धोनी के सेलेक्शन पर पूर्व भारतीय कोच का बड़ा खुलासा, कहा- गांगुली के कहने पर भी नहीं मिली थी जगह

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने हाल ही में अपने 16 सालों के करियर के अंतर्राष्ट्रीय करियर को अलविदा कहते हुए संन्यास का ऐलान कर दिया, हालांकि इस दौरान उन्होंने लाखों फैन्स के दिल पर राज किया। धोनी के मैच फिनिश करने के अंदाज और शांत रहते हुए टीम संभालने की कला ने उन्हें क्रिकेट इतिहास के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों की श्रेणी में ला खड़ा कर दिया। हालांकि टीम इंडिया के लिये असली मैच फिनिशर बनने की उनकी कला को सबसे पहले पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने पहचाना था।

CPL 2020: 6 छक्के लगाकर सिमन्स ने खेली 96 रनों की ताबड़तोड़ पारी, TKR ने जीता लगातार 8वां मैच

अब तक माना जाता रहा है कि यह पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ही थे जिनके कहने पर धोनी को साल 2004 में वनडे डेब्यू और फिर साल 2005 में टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला था। वहीं भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच जॉन राइट ने धोनी के डेब्यू को लेकर बड़ा खुलासा किया है। जॉन राइट ने बताया कि पूर्व कप्तान सौरव गांगुली साल 2004 के पाकिस्तान दौरे के लिए ही एमएस धोनी को टीम इंडिया में चाहते थे लेकिन वो बहुत ही करीब से टीम में आने से चूक गए।

Viral Video: चहल पर चढ़ा 'रसोड़े में कौन था’ का फीवर, मंगेतर धनश्री के साथ बनाई वीडियो

धोनी के चयन पर जॉन राइट का खुलासा

धोनी के चयन पर जॉन राइट का खुलासा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पूर्व कोच जॉन राइट ने एक इंटरव्यू में बताया कि सौरव गांगुली पाकिस्तान दौरे पर धोनी को डेब्यू कराना चाहते थे। उस दौरे पर तीन टेस्ट की सीरीज में पार्थिव पटेल विकेटकीपर थे और पांच मैचों की वनडे सीरीज में द्रविड़ ने विकेटकीपिंग की थी। राइट ने बताया कि 2004 पाकिस्तान दौरे पर धोनी ने लगभग टीम में जगह बना ही ली थी। गांगुली धोनी को हर हाल में टीम में चाहते थे। लेकिन धोनी टीम में आने से चूक गए। बता दें पाकिस्तान में खेली गई टेस्ट सीरीज में भारत ने 2-1 से जीत हासिल की थी और वनडे सीरीज भी 3-2 से जीती थी।

धोनी से काफी प्रभावित थे सौरव गांगुली

धोनी से काफी प्रभावित थे सौरव गांगुली

जॉन राइट ने इंटरव्यू में बताया कि धोनी साल 2004 के दौरान राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय थे। गांगुली उनके बारे में अच्छी-अच्छी बातें करते थे। राइट ने बताया कि उन्होंने भी धोनी का नाम गांगुली के मुंह से ही सुना था। धोनी ने पाकिस्तान दौरे पर तो डेब्यू नहीं किया लेकिन साल 2004 में ही उन्हें बांग्लादेश सीरीज में मौका मिला। इसके बाद दिसंबर 2005 में वो टेस्ट टीम का भी हिस्सा बने। यहां से धोनी ने कभी पलटकर नहीं देखा और उनका करियर महान कप्तान के तौर पर खत्म हुआ।

भारत के महानतम कप्तान हैं एमएस धोनी

भारत के महानतम कप्तान हैं एमएस धोनी

एमएस धोनी ने बतौर कप्तान ढेरों वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए। वो 2007 में टी20 वर्ल्ड कप जीते, 2011 में वर्ल्ड कप जीता, 2013 में वो चैंपियंस ट्रॉफी जीते। इसके अलावा धोनी ने 90 टेस्ट में 4876 रन बनाए। 350 वनडे में उनके बल्ले से 10,773 रन निकले। उनका वनडे औसत 50 से ज्यादा रहा। टी20 में भी धोनी ने 37 से ज्यादा की औसत से रन बनाए।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, September 3, 2020, 21:24 [IST]
Other articles published on Sep 3, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X