली लगाने में सक्षम है। वह एक व्यापारिक परिवार से आता है और वह एक क्रिकेट टीम में निवेश करना चाहता है।'' इसके अलावा अभी तक इस तरह की कोई पुष्टि नहीं हुई है कि बॉलीवुड जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह वे एक अल्पसंख्यक हितधारक या एक नई फ्रेंचाइजी के ब्रांड एंबेसडर होंगे।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Read more about: bcci ipl 2022 cricket
Story first published: Sunday, October 24, 2021, 18:55 [IST]
Other articles published on Oct 24, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X