लॉकडाउन के चलते मोहम्मद शमी को हुआ बड़ा नुकसान, जानें क्या बोले

नई दिल्ली। दुनिया भर में फैली महामारी कोरोना वायरस के बीच पिछले 4 महीनों से खिलाड़ियों के लॉकडाउन में रहना पड़ रहा है। इस बीच भारतीय टीम के रिवर्स स्विंग स्पेशलिस्ट मोहम्मद शमी ने लॉकडाउन पर बात करते हुए बताया कि इससे उन्हें जहां फायदा हुआ है तो वहीं पर क्या कुछ नुकसान भी हुए हैं। एक इंटरव्यू के दौरान इस बारे में बात करते हुए मोहम्मद शमी ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें फिटनेस पर काम करने का मौका मिला जिससे उनकी फिटनेस तो अच्छी हो गयी लेकिन गेंदबाजी में उनकी लय खराब हो गई है।

और पढ़ें: नासिर हुसैन की ICC से बड़ी मांग, बदलना चाहते हैं टेस्ट क्रिकेट का यह नियम

इस बारे में बात करते हुए शमी ने कहा,कोरोना वायरस लॉकडाउन में थके हुए शरीर को आराम और मजबूत होने का समय जरूर मिला लेकिन उन्हें डर है कि लंबे ब्रेक से उनकी लय पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है।'

और पढ़ें: ENG vs WI 1st Test: गैब्रियल-होल्डर के तूफान में उड़ा इंग्लैंड, 204 रन पर हुआ ऑल आउट

लॉकडाउन में फायदे के साथ नुकसान भी हुआ

लॉकडाउन में फायदे के साथ नुकसान भी हुआ

शमी का मानना है कि लॉकडाउन के दौरान वह शहरों में फंसे दूसरे भारतीय खिलाड़ियों की तुलना में बेहतर स्थिति में हैं, क्योंकि वह सहारनपुर में अपने गांव के पैतृक घर के खुले आंगन में अभ्यास करते रहे हैं, साथ ही घर के बाहर एक छोटा सा क्रिकेट मैदान भी बना रखा है।

उन्होंने कहा, 'इसे दो तरीके से देख सकते हैं। भारतीय टीम का कार्यक्रम हमेशा व्यस्त रहता है और इस ब्रेक से थके हुए शरीर को आराम का समय मिला। एक तरफ आपको शारीरिक फायदा हुआ और आप अधिक फिट तथा मजबूत हो गए लेकिन लंबे समय तक नहीं खेलने से लय चली जाती है। यही फर्क है। फायदे और नुकसान तो इस पर निर्भर है कि आप अपने शरीर की देखभाल कैसे कर रहे हैं।'

BCCI कैम्प से मिलेगा फायदा

BCCI कैम्प से मिलेगा फायदा

बीसीसीआई की ओर से शिविर शुरु करने को लेकर तैयार बैठे मोहम्मद शमी का मानना है कि जब बोर्ड इसकी शुरुआत करेगा तो खिलाड़ियों को काफी फायदा होने वाला है। शमी अब तक भारत के लिये 49 टेस्ट में 180 विकेट ले चुके हैं।

उन्होंने कहा ,' निश्चित तौर पर मुझे फायदा होगा क्योंकि मैं नियमित अभ्यास कर रहा हूं। यह चोट के कारण मिले ब्रेक से अलग है। मैं लय में रहा हूं और कोई जकड़न महसूस नहीं हो रही। समय के साथ लय मिल ही जायेगी।'

लार बैन पर अभी कुछ कहा नहीं जा सकता

लार बैन पर अभी कुछ कहा नहीं जा सकता

वहीं कोरोना वायरस के बाद आईसीसी की ओर से बदले हुए नियमों पर बात करते हुए शमी ने कहा कि उन्हें अभी इस बात का अंदाजा नहीं है कि लार के बिना लाल गेंद कैसे पेश आयेगी। इस बात का सिर्फ नेटस पर अभ्यास करके ही लगाया जा सकता है।

उन्होंने कहा ,'जैसी परिस्थितियां चाहिये वैसी नहीं होने पर आप पुरानी गेंद से अभ्यास नहीं कर सकते। नेट पर जो पुरानी गेंद ली जाती है , वह कई दिन बाक्स में रहती है और मैच की पुरानी गेंद से अलग होती है। मैच में तो लगातार खेलते हुए गेंद पुरानी होती है। अभ्यास के दौरान मैं नयी गेंद से ही गेंदबाजी करूंगा और कोशिश करूंगा कि लार का इस्तेमाल नहीं करूं। लोग मुझसे यह सवाल पूछते हैं लेकिन मेरे पास कोई जवाब नहीं है। हम बरसों से लार का इस्तेमाल करते आये हैं। यह आदत है। एक बार लार के बिना गेंदबाजी करेंगे, तभी पता चल सकेगा।'

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, July 9, 2020, 21:53 [IST]
Other articles published on Jul 9, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X