Tokyo 2020: अदिति अशोक ने गोल्फ मैदान में रचा इतिहास, देश की एक और बेटी ने छोड़ी छाप

Tokyo Olympics 2021: Golfer Aditi Ashok misses out on medal after finishing 4th | वनइंडिया हिंदी

टोक्यो: अदिति अशोक भारतीय खेल इतिहास में गोल्फ में बेस्ट प्रदर्शन करने वाली ओलंपियन बन गई हैं। ओलंपिक 2020 में जो किसी भी देशवासी ने नहीं सोचा था, अदिति अशोक ने उसको संभव बनाने के बहुत करीब पहुंच गईं थीं। महिला इंडिविजुअर स्ट्रोक प्ले में शुरु के तीन राउंड में टॉप-3 पर चल रहीं अदिति फाइनल राउंड में केवल एक शॉट से ऐतिहासिक गोल्फ मेडल से चूक गईं। ये भारत की झोली में पहला ओलंपिक गोल्फ मेडल होता। अदिति ने चारों राउंड में बेहतरीन निरंतरना के साथ खेल दिखाया और वे 269 अंकों पर फिनिश हुईं। ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली न्यूजीलैंड की लाडिया और अदिति के बीच केवल एक अंक का फर्क था।

अपने दूसरे ओलंपिक में अदिति ने छोड़ी अमिट छाप-

अपने दूसरे ओलंपिक में अदिति ने छोड़ी अमिट छाप-

अदिति का टोक्यो 2020 अभियान उनका दूसरा ओलंपिक था और हर मायने में ऐतिहासिक था। उन्होंने रियो में 41वां स्थान हासिल किया, और अब टोक्यो में पहले तीन राउंड के लिए शीर्ष तीन में भी रही, जिसे पहले किसी अन्य भारतीय गोल्फर ने हासिल नहीं किया था। विश्व नंबर 1 और एलपीजीए चैंपियनशिप विजेता नेली कोर्डा ने अपने शानदार करियर में ओलंपिक स्वर्ण पदक जोड़ा। बिना किसी शोर शराबे के अदिति ने यह कमाल कर दिया। वे मेडल लेकर आती तो यह पूरे देश के लिए बेहद सुखद सरप्राइज साबित होता। इस समय भी अदिति के चर्चे जोरों पर हैं। निश्चित तौर पर यह भारतीय गोल्फ में बड़ा मील का पत्थर है।

गोलकीपर सविता पुनिया के पिता ने कहा, 'उन लड़कों के मुंह पर तमाचा है मेरी बेटी का प्रदर्शन'

राष्ट्रपति ने भी दी बधाई-

राष्ट्रपति ने भी दी बधाई-

विश्व की 200 नंबर की खिलाड़ी अदिति ने संयुक्त राज्य अमेरिका की विश्व नंबर 1 नेली कोर्डा और विश्व की पूर्व नंबर 1 और न्यूजीलैंड की रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता लिडिया को पूरी टक्कर दी और अपने पुट और शॉर्ट प्ले स्किल से प्रभावित किया।

अदिति को इस प्रदर्शन पर भारत के राष्ट्रपति ने कोविंद ने बधाई दी है और कहा है कि देश की एक ओर बेटी ने अपनी छाप छोड़ दी है। उन्होंने कहा, अदिति ने आज ऐतिहासिक प्रदर्शन से भारतीय गोल्फ को नई उंचाईंयां दी हैं। आप बहुत शांत और स्थिर होकर खेलीं। इतने शानदार प्रदर्शन और कौशल के लिए बधाई।

रियो में सबसे कम उम्र का इतिहास रच चुकी हैं-

रियो में सबसे कम उम्र का इतिहास रच चुकी हैं-

बेंगलुरु की 23 वर्षीय अदिति अशोक ने खेलों में शामिल होने वाली सबसे कम उम्र की गोल्फर (पुरुष या महिला) बनकर रियो ओलंपिक में इतिहास रच दिया। रियो में 41वें स्थान पर रहने के बाद, अदिति ने वापसी की और टोक्यो में अपनी मां माहेश्वरी के साथ अपने कैडी के रूप में लगातार प्रदर्शन के साथ मैदान को चौंका दिया।

अदिति अशोक ने 18 होल के साथ पहला प्रयास छह साल की उम्र में बैंगलोर गोल्फ क्लब में किया था।

लड़कियों को आसानी से हरा देतीं थी, लड़कों के साथ खेलना शुरू किया-

लड़कियों को आसानी से हरा देतीं थी, लड़कों के साथ खेलना शुरू किया-

एक साल के भीतर, वह जूनियर टूर्नामेंट में खेल रही थी और लड़कों के खिलाफ प्रतिस्पर्धा का आनंद ले रही थी। 11-12 साल की उम्र तक अदिति लड़कों के साथ खेलती थी क्योंकि वह लड़कियों का टूर्नामेंट सात और आठ शॉट से जीत लेती थी।

वह 2016 में प्रो बन गईं और लल्ला आइचा स्कूल के माध्यम से लेडीज यूरोपियन टूर (एलईटी) पर एक फुल कार्ड प्राप्त किया। अदिति भारत में तब एक घरेलू नाम बन गईं जब वह रियो डी जनेरियो में ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा करने वाली पहली भारतीय लड़की बनी, जब उन्होंने 60 गोल्फरों में से 41 वें स्थान पर रहने से पहले दो राउंड में शीर्ष -10 में जगह बनाई।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Saturday, August 7, 2021, 11:26 [IST]
Other articles published on Aug 7, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X