कामयाब हुई कप्तान की प्लानिंग, भारत में ही बनी ली थी टोक्यो की गर्मी से निपटने की योजना

नई दिल्लीः भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 41 साल बाद ओलंपिक पदक जीतकर इतिहास को फिर से लिखा और गुरुवार को टोक्यो खेलों के प्ले-ऑफ मैच में जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य पदक जीता।

भारत के हॉकी कप्तान मनप्रीत सिंह ने ऐतिहासिक ओलंपिक मेडल कोविड वारियर्स के नाम किया है। कोविड -19 महामारी ने ओलंपिक को एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया था। तब भारतीय पुरुष टीम बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) केंद्र के अंदर बंद थी। देश में बाहर कोरोना के हालाता बुरे थे।

कप्तान मनप्रीत सिंह का विचार कर गया काम-

कप्तान मनप्रीत सिंह का विचार कर गया काम-

भारतीय कप्तान मनप्रीत सिंह पहले से जानते थे कि टोक्यो की गर्मी से निपटने के लिए टीम को दोपहर में ट्रेनिंग की आवश्यकता है। लेकिन चिलचिलाती धूप की गर्मी में ट्रेनिंग करना बहुत कठिन काम है। टीम के अधिकारी और खिलाड़ी थोड़े अनिच्छुक थे क्योंकि इससे मांसपेशियों में ऐंठन हो सकती है, चोट लग सकती है। हालांकि, कोच ग्राहम रीड को कप्तान के विचार में दम नजर आया और खेलों से तीन महीने पहले, उन्होंने दोपहर में अभ्यास करना शुरू कर दिया।

Tokyo 2020: ये ऐतिहासिक पदक कोविड वारियर्स के नाम, कप्तान मनप्रीत सिंह ने जताया आभार

गर्म मौसम से निपटने के लिए ट्रेनिंग भी वैसी ही की-

गर्म मौसम से निपटने के लिए ट्रेनिंग भी वैसी ही की-

ओलंपिक के लिए टीम के टोक्यो रवाना होने से पहले मनप्रीत ने इंडिया टुडे को बताया था, "चूंकि साल के इस समय टोक्यो में मौसम बहुत गर्म होगा, इसलिए हम दोपहर में गर्मी के अभ्यस्त होने का अभ्यास कर रहे हैं।"

मनप्रीत ने कहा, "गर्मी में प्रशिक्षण हमारे फिटनेस स्तर का भी परीक्षण करेगा क्योंकि हम दुनिया की शीर्ष टीमों के खिलाफ कंपीट करेंगे और शायद ही कोई आसान मैच होगा।"

जापान में इन दिनों वाकई काफी गर्मी निकली और हॉकी जैसे लंबे समय तक चलने वाले आउटडोर गेम्स में ओलंपिक अधिकारियों ने मैच के क्वार्टर के बीच खिलाड़ियों को आराम देने के लिए सामान्य टाइम को दोगुना कर दिया है। इसके अलावा, प्रत्येक क्वार्टर के दौरान टर्फ पर पानी का छिड़काव किया जाता।

ये भारत का कई दशकों में टॉप हॉकी प्रदर्शन है-

ये भारत का कई दशकों में टॉप हॉकी प्रदर्शन है-

अपनी झोली में आठ स्वर्ण पदकों के इतिहास के साथ, भारतीय हॉकी का ओलंपिक में एक समृद्ध इतिहास है, जिसकी आखिरी जीत 1980 के मास्को खेलों में हुई थी। तब से, भारतीय हॉकी में गिरावट देखी गई है। अंतिम बेस्ट 1984 के लॉस एंजिल्स ओलंपिक में पांचवां स्थान था।

भारतीय हॉकी 2008 के बीजिंग खेलों के लिए क्वालीफाई भी नहीं कर पाई, और 2016 के रियो ओलंपिक में अंतिम स्थान पर रहने के बाद बद से बदतर होती चली गई।

लेकिन पिछले पांच वर्षों में भारत के प्रदर्शन में उल्लेखनीय सुधार हुआ, जिसने उन्हें विश्व रैंकिंग में तीसरे स्थान पर पहुंचा दिया।

दो साल पहले टीम की कमान संभालने के बाद से, ऑस्ट्रेलियाई ग्राहम रीड ने भारतीय खिलाड़ियों के बीच आत्म-विश्वास, बंधन और आत्मविश्वास की भावना लाई है, जिसकी कमी थी क्योंकि खिलाड़ी आवश्यक कौशल होने के बावजूद अक्सर दबाव में आ जाते थे।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, August 5, 2021, 11:30 [IST]
Other articles published on Aug 5, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X