IND vs AUS : भारत को अगर जीतना है तीसरा टेस्ट, तो इन 3 खिलाड़ियों को करना होगा सुधार

India vs Australia 3rd Test : नई दिल्ली। भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरा टेस्ट जीता, जिसके साथ ही 4 टेस्ट मैचों की श्रृंखला 1-1 से बराबरी पर पहुंची। भले ही भारतीय टीम (Team India) इस मैच को जीत गई, लेकिन भारतीय टीम को कुछ चीजों में सुधार करने की जरूरत है। जो भारतीय टीम के श्रृंखला जीतने के सपने को चकनाचूर कर सकता है। क्योंकि ऐसे कई खिलाड़ी हैं। जिन्होंने अपने प्रदर्शन से निराश किया है।

पहले मैच की दोनों पारियों में भारतीय टीम की फील्डिंग खराब रही। जिसमें भारतीय खिलाड़ियों ने कई आसान कैच छोड़े। जिसके कारण भारतीय टीम को नुकसान उठाना पड़ा। लेकिन दूसरे मैच में भारतीय टीम ने अच्छी वापसी की और जीत हासिल की। हालांकि, कुछ खिलाड़ी दोनों मैचों में असफल रहे। उन्हें समय रहते अपने प्रदर्शन में सुधार करना होगा। अन्यथा, उनका खराब प्रदर्शन भारतीय टीम पर भारी पड़ सकता है।

1. चेतेश्वर पुजारा
वर्तमान में, भारत के प्रमुख बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा अपने करियर के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे हैं। चेतेश्वर पुजारा का नाम ऑस्ट्रेलिया के पिछले दौरे के दौरान प्रसिद्ध हुआ था। हालांकि, वह इस श्रृंखला में पूरी तरह से विफल रहे हैं। 32 साल के पुजारा ने पिछली 17 पारियों में शतक नहीं बनाया है। आखिरी शतक उन्होंने दो साल पहले 2018 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर लगाया था। चेतेश्वर पुजारा ने वर्तमान में चल रही दो मैचों की टेस्ट सीरीज की चार पारियों में बल्लेबाजी की है। उन्होंने क्रमशः 17, 3, 43 और 0 रन बनाए हैं। तो यह भारतीय टीम के लिए एक बड़ा सिरदर्द होने वाला है।

Flashback 2020 : वो 3 बाॅलर, जिन्होंने T-20 अंतर्राष्ट्रीय में सबसे ज्यादा मेडन ओवर डालेFlashback 2020 : वो 3 बाॅलर, जिन्होंने T-20 अंतर्राष्ट्रीय में सबसे ज्यादा मेडन ओवर डाले

2. मयंक अग्रवाल
अगर सलामी बल्लेबाज अच्छा प्रदर्शन करता है, तो मध्यक्रम के बल्लेबाजों पर कोई दबाव नहीं होता है। लेकिन भारत के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल दोनों टेस्ट में बुरी तरह से विफल रहे। उन्होंने चार पारियों में 17, 9, 0 और 5 रन बनाए हैं। इसलिए वह इस सीरीज में गोल करने में नाकाम रहे हैं। इसलिए, इस खिलाड़ी की विफलता भारतीय टीम के लिए एक समस्या हो सकती है।

3. हनुमा विहारी
हनुमा विहारी ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत 2018 के इंग्लैंड दौरे से की। उन्होंने ओपनर से लेकर मिडिल ऑर्डर तक आखिरी विकेट तक बल्लेबाजी की। उन्होंने बल्लेबाजी करते हुए भी हर जगह रन बनाए थे। हालांकि, वह श्रृंखला के पहले दो मैचों में अपनी छाप नहीं छोड़ सके।उन्होंने पहले दो मैचों में तीन पारियों में सिर्फ 45 रन बनाए हैं। इसके अलावा जिस क्षण टीम को और अधिक की जरूरत थी। टीम उसी जगह के खराब प्रदर्शन से निराश है। इसलिए, उन्हें भारतीय टीम के लिए एक समस्या निवारक की भूमिका निभाते हुए नहीं देखा गया था।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, December 30, 2020, 14:56 [IST]
Other articles published on Dec 30, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X