थक गया महान 'ऑलराउंडर', बोला- तीनों फॉर्मेट में खेलना आसान नहीं

ढाका । कोरोनावायरस के कारण पिछले करीब दो साल हर किसी के लिए मुश्किल भरे रहे। लोगों का सड़कों पर निकलना मुश्किल हुआ तो खेल भी पूरी तरह से ठप पड़ गया। हालांकि साल 2021 में कई बड़े मैच देखने को मिले। व्यस्त शेड्यूल के चलते खिलाड़ियों को लगातार मैदान पर पसीना बहाना पड़ा रहा है, साथ ही कोरोना के नियमों का पालन भी रखना पड़ रहा है। हालांकि बायो बबल के कारण कई खिलाड़ी परेशाानी महसूस करते दिखे, जिनमें अब क्रिकेट जगत का महान ऑलराउंडर भी शामिल हो गया। लिहाजा अब उसने एक फाॅर्मेट से संन्यास लेने के संकेत भी दे दिए, साथ ही माना कि ऐसी स्थिति में तीनों फॉर्मेट में खेलना आसान नहीं है।

जी हां, बांग्लादेश के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन ने हाल ही में खेल के तीनों प्रारूपों में अपने भविष्य के बारे में बड़ा बयान दिया उनका विचार है कि उनके लिए एक प्रारूप को छोड़ने का समय आ गया है और टेस्ट क्रिकेट अब उनकी प्राथमिकता में नहीं होगा। शाकिब ने यह भी कहा कि वह वनडे को अपनी शीर्ष सूची में रखना चाहते हैं और यहां तक ​​कि उन खेलों का हिस्सा बनने से भी बचेंगे जो सुपर लीग का हिस्सा नहीं हैं। ऑलराउंडर पहले ही व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए न्यूजीलैंड के खिलाफ बांग्लादेश की टेस्ट सीरीज से बाहर हो चुके हैं। सीरीज से उनके हटने से थोड़ा विवाद हुआ लेकिन बीसीबी ने उन्हें छुट्टी दे दी। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि 34 वर्षीय शाकिब 2017 से कई सीरीज से गायब हैं और आईसीसी द्वारा प्रतिबंध के कारण एक साल के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से बाहर भी थे।

यह भी पढ़ें- IND vs SA : कोहली हासिल करेंगे खास उपलब्धि, ऋषभ पंत के हाथों टूटेगा धोनी का रिकाॅर्ड

ढाका में स्थित टीवी चैनल एनटीवी से बात करते हुए शाकिब ने कहा, "मुझे पता है कि किस प्रारूप को महत्व या वरीयता देनी है। मेरे लिए टेस्ट क्रिकेट के बारे में सोचने का समय आ गया है। ये है सच्चाई। मैं टेस्ट खेलूंगा या नहीं, और अगर मैं खेलता भी हूं तो मैं कैसे सभी फाॅर्मेट में खेलूंगा। मुझे इस बात पर भी विचार करने की आवश्यकता है कि क्या मुझे वनडे मैचों में भाग लेने की आवश्यकता है। मेरे पास कोई अन्य विकल्प नहीं है।"

शाकिब ने टेस्ट प्रारूप से संन्यास लेने पर जोर नहीं दिया, लेकिन अब से किसी एक प्रारूप को प्राथमिकता नहीं देने के इच्छुक होंगे। उन्होंने कहा कि लंबे समय तक परिवार से दूर रहने के दौरान महामारी में क्रिकेट खेलना वास्तव में मुश्किल है। उन्होंने कहा, 'मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मैं टेस्ट से संन्यास ले लूंगा। ऐसा भी हो सकता है कि मैं 2022 टी20 विश्व कप के बाद टी20आई खेलना बंद कर दूं। मैं टेस्ट और वनडे खेल सकता हूं। लेकिन तीन प्रारूपों में खेलना लगभग असंभव है। 40-42 दिनों में दो टेस्ट खेलना फायदेमंद नहीं रहा। यह किसी को चुनिंदा रूप से खेलने के लिए प्रोत्साहित करता है। मैं निश्चित रूप से बीसीबी के साथ अच्छी योजना बनाउंगा और फिर आगे बढ़ूंगा। यह करना समझदारी भरा काम होगा। अगर यह जनवरी में होता है, तो मुझे पता चल जाएगा कि मैं बाकी साल क्या कर रहा।"

उनका कहना है कि वे बायो-बबल्स जेल की तरह महसूस करते हैं और अपने तीन छोटे बच्चों से दूर भी नहीं रह सकते। अब शाकिब बीसीबी के साथ इसके बारे में जल्द चर्चा करेंगे। शाकिब ने आगे, "बोया बबल में गुजरना जीवन में जेल जैसा था। ऐसा नहीं है कि खिलाड़ी किसी सीरीज के दौरान बहुत ज्यादा घूमते हैं। लेकिन जब आप मानसिक रूप से यह जान जाएंगे कि आप चाहकर भी बाहर नहीं जा सकते, तो समस्या वहीं है। मानसिक स्वास्थ्य के बारे में सोचकर न्यूजीलैंड ने अपनी अंडर-19 टीम को विश्व कप में भी नहीं भेजा। कोरोनावायरस आसानी से नहीं जा रहा है। इससे बचने के लिए हमें एक नया तरीका खोजना होगा। मुझे नहीं लगता कि बायो-बबल और क्वारंटाइन सबसे अच्छा तरीका है। जब आप अपने तीन छोटे बच्चों से नियमित रूप से नहीं मिल पाते हैं, तो यह एक अस्वस्थ स्थिति बन जाती है।"

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, December 23, 2021, 17:42 [IST]
Other articles published on Dec 23, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X