पुलवामा हमला: कश्मीर में मैच खेलने से डरी भारत के अन्य हिस्सों की टीमें, VIDEO

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए हमले ने ना केवल भारत के पाकिस्तान के साथ संबंधों पर गहरा असर डाला है बल्कि देश के अंदरूनी ताने-बाने पर भी इसका असर देखने को मिला है। एक तरफ खेल जगत जहां इस मामले पर मुखर होकर पाकिस्तान की आलोचना कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर कश्मीर में होने जा रहे फुटबॉल मैच को लेकर एक टीम ने आकर खेलने से इंकार कर दिया है।

मिनर्वा पंजाब ने कश्मीर में खेलने से किया इंकार-

मिनर्वा पंजाब ने कश्मीर में खेलने से किया इंकार-

जी हां, पुलवामा हमले के बाद जम्मू-कश्मीर राज्य में सुरक्षा कारणों के चलते आई-लीग की मौजूदा चैम्पियन मिनर्वा पंजाब सोमवार को रियल कश्मीर के खिलाफ होने वाले मैच को खेलने के लिए श्रीनगर के टीआरसी ग्राउंड पर नहीं पहुंची। मिर्नवा पंजाब ने सुरक्षा चिंताओं के कारण यह कदम उठाया है। इस टीम ने साफ कर दिया था कि वह किसी भी हाल में श्रीनगर में मैच नहीं खेलेगी।

कश्मीरी क्लब ने बताया- शर्मनाक फैसला

पंजाब की इस टीम ने मैच खेलने के लिए शर्त रखी कि यदि भारतीय आर्मी या फिर भारत की सरकार या गृह मंत्रालय उनको सुरक्षा मुहैया कराने का लिखित में आश्वासन दे वे तभी मैच खेलने पर विचार करेंगे। लेकिन ऐसा कोई आश्वासन जब नहीं मिला तो मिर्नवा पंजाब ने भी मैच ना खेलना का फैसला कर दिया। मिनर्वा पंजाब के इस फैसले से रियल कश्मीर क्लब पूरी तरह बिफर गया है। उसने अपना कड़ा विरोध जताते हुए पंजाब की टीम के इस फैसले को शर्मनाक बताया है।

आईएसएल-5 : शीर्ष पर पहुंचकर गोवा ने सेमीफाइनल का टिकट कटाया

'जख्म भरने के लिए खेलों नफरत फैलाने के लिए नहीं'

रियल कश्मीर फुटबॉल क्लब ने कहा, 'फुटबॉल के लिए दुख भरा दिन। हम यहां पर जख्म भरने के लिए खेल रहे थे ना की नफरत फैलाने के लिए। यह श्रीनगर में एक सामान्य ही दिन था लेकिन मिनर्वा पंजाब की टीम नही आई। यह फुटबॉल नहीं है। सभी टीमों ने यहां सुरक्षित महसूस किया और खेल का आनंद लिया।' इसकी पुष्टि के लिए रियल कश्मीर क्लब ने फुटबॉल के कई क्लबों को टैग भी किया है जिसमें मोहन बागान जैसे क्लब भी शामिल हैं। वैसे आपको बता दें कि आई-लीग के दूसरे क्लबों, मसलन ईस्ट बंगाल ने भी श्रीनगर में मैच खेलने से इंकार कर दिया है। इसके अलावा मैच को कही और स्थानांतरित ना कराए जाने के विरोध में मिनर्वा की टीम ने सोमवार को दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका भी दाखिल कर दी है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Tuesday, February 19, 2019, 14:22 [IST]
Other articles published on Feb 19, 2019
+ अधिक
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X