सुशील कुमार के ऊपर लग सकता है एक और केस, दिल्ली पुलिस ने किया दावा

नई दिल्ली। सुशील कुमार के लिए और भी मुश्किलें हैं, क्योंकि 2 बार के ओलंपिक पदक विजेता पर सबूत नष्ट करने का आरोप लगाया जा सकता है। दिल्ली पुलिस का दावा है कि सुशील ने 4 मई को दिल्ली में 23 वर्षीय पहलवान सागर राणा की हत्या में कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार होने के बाद मोबाइल फोन और वीडियो फुटेज सहित सबूत नष्ट करने की कोशिश की। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम सुशील कुमार के खिलाफ 201 आईपीसी जोड़ने पर विचार कर रही है। भारतीय दंड संहिता की धारा सबूत मिटाने के लिए है।

इंडिया टुडे को सूत्रों ने बताया है कि सुशील जांच के दौरान दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को सहयोग नहीं कर रहा है। उसका मोबाइल अभी तक नहीं मिला है। माना जा रहा है कि सुशील ने हरिद्वार में ही अपना मोबाइल फोन रखा था। साथ ही पुलिस घटना की रात सुशील के पहने कपड़ों की भी तलाश कर रही है। दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार और उनके सहयोगी अजय की पुलिस हिरासत को हिरासत में पूछताछ के लिए चार दिन के लिए बढ़ा दिया।

'मैंने धोनी को आउट किया था, हमेशा याद रहेगा', इस युवा गेंदबाज ने कही बड़ी बात'मैंने धोनी को आउट किया था, हमेशा याद रहेगा', इस युवा गेंदबाज ने कही बड़ी बात

इससे पहले दिन में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने सुशील कुमार को हत्या के मामले में आगे की जांच के लिए हरिद्वार ले गई थी। सुशील 4 मई को छत्रसाल स्टेडियम में सागर राणा की मौत के बाद फरार चल था। सुशील गिरफ्तारी से बचने के लिए लगातार अपना स्थान बदल रहा था और मई में दिल्ली के मुंडका क्षेत्र से पकड़े जाने से पहले वह कुछ दिनों के लिए हरिद्वार में रहा था।

सुशील कुमार अपने इस बयान पर अडिग हैं कि सागर को मारने का मकसद नहीं था और उन्होंने लड़कों को सिर्फ पीटने के लिए बुलाया था। जांच के दौरान, उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि सागर छत्रसाल स्टेडियम के लड़कों को खराब कर रहे थे। इस बीच, रविवार को यह सामने आया कि दिल्ली पुलिस दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान के खूंखार गैंगस्टरों के साथ शामिल होने के लिए सुशील के खिलाफ महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) लगाने पर विचार कर रही है।

यह कार्रवाई संगठित अपराध में शामिल लोगों के खिलाफ की गई है। आरोपी को आसानी से जमानत नहीं मिलेगी और मकोका के बाद उम्रकैद का भी प्रावधान है। मकोका में जांच एजेंसियां ​​6 महीने तक चार्जशीट दाखिल कर सकती हैं। सुशील गैंगस्टर काला झाठेड़ी और नीरज बवाना के संपर्क में था। आरोप है कि सुशील ने काला झाठेड़ी और नीरज बवाना को लोगों की स्थिति और कामकाज की जानकारी दी। पुलिस के मुताबिक सुशील और गैंगस्टर 2018 से गठबंधन कर रहे हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Monday, May 31, 2021, 15:16 [IST]
Other articles published on May 31, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X