कोहली-शास्त्री के युग में इन 3 खिलाड़ियों का क्रिकेट करियर लगभग हुआ खत्म

स्पोर्ट्स डेस्क(नोएडा)। भारतीय क्रिकेट में विराट कोहली-रवि शास्त्री के युग का अंत हो चुका है। शास्त्री ने बताैर मुख्य कोच आखिरी बार आईसीसी टी20 विश्व कप में अपनी भूमिका निभाई तो विराट कोहली ने अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में बताैर कप्तान आखिरी टूर्नामेंट खेला। अब दोनों की जुगलबंदी मैदान पर भारतीय टीम की जीत के लिए रणनीति बनाते हुए नहीं दिखाई देगी। इन दोनों ने मिलकर पिछले चार सालों में भारतीय क्रिकेट में काफी कुछ बदल दिया। नए चेहरे टीम में आते दिखे तो विदेशी पिचों पर लगातार जीत का स्वाद भी चखने को मिला। शास्त्री-कोहली के युग में भारतीय टीम ने 42 में से 24 टेस्ट मैचों में जीत हासिल की तो वहीं 79 वनडे में से 53 में जीत दर्ज की। इसके अलावा टी20आई की बात करें तो भारतीय टीम 67 मैच खेली, जिसमें 43 मैच जीते। कुल मिलाकर कोहली-शास्त्री के युग में भारतीय टीम का सभी फाॅर्मेट में जीत का प्रतिशत 65 फीसदी रहा। साथ इन दोनों के युग के 24 युवाओं को वनडे में डेब्यू करने का माैका मिला। टेस्ट में 14 खिलाड़ियों को डेब्यू करते देखा गया तो 22 युवा टी20 क्रिकेट में डेब्यू करते दिखे। हालांकि इस समय के बीच 3 खिलाड़ी ऐसे भी रहे हैं, जिनका क्रिकेट करियर लगभग खत्म हो गया।

यह भी पढ़ें- T20 World Cup : माईखेल हिंदी ने चुनी 'बेस्ट प्लेइंग इलेवन', सिर्फ 1 भारतीय को मिली जगह

1. विजय शंकर (उम्र 30 साल)

1. विजय शंकर (उम्र 30 साल)

साल 2019 वनडे विश्व कप से पहले विजय शंकर की अचानक टीम में एंट्री हुई थी। इस ऑलराउंडर को जनवरी महीने ऑस्ट्रेलिया दाैरे के लिए चुना गया था। इस दाैरे पर तीन वनडे मैचों की सीरीज के आखिरी मैच में विजय का डेब्यू करवाया गया। हालांकि मार्च 2018 में ही उन्हें श्रीलंका के खिलाफ टी20 मैच भी खेलने को मिल गया। विजय को लेकर कई दिग्गजों ने बड़े दावे किए। कहा जाने लगा कि विजय शंकर के आने से हार्दिक पांड्या की छुट्टी हो जाएगी। हद तो तब हो गई जब विजय के चलते आईसीसी वनडे विश्व कप 2019 के लिए भारतीय टीम से अंबाती रायुडू की छुट्टी हो गई थी। सवाल उठे तो चयनकर्ताओं ने जवाब दिया कि विजय शंकर तो 'थ्री डी प्लेयर' है। यानि कि हर चीज में सबसे आगे, लेकिन हुआ ऐसा कि ये खिलाड़ी जितना जल्दी ऊभरा, उतनी ही जल्दी सुर्खियों से बाहर भी हो गया। उनका आखिरी वनडे 2019 के विश्व कप में विंडीज के खिलाफ था। इस मैच में उन्होंने चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 18 रन बनाए थे। इसके बाद उन्हें चोटों का सामना करना पड़ा और फिर टीम में कभी वापसी नहीं कर पाए। विजय ने आखिरी टी20आई मैच 27 फरवरी 2019 को खेला था। विजय ने 12 वनडे मैचों में 4 विकेट लेकर 223 रन बनाए हैं, जबकि 9 टी20आई मैचों में 5 विकेट लेकर 101 रन बनाए। दो साल हो बीत जाने के बाद अब विजय की वापसी की उम्मीद नहीं दिख रही है। 30 साल के विजय के सामने कई चुनाैतियां हैं। ऑलराउंडर के रूप में माैजूदा समय हार्दिक पांड्या, शार्दुल ठाकुर, वेंकटेश अय्यर जैसे खिलाड़ी हैं जो गेंदबाजी के साथ-साथ बैटिंग में भी भूमिका निभाते हैं। ऐसे में विजय का क्रिकेट करियर अब लगभग खत्म दिख रहा है।

