किस तरह 'द वॉल' राहुल द्रविड़ बन गए भारतीय क्रिकेट टीम की नींव

How Rahul Dravid impacts Indian Cricket in various aspect नई दिल्लीः जब ऋषभ पंत (Rishabh Pant) और वाशिंगटन सुंदर (Washington Sundar) मंगलवार को ब्रिस्बेन में भारत को आगे बढ़ा रहे थे, तो वे राहुल द्रविड़ द्वारा पोषित भारतीय क्रिकेट की अगली पीढ़ी का भी प्रतिनिधित्व कर रहे थे। पंत और वाशिंगटन द्रविड़ के पहले बैच के शागिर्द हैं। शुभमन गिल (Shubhman Gill) और पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) दूसरे बैच में थे। लगभग 6 साल हो चुके हैं जब द्रविड़ ने अंडर -19 और भारत 'ए' कार्यक्रमों की कमान संभाली थी। संक्षेप में, भारत की बड़ी बेंच स्ट्रेंथ का निर्माण 'द वॉल' द्वारा किया गया है।

मौजूदा भारतीय क्रिकेट पर राहुल द्रविड़ की छाप-

मौजूदा भारतीय क्रिकेट पर राहुल द्रविड़ की छाप-

अब बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) (NCA) के निदेशक, द्रविड़, भारत के पूर्व तेज गेंदबाज पारस महाम्ब्रे के साथ, युवा खिलाड़ियों को संवारने के लिए अधिक अकादमिक दृष्टिकोण लाए हैं। हाई-एंड तकनीक और सुविधाओं के साथ, सभी क्षेत्रों में U-19 टीमों के प्रत्येक खिलाड़ी की साप्ताहिक रिपोर्ट तैयार रहती है और भारत 'A' के खिलाड़ियों के साथ भी यही स्थिति है। द्रविड़ ने सुनिश्चित किया है कि 30 प्रतिशत अनुबंधित खिलाड़ियों से परे जाकर भी बीसीसीआई के कार्यभार प्रबंधन के लिए एक पूल का विस्तार हो।

भारत वापस लौटे ऋषभ पंत, ट्रॉफी जीतने पर कहा- मैं और टीम हैं बहुत-बहुत खुश

'उद्देश्य खिलाड़ियों का पता लगाना और उन्हें तैयार करना था'

'उद्देश्य खिलाड़ियों का पता लगाना और उन्हें तैयार करना था'

एनसीए में प्रत्येक खिलाड़ी की साप्ताहिक रिपोर्ट उनके कौशल विकास, तकनीक और शारीरिक फिटनेस को कवर करती है। उदाहरण के लिए, लॉकडाउन में अगर एक अंडर -19 बल्लेबाज के फॉर्म को देखना है तो चैक किया जाएगा कि उसने इस सप्ताह एक निश्चित शॉट कैसे खेला है, जबकि वह एक सप्ताह पहले इस शॉट पर क्या कर रहा था। फिर आंकड़ों में ये दर्ज किया जाता है कि शॉट कितनी दूर यात्रा कर रहा था, क्या वह सही कोणों को मार रहा था, कितनी बार वह शॉट को गलत कर रहा है और अपनी तकनीक में बदलाव कर रहा है।

किस तरह से एक खिलाड़ी को 'टफ' बनाया जाता है-

किस तरह से एक खिलाड़ी को 'टफ' बनाया जाता है-

एक सिमुलेशन सत्र होता है जिसमें असली मैच जैसी स्थितियां बनाई जाती है और देखा जाता है इस सत्र के दौरान खिलाड़ी मैच स्थितियों का जवाब कैसे दे रहे हैं, इस पर भी रिपोर्टें हैं। भारत 'ए' के ​​लिए खेलने वाले खिलाड़ियों के लिए एक कार्यभार प्रबंधन प्रणाली और डेटाबेस है। ऐसे उदाहरण हैं जब मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) और मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) जैसे भारत ए के नियमित खिलाड़ियों को किसी खास 'ए' दौरे के लिए आराम दिया गया था, क्योंकि वे घरेलू सत्र में पसीना बहा रहे थे। कुल मिलाकर हर तरह के अनुभव और परिस्थितियों में खिलाड़ियों को ढाला गया और उनका माइंडसेट मजबूत किया गया।

चयन नीति में बड़ा बदलाव 2016 में देखने को मिला-

चयन नीति में बड़ा बदलाव 2016 में देखने को मिला-

दूसरी और चयन नीति में सबसे बड़ा बदलाव 2016 में हुआ जब एक 33 वर्षीय नमन ओझा को भारत 'ए' दौरे के लिए ऑस्ट्रेलिया जाने के लिए उड़ान भरने से रोका गया और संजू सैमसन (Sanju Samson) को लाया गया। नीति स्पष्ट थी: 'ए' टूर हैं और युवा खिलाड़ियों को अगले स्तर के लिए तैयार होना चाहिए।

भारत के पूर्व चयनकर्ता देवांग गांधी ने टीओआई को बताया, "इसका उद्देश्य खिलाड़ियों का पता लगाना और उन्हें तैयार करना था। ऐसे खिलाड़ी थे जो भारत के लिए खेले थे, लेकिन हमने उन्हें 'ए' दौरों के लिए नहीं चुना। हमने पहले ही उन्हें देख लिया है। यदि वे घरेलू प्रदर्शन करते हैं और अगर राष्ट्रीय टीम में कोई स्थान होता है, तो उन्हें घरेलू प्रदर्शन पर चुना जाएगा। "

राहुल द्रविड़- BCCI, सेलेक्टर्स और NCA के बीच की कढ़ी

राहुल द्रविड़- BCCI, सेलेक्टर्स और NCA के बीच की कढ़ी

गांधी ने बताया कि द्रविड़ अपने विचारों में स्पष्ट थे। उन्होंने चयनकर्ताओं को अपना काम करने दिया और कभी खुद को उन पर नहीं थोपा।

गांधी ने कहा, "द्रविड़ ने हम पर भरोसा किया। उन्होंने हमेशा चयनकर्ताओं के फैसले पर भरोसा किया। यहां तक ​​कि दौरे पर भी, वह सुझावों के लिए खुले थे। हम उनके साथ बातचीत करते थे कि वरिष्ठ टीम को वास्तव में क्या चाहिए और वह इसको अमलीजामा पहनाने का काम शुरू कर देते थे।"

ऑस्ट्रेलिया दौरा बीसीसीआई, चयनकर्ताओं और एनसीए द्वारा लगाए गए सभी कार्यों का प्रतिबिंब था। BCCI ने NCA और 'A' टूर के लिए दो बार अपना बजट बढ़ाया है। चयनकर्ताओं ने सुनिश्चित किया कि तराशने के लिए पर्याप्त लोगों की पहचान की जाए और एनसीए ने सुनिश्चित किया है कि किसी भी बिंदु पर भारत के लिए मैदान पर उतरने के लिए पर्याप्त खिलाड़ी तैयार हैं।

खास बात यह है कि राहुल द्रविड़ इन तीनों क्षेत्रों के बीच एक लिंक का काम करते रहे हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, January 21, 2021, 11:06 [IST]
Other articles published on Jan 21, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X