हैप्पी बर्थडे भज्जीः टेस्ट क्रिकेट में हरभजन सिंह की टॉप-5 परफॉरमेंस

Harbhajan Singh Birthday: Indian cricketer, Biography, Career, Spin bowler | वनइंडिया हिंदी

नई दिल्लीः हरभजन सिंह की काबिलियत पर कभी कोई शक नहीं है और भारतीय क्रिकेट में उनका नाम सुनहरे अक्षरों में दर्ज रहेगा। भज्जी ने अपना डेब्यू 1998 में किया था और अंतिम टेस्ट मैच खेले जाने तक उन्होंने 103 मुकाबले खेले जिसमें 417 टेस्ट विकेट हासिल किए। आज हरभजन सिंह 41 साल के हो गए हैं और इस अवसर पर हम टेस्ट मैचों में उनके द्वारा की दर्ज की गई 5 बेस्ट परफारमेंस पर निगाह डालेंगे।

1. हैमिल्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ 63 रन देकर छह विकेट-

1. हैमिल्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ 63 रन देकर छह विकेट-

हरभजन सिंह ने इस मैच में न्यूजीलैंड का बुरा हाल कर दिया था। यह तीन टेस्ट मैचों की सीरीज थी और पहले मैच की दूसरी पारी चल रही थी तब न्यूजीलैंड केवल 279 रन बनाकर आउट हो गया। हरभजन ने 28 ओवर में 63 रन देकर 6 विकेट हासिल किए थे। भज्जी की शानदार गेंदबाजी के दम पर भारत ने यह मुकाबला 10 विकेट से जीतने में कामयाबी हासिल की थी।

विराट कोहली में है बाकी 10 लड़कों को साथ लेकर चलने की जबरदस्त काबिलियत- केएल राहुल

2. कोलकाता में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 8 विकेट-

2. कोलकाता में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 8 विकेट-

भारत-दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेला था जिसका पहला मुकाबला एक पारी और 6 रन से वह हार चुका था। ऐसे में जब दूसरा टेस्ट मैच स्टार्ट हुआ तो हरभजन ने पहली पारी में 3 विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका को 296 रनों पर रोक दिया लेकिन यह अफ्रीका की दूसरी पारी थी जिसमें हरभजन ने 59 रन देकर पांच विकेट लिए और भारत को यह मैच एक पारी और 57 रनों से जिताने में मदद की।

3. चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रसिद्ध 15 विकेट-

3. चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रसिद्ध 15 विकेट-

असल में हरभजन सिंह को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यादगार प्रदर्शन के कारण ज्यादा याद किया जाता है और ऐसी ही एक परफॉर्मेंस उन्होंने चेन्नई 2001 में दी थी। उन्होंने पहली पारी में 133 रन देकर सात विकेट लिए और दूसरी पारी में 84 रन देकर 8 विकेट लिए जिसके दम पर भारत ने सीरीज का निर्धारण करने वाला यह मैच 2 विकेट से जीत लिया था।

4. ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ ईडन गार्डन में 13 विकेट-

4. ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ ईडन गार्डन में 13 विकेट-

यह आस्ट्रेलिया के खिलाफ 2001 में हुई सीरीज का ही दूसरा मैच था जिसमें कंगारुओं ने पहली पारी में 445 रनों का स्कोर टांग दिया था लेकिन हरभजन 7 विकेट लेने में कामयाब रहे थे। यह हरभजन का दूसरी पारी में किया गया प्रदर्शन था जिसमें उन्होंने 6 विकेट केवल 73 रन देकर लिए और कंगारुओं को 212 रनों पर ढेर कर दिया। भज्जी के इस प्रदर्शन के दम पर भारत ने अहम मैच 171 रनों से जीत कर श्रंखला में 1-1 से वापसी कर ली थी।

5. वेस्टइंडीज के खिलाफ मुंबई में 48 रन देकर सात विकेट-

5. वेस्टइंडीज के खिलाफ मुंबई में 48 रन देकर सात विकेट-

यह मुकाबला मुंबई में 2002 में हो रहा था और वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट था जिसमें भारत ने पहली पारी में 457 रन बना लिए थे। अगली दो पारियों में हरभजन सिंह ने कमाल का काम किया और विंडीज टीम को 157 व 188 रनों के स्कोर पर ढेर कर दिया। हरभजन ने दूसरी पारी में फिर से कमाल किया और रन 48 रन देकर 7 विकेट चटकाए।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, July 3, 2021, 10:45 [IST]
Other articles published on Jul 3, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X