2. फैज फजल (उम्र 36 साल)

2. फैज फजल (उम्र 36 साल)

ये वो खिलाड़ी है, जिसको आज तक पता नहीं चल पाया कि अचानक टीम में जगह मिलने के बाद फिर अचानक नजरअंदाज भी क्यों कर दिया गया। साल 2016 में जून का महीना था जब ओपनर फैज को विंडीज दाैरे के लिए चुना गया था। तीन वनडे मैचों की सीरीज के पहले दो मैचों में उनको जगह नहीं मिली थी, लेकिन तीसरे मैच में करूण नायर को बाहर कर फैज को माैका दिया गया। फैज ने ओपनिंग करते हुए फैज ने 61 गेंदों में नाबाद 55 रनों की पारी खेली, साथ ही केएल राहुल के साथ मिलकर भारत को 10 विकेट से जीत दिला दी। लेकिन जुलाई महीने भारतीय टीम के नए कोच रवि शास्त्री बने थे। फैज को उम्मीद थी कि उन्हें विदेशी धरती पर शानदार पारी खेलने का तोहफा फिर टीम में शामिल होकर मिलेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कोहली-शास्त्री के युग में इस खिलाड़ी को फिर जगह बनाने का माैका नहीं मिला। नागपुर में जन्मे फैज के बाद 27 खिलाड़ियों को वनडे में डेब्यू करने का माैका मिल गया, लेकिन नागपुर में जन्मे इस खिलाड़ी को फिर माैका नहीं मिला। अब 36 साल के हो चुके फैज को आज तक भी यह नहीं बताया गया कि वो क्यों फिर से टीम में नहीं चुने गए। इसका जवाब, कोच शास्त्री व कोहली के अलावा बीसीसीआई के पास भी होगा, लेकिन वो जवाब सामने नहीं आ सका। अब फैज का क्रिकेट करियर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए पूरी तरह खत्म है।

3. करुण नायर (उम्र 29 साल)

3. करुण नायर (उम्र 29 साल)

करुण नायर टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए तिहरा शतक जड़ने वाले पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के बाद दूसरे बल्लेबाज हैं। करुण नायर को नवंबर 2016 को इंग्लैंड दाैरे के लिए चुना गया था। यहां भारत ने 5 मैचों की टेस्ट सीरीज खेली। नायर को सीरीज के तीसरे मैच में माैका मिला, लेकिन वह कुछ कमाल नहीं कर पाए थे। दो टेस्ट की तीन पारियों में वह 17 रन ही बना सके, लेकिन आखिरी टेस्ट में उनका बल्ला चला जहां उन्होंने 32 चाैकों व 4 छक्कों की मदद से नाबाद 303 रन बना दिए। फिर नायर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने का माैका मिला जिसमें वह 4 पारियों में सिर्फ 54 रन बी बना सके। इसके बाद नायर को टीम से बाहर कर दिया। नायर ने आखिरी टेस्ट मार्च 2017 में खेला। उन्होंने 2 वनडे मैच भी खेले, जिसमें वह 46 रन ही बना सके। आखिरी वनडे उनका 13 जून को 2016 जिम्बाव्बे के खिलाफ था। कोहली-शास्त्री के युग में जहा हार्दिक पांड्या-रिषभ पंत, अजिंक्य रहाणे, केएल राहुल को बार-बार फ्लाॅप होने के बावजूद कई माैके दिए गए तो वहीं नायर को कोई दोबारा माैका नहीं मिला। नायर को भी अगर माैके मिलते तो शायद वह लय हासिल कर लेते, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अब 29 साल के नायर के लिए भारतीय टीम में वापसी करना बेहद मुश्किल है। वह घरेलू क्रिकेट में भी फ्लाॅप चल रहे हैं, जिसे देख यह कहना गलत नहीं होगा कि उनका राष्ट्रीय क्रिकेट करियर लगभग खत्म है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, November 17, 2021, 18:36 [IST]
Other articles published on Nov 17, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X