'बॉलिंग कर रहे हो या भीख मांग रहे हो?'- जब सहवाग ने बुरी तरह उड़ाया शोएब अख्तर का मजाक

नई दिल्लीः वीरेंद्र सहवाग अपने खेलने के स्टाइल से सबका मनोरंजन करते थे। उन्हें अपने युग के सबसे सिंपल बल्लेबाजों में से एक माना जाता था, जिनके पास भारी-भरकम तकनीक नहीं बल्कि आक्रामक खेल था। उनकी कई पारी खेली जो तूफानी थी और एक ऐसी पारी जो कई क्रिकेट दर्शकों के मन में बसी हुई है, वह है मुल्तान में उनकी 309 रनों की पारी। संजय मांजरेकर ने सहवाग की उसी खेल शैली की ओर इशारा करते हुए एक किस्सा सुनाया।

सहवाग के अंदाज-

सहवाग के अंदाज-

मांजरेकर ने उस घटना को याद किया जिसमें सहवाग ने पाकिस्तान के गेंदबाजों से कड़ी मेहनत कराई थी क्योंकि उन्होंने मुल्तान में एक मैच में 375 गेंदों पर 309 रन बनाए थे, जिसे भारत ने एक पारी और 52 रन से जीता था। इस पर खुलते हुए मांजरेकर ने कहा कि सहवाग ने 200 रन का आंकड़ा पार कर लिया था और निराश शोएब अख्तर ढेर सारी बाउंसर फेंक रहे थे जिसे बल्लेबाज छोड़ रहा था। इस प्रकार सहवाग को उकसाने के बाद अख्तर उनके पास गए और उन्हें पुल शॉट खेलने के लिए कहा। संजय ने कहा कि सहवाग अपनी तरह के एक शख्स हैं, जिन्होंने उनकी स्लेजिंग का मजाकिया जवाब दिया।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आंद्रे रसेल की तूफानी फिफ्टी, वेस्टइंडीज ने जीती हारी हुई बाजी

'तुम बोलिंग कर रहे हो या भीख मांग रहे हो'

'तुम बोलिंग कर रहे हो या भीख मांग रहे हो'

मांजरेकर ने स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए कहा, "अख्तर उन्हें गेंदबाजी करते रहे और सहवाग बाउंसर को डक करते रहे। सहवाग को उकसाने के लिए अख्तर ने उनसे कहा- आपने 200 से ज्यादा रन बनाए हैं, मैं इतनी बाउंसर फेंक रहा हूं, कम से कम एक पुल शॉट तो मारो। सहवाग ने बेपरवाही से उनकी तरफ देखा और कहा- तुम बोलिंग कर रहे हो या भीख मांग रहे हो।''

लोग सहवाग के सेंस ऑफ ह्यूमर के दीवाने हैं-

लोग सहवाग के सेंस ऑफ ह्यूमर के दीवाने हैं-

वीरेंद्र सहवाग अक्सर मैदान पर अपने आक्रामक और प्रभावशाली बल्लेबाजी प्रदर्शन के लिए जाने जाते हैं। जब बाउंड्री मारने की बात आती है तो वह गेंदबाजों को निशाना बनाने में कभी नहीं हिचकिचाते, भले ही वह पारी की पहली गेंद ही क्यों न हो। वह टेस्ट में दो तिहरे शतक लगाने वाले एकमात्र भारतीय बल्लेबाज हैं। उनमें से एक मुल्तान में 2004 में कट्टर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ और 319 में 2008 में चेन्नई में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आया था।

इतना ही नहीं वह मैदान के अंदर और बाहर हमेशा मनोरंजक खिलाड़ी रहे हैं। सहवाग ने रिटायरमेंट के बाद भी खुद को नए अवतार में ढाल लिया है। वे हिंदी पट्टी के लोगों का भरपूर मनोरंजन अपनी कमेंट्री और चुटीले खेल एनालिस से कर रहे हैं। उनके ट्वीट मजेदार होते हैं और लोग सहवाग के सेंस ऑफ ह्यूमर के दीवाने हैं।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, July 10, 2021, 11:41 [IST]
Other articles published on Jul 10, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X