आसान नहीं थी कोविड से लड़ाई, बालाजी, वरुण चक्रवर्ती ने साझा किए उस समय के डर और चिंताएं

नई दिल्लीः ग्राउंडस्टाफ के बाद कोविड -19 से खिलाड़ियों, कोचों को बचाने में नाकामयाब रहने के बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 को निलंबित करने के लिए मजबूर होना पड़ा। नकदी से भरपूर आईपीएल अगर निलंबति किया गया तो समझा जा सकता है स्थिति हाथ से निकलने लगी थी। यह भारत के जनमानस को बुरी तरह प्रभावित करने वाली कोरोना की दूसरी लहर थी जिसमें आईपीएल में फ्रेंचाइजियों के बॉयो-बबल में भी सेंध लगा थी। हालांकि यह अभी भी एक रहस्य है कि कैसे कोविड -19 ने जैव-बुलबुले को तोड़ने में कामयबी पाई।

बालाजी ने बताया, 2 मई को बेचैनी होने लगी थी

बालाजी ने बताया, 2 मई को बेचैनी होने लगी थी

ईएसपीएनक्रिकइन्फो के साथ एक साक्षात्कार में, भारत के पूर्व तेज गेंदबाज और चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के गेंदबाजी कोच लक्ष्मीपति बालाजी, और कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती ने कोविड-19 से पीढ़ित होने के बाद उनके डर, रिकवरी की चुनौतीपूर्ण यात्रा के बारे में बात की।

बालाजी याद करते हैं, "शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से कोविड -19 से उबरना, मैन वर्सेज वाइल्ड के एक एपिसोड का अनुभव करने जैसा है।"

उन्होंने आगे बताया, "2 मई को, मुझे थोड़ी बेचैनी महसूस हो रही थी। मुझे शरीर में दर्द और नाक हल्की बंद थी। उसी दिन दोपहर के बीच मेरा परीक्षण किया गया था। 3 मई की सुबह तक, मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव थी। मैं चौंक गया। मैंने अपनी और बाकी बबल की सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए मानदंडों का उल्लंघन करने के लिए कुछ भी नहीं किया था। "

जोफ्रा आर्चर नहीं तो सब सही, इंग्लैंड के लिए बड़ा झटका, भारत को उठाना होगा फायदा

उथ्पपा, पुजारा, दीपक चाहर को लेकर बढ़ गई चिंता- बालाजी

उथ्पपा, पुजारा, दीपक चाहर को लेकर बढ़ गई चिंता- बालाजी

बालाजी के साथ, कासी विश्वनाथन (सीएसके के सीईओ) और एक सहायक स्टाफ सदस्य सहित दो अन्य ने खुद को कोविड पॉजिटिव पाया।

बालाजी ने अपना डर बताते हुए कहा, "मैं अपनी भावनाओं को व्यक्त नहीं कर सका। मुझे पता था कि लोग बाहर मर रहे हैं। मामले की गंभीरता को समझने में मुझे और 24 घंटे लग गए। मैं अपनी टीम के अन्य लोगों के बारे में चिंतित होने लगा, जिनके साथ मैं कोविड टेस्ट करने से पहले मिल रहा था। राजीव कुमार (सीएसके फील्डिंग कोच), रॉबिन उथप्पा, चेतेश्वर पुजारा दीपक चाहर और कासी सर मेरे आसपास थे।"

तमिलनाडु और केकेआर के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती वायरस से उबरने के कुछ हफ्ते बाद भी कमजोरी और चक्कर महसूस करते हैं।

वरुण चक्रवर्ती ने बताया कोविड-19 का मानसिक हालत पर असर-

वरुण चक्रवर्ती ने बताया कोविड-19 का मानसिक हालत पर असर-

वरुण ने बीमारी के दिमागी असर के बारे में बात करते हुए कहा, "कोविड -19 होने के बाद सबसे कठिन बात यह है कि आपका दिमाग विचलित हो रहा है और जो कुछ भी हो रहा है उससे दूर जाना मुश्किल है। क्योंकि आप अकेले हैं, अपने परिवार और टीम के साथियों से दूर हैं, "वरुण ने कहा।

29 वर्षीय आर्किटेक्ट से क्रिकेटर बने वरुण ठीक हो गए हैं, लेकिन कोविड -19 के बाद के लक्षणों के कारण अभी तक अपना प्रशिक्षण फिर से शुरू नहीं किया है।

वरुण कहते हैं, "मुझे खांसी या बुखार नहीं है; कमजोरी और चक्कर आना दिक्कत है। गंध और स्वाद अभी भी रुक-रुक कर जाते रहते हैं, लेकिन मुझे विश्वास है कि मैं जल्द ही प्रशिक्षण फिर से शुरू कर पाऊंगा। "

वरुण कहते हैं, "मैंने जो कुछ सीखा है वह अन्य एथलीटों और कोविड -19 से उबरने वाले व्यक्तियों को बताना चाहूंगा कि नेगेटिव टेस्ट होने के बाद आपके शरीर को पूरी तरह से ठीक होने के लिए कम से कम दो सप्ताह का समय देना है। इसके अलावा, बाद में भी मेरी सलाह है कि वे मास्क लगाना जारी रखें ताकि आप अपने आस-पास के लोगों को सुरक्षित रखें। "

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Saturday, May 22, 2021, 12:31 [IST]
Other articles published on May 22, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X