CSK के खिलाफ जबरदस्त पारी के बाद पृथ्वी शॉ ने टीम इंडिया से बाहर होने का दर्द किया बयां

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को मुश्किल दौर से गुजरना पड़ा था। पहले टेस्ट मैच में पहली पारी में शून्य और दूसरी पारी में महज 4 रन बनाने के बाद शॉ को प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था। इसके बाद उनपर कई सवालिया निशान खड़े हो रहे थे, उनकी तकनीक पर सवाल हो रहे थे। लेकिन इन आलोचनाओं से निराश होने की बजाए पृथ्वी शॉ ने कड़ी मेहनत की और उनकी यह मेहनत विजय हजारे ट्रॉफी में दिखी। भारतीय क्रिकेट के इतिहास में उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में सर्वाधिक 800 रन ठोक डाले। यही नहीं आईपीएल के इस सीजन के पहले मुकाबले में भी शॉ ने जबरदस्त पारी खेली और 38 गेंदों पर 72 रन ठोक डाले, इस पारी में उन्होंने 9 चौके और तीन छक्के लगाए।

पहले मैच में जबरदस्त बल्लेबाजी

पहले मैच में जबरदस्त बल्लेबाजी

पृथ्वी शॉ और शिखर धवन की जबरदस्त पारी की बदौलत दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने चेन्नई सुपर किंग्स को पहले मुकाबले में 7 विकेट से हरा दिया। मैच में शिखर धवन व शॉ ने पहले विकेट के लिए 138 रन जोड़े। हालांकि शॉ अपने पहले आईपीएल शतक से चूक गए लेकिन वह अपनी पारी को लेकर काफी खुश हैं। मैच के बाद पृथ्वी शॉ ने कहा कि अच्छा महसूस हो रहा हैहर किसी ने अपना योगदान दिया, सीजन की यह अच्छी शुरुआत है। दूसरी पारी में बल्लेबाजी के लिए विकेट काफी अच्छी थी, हमने अच्छी तरह से इसका इस्तेमाल किया।

टीम से बाहर होने का दर्द बयां किया

टीम से बाहर होने का दर्द बयां किया

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम से बाहर किए जाने पर पृथ्वी शॉ ने कहा कि जब मुझे ऑस्ट्रेलिया में ड्रॉप किया गया था तो उसके बाद से मैं खुद की तकनीक पर काम कर रहा था। वापस आने के बाद मैंने विजय हजारे ट्रॉफी से पहले अपना अभ्यास प्रवीण आमरे के साथ शुरू कर दिया और अपनी खामियों पर काम किया। टूर्नामेंट की शुरुआत से पहले मेरी योजना अच्छी थी, लिहाजा अब यह मेरे पक्ष में काम कर रही है। जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया दौरे पर शॉ को आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा उसके बाद निराश होने की बजाए शॉ ने कड़ी मेहनत करने का रास्ता चुना।

अब वो सब बात नहीं करना चाहता

अब वो सब बात नहीं करना चाहता

पृथ्वी शॉ ने बताया कि मैं भारतीय टीम से बाहर किए जाने के बारे में फिर से नहीं सोचना चाहता हूं, मुझे नहीं पता है कि उसके बारे में क्या सोचना है क्योंकि मेरे लिए यह निराशाजनक पल था, लेकिन अब मुझे आगे बढ़ना है, अगर कुछ गलत है और मेरी बल्लेबाजी की तकनीक में कुछ खामी है तो मुझे उसे बेहतर करना है, मैं उसपर काफी कड़ी मेहनत कर रहा हूं। बता दें कि पृथ्वी शॉ का पिछला आईपीएल सीजन भी कुछ खास नहीं रहा था। कई बार शॉ शून्य के स्कोर पर आउट हुए थे, जिसकी वजह से उन्हें काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था।

इसे भी पढे़ं- पहले मैच में हार के साथ धोनी को दोहरा झटका, 12 लाख रुपए का लगा फाइन

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Sunday, April 11, 2021, 10:41 [IST]
Other articles published on Apr 11, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X