50 साल बाद ओवल में जीत हासिल कर भारत ने रचा इतिहास, सीरीज में बनाई अजेय बढ़त

IND vs ENG
Photo Credit: BCCI/Twitter

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही 5 मैचों की टेस्ट सीरीज का चौथा मैच ओवल के मैदान पर खेला जहां पर भारतीय टीम ने एक बार फिर से वापसी करते हुए 200 रनों से जीत हासिल कर सीरीज में 2-1 की अजेय बढ़त हासिल कर ली है। भारतीय टीम ने लॉर्डस में जीत हासिल कर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल की थी, जिसके बाद हेडिंग्ले के मैदान पर इंग्लिश टीम ने शानदार वापसी करते हुए भारतीय टीम को 76 रन और पारी से मात दी और सीरीज को 1-1 से बराबर कर दिया था। ओवल के मैदान पर भारतीय टीम उतरी तो आंकड़े उसके पक्ष में नहीं थे, यहां पर खेले गये 13 मैचों में से उसे सिर्फ एक बार जीत, 4 बार हार और 8 बार ड्रॉ का सामना करना पड़ा था।

और पढ़ें: ऑली पोप को बोल्ड कर बुमराह ने पूरा किया विकेटों का शतक, नाम किया टेस्ट क्रिकेट का महा रिकॉर्ड

इतना ही नहीं पहली पारी में भारतीय टीम के बल्लेबाज लड़खड़ाते नजर आये और महज 191 रन पर ही सिमट गये। जवाब में इंग्लिश टीम ने 290 रनों का स्कोर खड़ा कर 99 रनों की अहम बढ़त हासिल कर ली और भारत को मैच में काफी पीछे धकेल दिया। हालांकि भारतीय टीम के बल्लेबाजों ने दूसरी पारी में शानदार पारियां खेलकर टीम की वापसी कराई और 466 रनों का विशाल स्कोर खड़ा कर भारत को 367 रनों की बढ़त दिलाई। जवाब में इंग्लैंड की टीम महज 210 रनों पर सिमट गई और भारत ने 157 रनों से मैच को अपने नाम कर लिया।

और पढ़ें: ओवल में क्यों जडेजा को बल्लेबाजी में मिला प्रमोशन, बल्लेबाजी कोच ने खोला रहाणे से पहले भेजने का राज

50 साल में पहली बार भारत को मिली जीत

50 साल में पहली बार भारत को मिली जीत

उल्लेखनीय है कि केनिंग्सटन ओवल के मैदान पर भारतीय टीम को 50 साल में पहली बार जीत मिली है। ओवल के मैदान पर भारतीय टीम को पहली बार साल 1971 में जीत मिली थी, जहां पर अजीत वाडेकर की कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड को 4 विकेट से हराया था। इंग्लैंड की टीम ने इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए 355 रनों का स्कोर खड़ा किया था जवाब में भारतीय टीम 284 रनों पर ऑल आउट हो गई। दूसरी पारी में भारतीय गेंदबाजों ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 101 रनों पर समेट दिया। चौथी पारी में भारत को जीत के लिये 174 रनों की दरकार थी जिसे उसने 6 विकेट खोकर आसानी से हासिल कर लिया।

हर पारी में एक खिलाड़ी 50 रन पर आउट

हर पारी में एक खिलाड़ी 50 रन पर आउट

इस मैच में कई शानदार चीजें देखने को मिली जिसमें से एक ऐसा रिकॉर्ड भी रहा जो क्रिकेट के इतिहास में कभी भी देखने को नहीं मिला था। इस मैच की हर पारी में एक बल्लेबाज 50 रन के स्कोर पर आउट हुआ है जो कि इस मैच से पहले कभी भी देखने को नहीं मिला था। भारत के लिये पहली पारी में कप्तान विराट कोहली 50 रन के स्कोर पर आउट हुए थे तो वहीं पर इंग्लैंड के लिये क्रिस वोक्स 50 रन के स्कोर पर आउट हुए। दूसरी पारी में ऋषभ पंत 50 रन के स्कोर पर अपना विकेट खोकर आउट हुए तो वहीं पर इंग्लैंड के लिये रॉरी बर्न्स 50 रन के स्कोर पर आउट हुए।

