जानें कौन हैं ब्रॉन्ज मेडलिस्ट विनोद कुमार, जिसने मुश्किलों से उबर कर सिर्फ 5 सालों में रच दिया इतिहास

Tokyo paralympics
Photo Credit: Twitter
Tokyo Paralympic: Big lose for India , Vinod Kumar’s bronze medal called invalid | वनइंडिया हिन्दी

नई दिल्ली। जापान की राजधानी टोक्यो में खेले जा रहे पैरालंपिक्स गेम्स के 5वें दिन भारत ने 3 पदक जीतकर इतिहास रच दिया है और पैरालंपिक्स खेलों में अपने सबसे ज्यादा पदक हासिल करने की ओर कदम बढ़ा दिया है। भारत के लिये पैरा पडलर भवानी पटेल ने सिल्वर मेडल के साथ देश के पदकों का खाता खोला तो वहीं पर निषाद कुमार ने हाई जंप में भी देश को सिल्वर मेडल दिया। टोक्यो पैरालंपिक्स के 5वें दिन का अंत विनोद कुमार के ब्रॉन्ज मेडल के साथ हुआ जिन्होंने डिस्कस थ्रो में न सिर्फ अपने सर्वश्रेष्ठ थ्रो के रिकॉर्ड तोड़ा बल्कि एशियन रिकॉर्ड को तोड़ कर इतिहास के पन्नों में अपना नाम सुनहरे अक्षरों में जोड़ दिया।

और पढ़ें: Tokyo 2020: डिस्कस थ्रो में विनोद कुमार ने तोड़ा एशियन रिकॉर्ड, पैरालंपिक्स में भारत को दिलाया तीसरा पदक

41 वर्षीय विनोद कुमार ने F52 वर्ग में 19.91 मीटर का थ्रो किया और देश के लिये ब्रॉन्ज मेडल हासिल कर पदकों की संख्या को 3 पर पहुंचा दिया। हालांकि विनोद कुमार के लिये पैरालंपिक्स तक का सफर आसान नहीं रहा था। देश के लिये सीमा पर रक्षा करने से लेकर पैरालंपिक्स में देश का प्रतिनिधित्व करने तक विनोद कुमार को ढेरों चुनौतियां का सामना करना पड़ा है। आइये एक नजर उनके सफर पर डालें-

और पढ़ें: पाकिस्तानी पेसर ने उठाये कोहली की तकनीक पर सवाल, कहा- आम एशियाई बल्लेबाजों जैसी है दिक्कत

खर्चे का सोचकर छोड़ दिया था खेलने का सपना

खर्चे का सोचकर छोड़ दिया था खेलने का सपना

आज से करीब 9 साल पहले साल 2012 में जब विनोद कुमार 32 साल के थे तो हरियाणा के रोहतक में एक मुश्किल भरी जिंदगी बिता रहे थे। वह राजीव गांधी स्पोर्टस कॉम्पलेक्स के पास छोटी सी किराना की दुकान चलाते थे जिनके लिये दिन की सबसे बड़ी चीज वहां पर आने वाले खिलाड़ियों को कड़ी मेहनत करते हुए देखना होता था। विनोद ने शायद देश के लिये अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रिप्रजेंट करने का सपना देखा था लेकिन 2002 को उनकी रीढ़ की हड्डी में आयी चोट ने कमर से नीचे के हिस्से को पैरालाइज (लकवा) कर दिया था।

विनोद अपनी इस दुकान से सिर्फ इतना कमा पा रहे थे जिसमें वो अपना और अपनी पत्नी अनीता का जीवनयापन कर सके। इस दौरान विनोद ने पैरा स्पोर्टस के बारे में जानकारी इकट्ठा की, लेकिन जब उन्हें इसमें लगने वाले खर्चे का पता लगा तो उन्होंने अपने सपने का पीछा करने से इंकार दिया।

दीपा मलिक की जीत ने बदली सोच

दीपा मलिक की जीत ने बदली सोच

विनोद के लिये परिस्थितियां साल 2016 में बदली जब भारत की मौजूदा पैरालंपिक समिति की अध्यक्ष दीपा मलिका ने रियो पैरालंपिक खेलों में देश के लिये पदक जीतने वाली पहली महिला बनने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। दीपा मलिक के इस कारनामे ने विनोद को अपनी कमियों से पार पाने और डिस्कस थ्रो में अपने सपने का पीछा करने के लिये प्रेरित किया।

