बड़े और ऊंचे छक्के लगाकर टीम में जगह पक्की करने का है शिवम दुबे का इरादा

नई दिल्ली: 26 साल के शिवम दुबे ने पिछले महीने ही वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टी-20 मुकाबले में अपने इंटरनेशनल करियर का पहला छक्का मारा था। होल्डर पर मारे गए इस छक्के के बाद दुबे ने पोलार्ड के अगले ही ओवर में तीन और छक्के जड़ दिए थे। हाई बैक लिफ्ट, लंबी पहुंच और बढ़िया बैट स्विंग के चलते दुबे को अगली पीढ़ी का सिक्स हिटर माना जा रहा है।

अपने छक्के मारने की काबिलियत पर बात शुरू करते हुए उन्होंने कहा, 'मुझे छक्के मारने के लिए किसी भी तरह की तैयारी नहीं करनी है, यह स्वाभाविक रूप से आता है। मुझे बड़े शॉट्स मारना पसंद था और मैं इसका भरपूर अभ्यास करता था। "

बैटिंग के कम मौके मिलने पर क्या बोले दुबे

बैटिंग के कम मौके मिलने पर क्या बोले दुबे

दुबे ने तिरुवनंतपुरम में धमाकेदार पारी (30 गेंद पर 54 रन) खेली थी। अपने 6 टी 20 के एक छोटे अंतरराष्ट्रीय करियर और एक वनडे में, दूबे को पांच अवसरों पर बल्लेबाजी करने का अवसर मिला है। लेकिन केवल दो बार उनको पांच से अधिक ओवर खेलने थे और इसी में उन्होंने दुनिया को अपनी छक्के मारने की क्षमता की झलक दिखाई।

हालांकि इस 26 वर्षीय बल्लेबाज के लिए समस्या उनकी बल्लेबाजी में निचली स्थिति हो सकती है। बाएं हाथ के बल्ले को तिरुवनंतपुरम में नंबर 3 पर प्रमोट किया गया था जब उन्होंने पचास रनों से ऊपर की पारी खेली।

PCB ने लिया फैसला, पेस सनसनी नसीम शाह को किया U-19 टीम से बाहर

ऑलराउंडर बनना चाहते हैं दुबे

ऑलराउंडर बनना चाहते हैं दुबे

इस बारे में बात करते हुए दुबे हिंदुस्तान टाइम्स के साथ हुई बातचीत में बताते हैं, "मुझे कोई आपत्ति नहीं है कि क्या मैं नंबर 3 पर बल्लेबाजी करता हूं या 7 पर। मैं ऐसा व्यक्ति बनना चाहता हूं जो कहीं भी बल्लेबाजी कर सके और एक गेंदबाज जो हर स्थिति में गेंदबाजी कर सके। मुझे बल्ले के साथ फिनिशर होने के बारे में पता नहीं है। मुझे टीम के लिए कोई भी भूमिका निभाने में खुशी होगी।"

यह मुंबईकर खुद को सीम-बॉलिंग ऑलराउंडर साबित करने के लिए भी तैयार है। "मुझे लगता है कि मैं एक उचित ऑलराउंडर हूं। हम बहुत मजबूत गेंदबाजी विकल्प के साथ एक मजबूत टीम हैं और कभी-कभी परिस्थितियां किसी खास चीज की मांग करती हैं, इसलिए ये सभी चीजें तब खेल में आती हैं जब हम उस चौथे या पांचवें गेंदबाजी विकल्प के बारे में बात करते हैं।"

वेस्ट इंडीज के खिलाफ पिछले दो वनडे के लिए दुबे को बाहर कर दिया गया था क्योंकि भारत ने विशेषज्ञ ऑलराउंडर के रूप में रवींद्र जडेजा को खेलने का फैसला किया था।

टीम में जगह नहीं मिलने पर क्या बोले

टीम में जगह नहीं मिलने पर क्या बोले

"टीम प्रबंधन ने मुझे बैक किया। टीम संयोजन का अत्यधिक महत्व है। वास्तव में कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मैं ग्यारह में हूं या नहीं क्योंकि असली खेल परिस्थितियों के हिसाब से सर्वश्रेष्ठ एकादश मैदान में उतारने का है। अंतिम दो एकदिवसीय मैचों में, टीम ने एक अलग संयोजन के साथ जाना महसूस किया, जो बिल्कुल सही था। मैं बिल्कुल भी बुरा नहीं मानता क्योंकि प्रबंधन एक विशेष मैच के लिए जो संयोजन चाहता है, उसके बारे में बहुत स्पष्ट है। "

इसी बीच दुबे ने यह भी कहा है कि वे हार्दिक पांड्या के साथ अपनी प्रतियोगिता को लेकर नहीं सोचते। उन्होंने पांड्या को बेस्ट में से एक बताया और खुद को ऑलराउंडर के तौर पर और निखारने की बात कही ताकि वे भारत को ज्यादा से ज्यादा मैच जिता सकें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, January 2, 2020, 10:17 [IST]
Other articles published on Jan 2, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X