आशीष नेहरा ने कहा- ऋषभ पंत को सुधार के लिए समय देना होगा, हर कोई धोनी नहीं हो सकता

नई दिल्लीः धोनी के बारे में एक बात तो स्पष्ट नजर आती है, वह जहां होते हैं वहां पर कुछ अच्छा घटित होने लगता है। उनको किस्मत का धनी माना जाता है। पिछले साल उनकी किस्मत का बुझा सितारा इस साल फिर से चमका है। उन्होंने चेन्नई सुपर किंग्स को अंतिम दौर की लड़खड़ाहट के बाद ऐसे फाइनल में पहुंचाया मानो यह बच्चों का खेल हो। अब वे भारतीय टीम के साथ टी20 वर्ल्ड कप में भी मेंटर होंगे।

धोनी के सामने पंत और कोहली हैं जो अपनी टीमों के कप्तान हैं और टीम बहुत अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद खिताब की रेस से बाहर हो गए। सच में धोनी जैसे ना तो पंत हैं और ना कोहली।

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा को लगता है कि ऋषभ पंत की तुलना एमएस धोनी से करना अनुचित है। आशीष नेहरा ने क्रिकबज से बातचीत के दौरान कहा, "हर कोई एमएस धोनी नहीं हो सकता, जो सीधे 2007 में टी20 विश्व कप में आए और जीते। पंत को सुधार के लिए कुछ समय दें।"

पृथ्वी शॉ के बहे आंसू, पंत भी हुए इमोशनल, खिताब के करीब जाकर फिर दर्द लिए बाहर हुई DCपृथ्वी शॉ के बहे आंसू, पंत भी हुए इमोशनल, खिताब के करीब जाकर फिर दर्द लिए बाहर हुई DC

पंत के लिए वैसे चीजें चमत्कारी जाने लगी थी क्योंकि केकेआर की टीम की गाड़ी पूरी तरह पटरी से उतर चुकी थी लेकिन राहुल त्रिपाठी ने अंतिम गेंद पर छक्का लगाया और कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) ने बुधवार को शारजाह में दूसरे इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) क्वालीफायर में दिल्ली की राजधानियों (डीसी) को तीन विकेट से हराकर चेन्नई सुपर किंग्स के साथ खिताबी भिड़ंत को फिक्स कर दिया।

पंत की कप्तानी में डीसी ने राउंड रॉबिन लीग चरण को 20 अंकों के साथ समाप्त किया। हालांकि, वे अपने दोनों क्वालीफायर हार गए और टूर्नामेंट से बाहर हो गए। इन दोनों ही मैचों में दिल्ली की टीम आसानी से जीत भी सकती थी लेकिन उन्होंने नाजुक मौकों पर हाथ खड़े कर दिए।

पंत ने पिछले दो मैचों में कुछ रणनीतिक गलतियां की हैं, लेकिन आशीष नेहरा को लगता है कि वह बहुत युवा हैं और अगले सत्र में सुधार करेंगे।

आशीष नेहरा ने कहा, "पंत को अगले सत्र के लिए डीसी कप्तान के रूप में बनाए रखा जाना चाहिए। जितना अधिक वह खेलेगा, उतना ही बेहतर होगा। इस बारे में कोई संदेह नहीं है। वह जितनी जल्दी सीखता है, उसके लिए और फ्रेंचाइजी के लिए उतना ही अच्छा है। उन्होंने जो कुछ सामरिक गलतियां कीं, उन्हें अलग रखते हुए, वह कप्तान के रूप में अच्छे थे। "

गेंदबाजी करने का विकल्प चुनते हुए, केकेआर ने धीमी शारजाह ट्रैक पर दिल्ली को 5 विकेट पर 135 रनों पर सीमित करने के लिए एक और शानदार गेंदबाजी प्रदर्शन किया।

लेकिन वेंकटेश अय्यर (55) और शुभमन गिल (46) ने इसके बाद शुरुआती विकेट के लिए 96 रन की साझेदारी की जिसने इस मैच को जीतने में सबसे बड़ी भूमिका तैयार की है। बाद में दिल्ली फिसल गई लेकिन त्रिपाठी ने बेहद जरूरी छक्का जड़कर हार के जबड़े से जीत छीन ली।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, October 14, 2021, 13:37 [IST]
Other articles published on Oct 14, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X