विनोद ने एक इंटरव्यू में इसको लेकर बात की थी और कहा था कि दीपा मलिक के सिल्वर मेडल ने मुझे विश्वास दिलाया कि मैं भी देश का सम्मान बढ़ाने में अपना योगदान दे सकता हूं। तीरंदाजी कोच संजय सुहाग ने उन्हें अपने सपने का पीछा करने के प्रोत्साहित किया और एथलेटिक्स कोच अमरजीत सिंह से मिलाया, जिसके बाद पैरालंपिक्स में देश के लिये ब्रॉन्ज जीतने का सफर शुरू हुआ।

ऐसे शुरू हुआ विनोद का पदक जीतने का सफर

ऐसे शुरू हुआ विनोद का पदक जीतने का सफर

विनोद ने ट्रेनिंग शुरू की और जयपुर में अगले साल होने वाली नेशनल चैम्पियनशिप में भाग लिया और ब्रॉन्ज मेडल भी जीता। विनोद ने साल 2018 में एक बार फिर से इस कारनामे को दोहराया, जिसके बाद कोच सत्यनारायण उनको लेकर 2019 में पेरिस पहुंचे जहां पर अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक कमिटी ने उन्हें अगले 2 सालों के लिये T/F52 वर्ग में शामिल किया।

इसके चलते विनोद 2019 में दुबई में खेले गये विश्व पैरा एथलेटिक्स चैम्पियनशिप का हिस्सा बनें और चौथे पायदान पर रहते हुए टोक्यो पैरालंपिक्स का टिकट कटाया। आईपीसी ने विनोद को सिर्फ दो सालों के लिये पैरा एथलीट वर्ग में जगह दी थी जिसके चलते जब साल 2020 में कोरोना वायरस के चलते पैरालंपिक्स स्थगित हो गया तो विनोद को दोबारा आईपीएस के सामने जाकर फिर से पंजीकरण कराना पड़ा।

पत्नी ने हर कदम पर दिया विनोद का साथ

पत्नी ने हर कदम पर दिया विनोद का साथ

गौरतलब है कि विनोद कुमार सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान रह चुके हैं लेकिन एक दुर्घटना के चलते उनकी रीढ़ की हड्डी में चोट आयी और वो पैरालाइज हो गये। इसके बाद का सफर उनके लिये आसान नहीं रहा था, अगले 10 सालों तक विनोद कुमार के लिये बिस्तर से उठ पाना भी मुश्किल था और अपने ज्यादातर कामों के लिये दूसरों पर निर्भर होते थे। लंबे इलाज के चलते आर्थिक स्थिति भी कुछ ठीक नहीं रही थी।

साल 2012 में विनोद की शादी हुई और अब वो दो बेटियों के बाप हैं। परिवार की बढ़ती जिम्मेदारियों के साथ खर्चे बढ़ रहे थे लेकिन विनोद की आमदनी उस हिसाब से नहीं बढ़ रही थी, इसके चलते उन पर काफी कर्जा हो गया। पेरिस ट्रिप के लिये उन्होंने अपनी बहन से 3.5 लाख रुपये का कर्ज लिया जिसे वो अभी तक चुका नहीं सके हैं। अक्टूबर 2020 में पीसीआई समेत भारतीय खेल प्राधिकरण ने बेंगलुरू के सेंटर में ट्रेनिंग कैंप आयोजित किया, जिसमें विनोद ने पैरालंपिक खेलों के लिये जाने से पहले तक ट्रेनिंग की और इस दौरान उनकी पत्नी ने दुकान संभालते हुए रोजमर्रा के सभी काम किये। विनोद के लिये मुश्किलें तब और भी बढ़ गई जब वो दो बार कोरोना वायरस की चपेट में आये और दोनों बार उन्हें अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। हालांकि अंत में अब जब उन्होंने अपना सपना पूरा कर लिया है तो उम्मीद है कि उनकी मुश्किलों भरे सफर का अंत भी हो जायेगा।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Sunday, August 29, 2021, 20:49 [IST]
Other articles published on Aug 29, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X