वर्ल्ड कप सेमीफाइनल की हार से नहीं उबर पा रहे विराट, कही ये चौंकाने वाली बात

नई दिल्ली: टीम इंडिया निश्चित तौर पर विश्व कप में शानदार तरीके खेली। लीग स्टेज में तो भारत चैंपियनों के अंदाज में अंक तालिका को टॉप कर चुका था लेकिन उसके बाद जो हुआ वह अप्रत्याशित था। किसी ने भी नहीं सोचा था कि टीम इंडिया अपने से कमजोर कीवियों के खिलाफ इस तरह से संघर्ष करके हार जाएगा। टीम के इस प्रदर्शन के बाद यह भी साफ हो गया कि एक बहुत अच्छी टीम और एक चैंपियन टीम में क्या फर्क होता है। विश्व कप के बाद भारत को बहुत अच्छी टीम से एक चैंपियन टीम बनने का सफर पूरा करना है। इसी बीच विराट कोहली ने एक बार फिर से उस हार का जिक्र किया है जिसने भारत का विश्व कप जीतने का सपना चकनाचूर कर दिया था।

सेमीफाइनल हार को नहीं पचा पा रहे हैं कोहली

सेमीफाइनल हार को नहीं पचा पा रहे हैं कोहली

यह शायद पहली बार है जब कोहली ने इस हार का आकलन करने में अपने दिल की सुनी है। आमतौर पर क्रिकेट जैसे अनिश्चित खेल में लोग यही मानकर चलते हैं कि एक खराब दिन किसी भी टीम को बर्बाद करने की ताकत रखता है। सेमीफाइनल भी टीम इंडिया के लिए एक खराब दिन था लेकिन कोहली उस हार को नहीं पचा पा रहे हैं। कोहली ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए माना है कि इस तरह की हार को स्वीकारना बहुत मुश्किल था। उन्होंने कहा, 'अगले दिन आप उठते हैं और सोचते हैं कि आपने बहुत ज्यादा खराब प्रदर्शन नहीं किया लेकिन फिर भी हम बाहर हो चुके हैं। जब सब इतना अच्छा खेल रहे हों और अचानक पता चलता है कि आप तो विश्व कप से ही बाहर हो चुके हैं, इसको पचाना बहुत मुश्किल है।'

हार के बाद कोहली ने टीम से क्या कहा-

हार के बाद कोहली ने टीम से क्या कहा-

कोहली ने बताया कि इस मुश्किल हार के बाद भी उन्होंने अपने साथियों से अपना सर ऊंचा बनाए रखने के लिए कहा था। इस बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया- 'सबसे महत्वपूर्ण, यह आपका चरित्र निर्माण करता है क्योंकि ये चीजें अचानक होती हैं। हमने टीम से कहा कि आपने जो भी कुछ किया है उस पर आपको गर्व होना चाहिए। जिस पल आप अपने आप से आपका श्रेय छीन लेते हैं उस पल आप अपने ऊपर अनावश्यक दबाव भी डाल लेते हैं। जरूरी यह है कि आपने जो किया उसको लेकर विनम्र बने रहे। अपना दबाव उतना कभी मत झेले कि आप खुद को नापसंद करने लगे। यह संतुलन बहुत जरूरी है।'

एशेज से ठीक पहले खुल गई ऑस्ट्रेलिया की पोल, एक दिन में गंवाए 17 विकेट

मुश्किल समय की खूबी भी बताई-

मुश्किल समय की खूबी भी बताई-

इस दौरान कोहली ने अपना उदाहरण देते हुए बताया कि उन्होंने मुश्किल समय से क्या सीख ली है। उन्होंने बताया- 'मैं अपनी जिंदगी में सबसे ज्यादा गलतियों और मुश्किलों से सीखा है। इन चीजों ने ना केवल मुझे प्रेरित किया बल्कि एक इंसान के तौर पर भी मुझे सुधारा। इस वजह से मुझे पता चला कि सफलता से ज्यादा अहमियत तो ऐसे समय की होती है। ये आपको कुछ समय के लिए खाली छोड़ देता है जिससे आप सोच सकते हैं कि अब क्या करने की जरूरत है, ये आपको आगे का रोडमैप बनाने का भी मौका देता है।' इसके साथ ही कोहली ने यह भी बताया कि मुश्किल वक्त का एक और फायदा यह है कि आपको पता लग जाता है कि कौन इंसान आपका साथ देने वाला है और कौन बचकर भागना चाहता है।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Wednesday, July 24, 2019, 15:15 [IST]
Other articles published on Jul 24, 2019
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X