भारतीय गेंदबाजों ने 5वें दिन दिलाई जीत

भारतीय गेंदबाजों ने 5वें दिन दिलाई जीत

भारत की ओर से 368 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम के लिये सलामी बल्लेबाज रॉरी बर्न्स (50) और हासिब हामिद (63) ने बेहतरीन शुरुआत करते हुए पहले विकेट के लिये 100 रनों की साझेदारी कर डाली। इस वक्त ऐसा लग रहा था मानों इंग्लैंड की टीम पहली बार 368 रनों के स्कोर का पीछा करके इतिहास रच सकती है क्योंकि पिच से गेंदबाजों को कोई मदद नहीं मिल रही थी। लेकिन पांचवे दिन शार्दुल ठाकुर ने रॉरी बर्न्स का विकेट लेकर भारत की वापसी कराई और यहां से विकेटों के गिरने का सिलसिला शुरू हो गया।

डेविड मलान रन आउट हुए तो हासिब हामिद को रविंद्र जडेजा ने बोल्ड कर के टीम की वापसी कराई। लंच तक इंग्लैंड की टीम ने अपने 3 विकेट खो दिये। लंच के बाद भारत के लिये जसप्रीत बुमराह ने पहले ऑली पोप और फिर जॉनी बेयरस्टो को बोल्ड कर टीम के हारने के समीकरण को पूरी तरह से बाहर कर दिया। वहीं कुछ देर बाद जडेजा ने मोइन अली को कैच कराकर इंग्लैंड को छठा झटका दिया। शार्दुल ठाकुर ने जो रूट को बोल्ड कर इंग्लैंड को सबसे बड़ा झटका दिया, जिसके बाद उमेश यादव ने पहले क्रिस वोक्स और फिर ओवर्टन का विकेट लेकर टीम की जीत पर मुहर लगा दी।

जीत के हीरो रहे शार्दुल ठाकुर

जीत के हीरो रहे शार्दुल ठाकुर

गौरतलब है कि भारतीय टीम के लिये इस जीत के कई हीरो रहे लेकिन अगर शार्दुल ठाकुर को वो खिलाड़ी माना जाये जिसने मैच का रुख बदला है तो गलत नहीं होगा। पहली पारी में भारतीय टीम ने महज 127 रन अपने 7 विकेट खो दिये थे लेकिन शार्दुल ठाकुर ने 36 गेंदों में 57 रनों की पारी खेलकर टीम को एक सम्मानजनक स्कोर पर पहुंचाया। वहीं दूसरी पारी में भी जब भारतीय टीम के पास सिर्फ 213 रनों की बढ़त हुई थी तो एक बार फिर से विराट सेना मुश्किल में पहुंच गई थी लेकिन शार्दुल ठाकुर ने 60 रनों की अर्धशतकीय पारी खेलकर ऋषभ पंत के साथ 100 रनों की साझेदारी की और टीम की बढ़त को 300 के पार पहुंचा दिया और भारत को एक ऐसी बढ़त दिला दी जिससे उसका हारना लगभग नामुमकिन हो गया।

वहीं गेंदबाजी में जब दूसरी पारी में भारत को विकेट की बेहद ज्यादा दरकार थी तो शार्दुल ने अपनी अनप्लेयबल गेंद से बर्न्स का विकेट हासिल कर पहली सफलता दिलाई और भारत की जीत में जो सबसे बड़ी बाधा बन सकते थे उस कप्तान जो रूट (38) का भी विकेट शार्दुल ने ही लिया।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Monday, September 6, 2021, 21:09 [IST]
Other articles published on Sep 6, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X