इस बार भी भारी पड़ी ये गलती- संजय मांजरेकर ने फिर उठाए रविंद्र जडेजा के चयन पर सवाल

Sanjay Manjrekar questions Ravindra Jadeja place in WTC Final Playing XI against NZ| वनइंडिया हिंदी

नई दिल्लीः रविंद्र जडेजा ने विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में निराश किया है। वे ना बॉलर नजर आए और ना ही बल्लेबाज, यहीं से एक विशुद्ध ऑलराउंडर और कुछ ही परिस्थितियों में कामयाब ऑलराउंडर के बीच फर्क दिखता है।

संजय मांजरेकर को लगता है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के लिए रवींद्र जडेजा को प्लेइंग इलेवन में शामिल करके से भारत एक चूक कर गया। जडेजा ने मैच में एक विकेट लिया और दोनों पारियों में 15 और 16 रन बनाए क्योंकि भारत एक ठोस स्कोर बनाने में विफल रहा, और मांजरेकर ने ऑलराउंडर के चयन पर कहा कि जडेजा को बतौर बल्लेबाज खिलाना एक जुआ रहा हैं जिसका भारत को कभी भुगतान नहीं मिला।

रविंद्र जडेजा बेअसर साबित हुए-

रविंद्र जडेजा बेअसर साबित हुए-

वैसे तो जडेजा का बल्लेबाजी ग्राफ ऊपर की ओर है। पिछले तीन वर्षों में, उनका बल्ले से औसत 50 से अधिक है, जबकि उनकी गेंदबाजी में भी लगातार सुधार हुआ है। लेकिन जहां परिस्थितियों में तेज गेंदबाजों के लिए काफी सहायता हो वहां पर जडेजा की कमी खुलकर सामने आती है। तब वे ना बॉलर रहते हैं ना ही बल्लेबाज। मांजरेकर को लगता है कि जडेजा का शामिल होना आश्चर्यजनक था, खासकर जब यह साफ हो गया था कि मौसम स्पिनरों का साथ नहीं देने वाला लेकिन कोहली ने पूरे दंभ के साथ पुरानी प्लेइंग इलेवन को ही मैदान में झोंक दिया जबकि कीवी टीम 5 तेज गेंदबाजों के साथ खेली जिन्होंने भारतीय टीम का दोनों पारियों में बुरा हाल कर दिया।

WTC: टीम की जीत में सर्वाधिक रन बनाने वाले टॉप-5 भारतीय बल्लेबाज, पुजारा हैं सबसे नीचे

संजय मांजरेकर ने कहा, मैं तो पहले ही ऐसे चयन के खिलाफ हूं

संजय मांजरेकर ने कहा, मैं तो पहले ही ऐसे चयन के खिलाफ हूं

मांजरेकर ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो पर कहा, "अगर आपको यह देखना है कि खेल शुरू होने से पहले भारत कैसा चल रहा था, तो दो स्पिनरों को चुनना हमेशा एक बहस का विषय था, खासकर जब हालात खराब थे और टॉस में एक दिन की देरी हुई थी। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी के लिए एक खिलाड़ी को चुना, जो जडेजा थे। उनके बाएं हाथ की स्पिन के कारण उन्हें नहीं चुना गया था। उन्हें उनकी बल्लेबाजी के लिए चुना गया था और यह एक ऐसी चीज है जिसके खिलाफ मैं हमेशा से हूं।

'हर बार की तरह उल्टा पड़ गया जडेजा को बतौर बल्लेबाज लेना'

'हर बार की तरह उल्टा पड़ गया जडेजा को बतौर बल्लेबाज लेना'

"आपको टीम में विशेषज्ञ खिलाड़ियों को चुनना होगा और अगर उन्हें लगता है कि पिच सूखी और टर्निंग थी, तो वे अश्विन के साथ जडेजा को अपने बाएं हाथ के स्पिन के लिए चुनते, यह तब समझ में आता। लेकिन उन्होंने उनकी बल्लेबाजी के लिए जडेजा को चुना और मुझे लगता है कि अधिकतर मौकों की तरह इस बार भी इसका उलटा असर हुआ।"

अंत में, मांजरेकर को लगता है कि एक अतिरिक्त बल्लेबाज को खेलने से भारत को मदद मिल सकती थी क्योंकि रन मध्य-निचले क्रम से नहीं आए थे।

उन्होंने कहा, अगर उनके पास हनुमा विहारी में एक विशेषज्ञ बल्लेबाज होता, जिसके पास बहुत अच्छा डिफेंस था, तो यह आसान होता।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Friday, June 25, 2021, 8:53 [IST]
Other articles published on Jun 25, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X