IND vs NZ: भारत की शर्मनाक हार पर युजवेंद्र चहल का 'बेशर्म' बयान, कहा- क्लीन स्वीप से चिंता नहीं

नई दिल्ली। भारत और न्यूजीलैंड के मंगलवार को समाप्त हुए 3 मैचों की वनडे सीरीज में कीवी टीम ने विराट सेना का सूपड़ा 3-0 से साफ कर दिया और 31 साल बाद भारत को विदेशी सरजमीं पर ऐसी शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। हालांकि भारत की इस शर्मनाक हार पर टीम के लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल का मानना है कि इस क्लीनस्वीप को इतनी तवज्जो नहीं देने चाहिये क्योंकि पिछले 5 साल में हमने इतनी अधिकर निरंतरता दिखाई है कि इस वनडे सीरीज में हार चिंताजनक नहीं है।

और पढ़ें: IND vs NZ: इन 5 कारणों के चलते भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ गंवाई सीरीज

बे-ओवल के मैदान पर खेले गये तीसरे मैच में कीवी टीम ने भारतीय टीम को 5 विकेट से हराकर सीरीज को 3-0 से जीत लिया। आखिरी वनडे मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 296 रन बनाये जिसे कीवी टीम ने 17 गेंद पहले 5 विकेट खोकर हासिल कर लिया।

और पढ़ें: IND vs NZ: विराट कोहली, शिखर धवन को पीछे छोड़ नंबर 1 बने श्रेयस अय्यर, बनाया बड़ा रिकॉर्ड

वनडे सीरीज में हार इतनी गंभीर नहीं कि विचार किया जाये

वनडे सीरीज में हार इतनी गंभीर नहीं कि विचार किया जाये

मैच के बाद मीडिया से बात करते हुए युजवेंद्र चहल ने कहा कि कीवी टीम के खिलाफ मिली 3-0 से हार कोई बड़ी बात नहीं है और न ही इतनी गंभीर मसला है जिस पर मंथन करने की जरूरत है।

चहल ने कहा, ‘कुल मिलाकर अगर आप देखो तो पिछले चार-पांच साल में हमने सिर्फ चौथी या पांचवीं सीरीज गंवाई है। दूसरी टीम भी खेलती है। आप प्रत्येक मैच नहीं जीत सकते। हमने एक सीरीज जीती, दूसरी हार गए, इसलिए यह हार इतनी गंभीर नहीं है कि जिस पर बैठकर मंथन किया जाए।'

कीवी दौरे से काफी कुछ सीखेंगे युवा खिलाड़ी

कीवी दौरे से काफी कुछ सीखेंगे युवा खिलाड़ी

युजवेंद्र चहल ने कीवी दौरे पर अब तक खेले गये मैचों को लेकर कहा कि न्यूजीलैंड में खेलने के अनुभव से हमारी टीम के युवा खिलाड़ी काफी कुछ सीखेंगे। यहां खेलना आसान नहीं होता।

उन्होंने कहा, ‘ न्यूजीलैंड में खेलना आसान नहीं होता। पहली बार वनडे टीम में डेब्यू करने के लिये पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल को भारत के बाहर खेलने का मौका मिला। यह इन खिलाड़ियों के लिये काफी अनुभव देने वाला रहेगा। हमने पहली बारी न्यूजीलैंड में टी20 श्रृंखला 5-0 से जीती, जो कि हमारे लिए भी सकारात्मक पक्ष है। कुल मिलाकर देखें तो यह सिर्फ एक वनडे श्रृंखला थी। '

राहुल-अय्यर से मजबूत हुआ भारत का मध्यक्रम

राहुल-अय्यर से मजबूत हुआ भारत का मध्यक्रम

ओवल के मैदान पर भारतीय टीम के लिये विकेटकीपर बल्लेबाज लोकेश राहुल ने जहां करियर का चौथा वनडे शतक लगाया वहीं श्रेयस अय्यर ने भी सीरीज का दूसरा अर्धशतक लगाया। मैच के बाद चहल ने दोनों के खेल की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने बेहतरीन प्रयास किया।

उन्होंने कहा, ‘आप उनके अंदर आत्मविश्वास देख सकते हो। वे 25-26 साल के हैं और परिपक्वता के साथ बल्लेबाजी कर रहे हैं। वे स्थिति को अच्छी तरह समझते हैं। बीच के ओवरों में बल्लेबाजी करना आसान नहीं होता खासतौर से तब जब स्पिनर गेंदबाजी कर रहे हों। राहुल ने शीर्ष क्रम में भी बल्लेबाजी की है। इसलिए यह परिपक्वता दिखाता है कि उसे पता है कि टीम को क्या जरूरत है।'

भारतीय टीम की खराब फील्डिंग बन रही चिंता का सबब

भारतीय टीम की खराब फील्डिंग बन रही चिंता का सबब

युजवेंद्र चहल ने कीवी टीम की तारीफ करते हुए कहा कि वो हर विभाग में हमसे बेहतर खेले इसलिये सीरीज जीतने के हकदार थे। इस दौरान चहल ने भारतीय फील्डिंग के गिरते स्तर को चिंता का कारण बताते हुए कहा कि हमें इस पर काम करने की जरूरत है और ध्यान देना होगा कि हम क्या कर सकते हैं।

उन्होंने कहा, ‘कीवी टीम ने इस श्रृंखला में असाधारण प्रदर्शन किया। इसलिए हमें इसकी सराहना करनी होगी। हमारी तरफ से कई बार खराब फील्डिंग भी हुई। 10 में से एक श्रृंखला में ऐसा होता है, हमारे पास अगली एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला तक का समय है।'

चहल से जब यह पूछा गया कि विश्व कप के बाद वह और कुलदीप यादव एक साथ नहीं खेले हैं तो उन्होंने कहा, ‘रविंद्र जडेजा शानदार प्रदर्शन कर रहा है, फिर यह बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी या क्षेत्ररक्षण। इसलिए आधे मैच मैं खेलता हूं और आधे कुलदीप।'

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, February 12, 2020, 9:00 [IST]
Other articles published on Feb 12, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X