INDvs AUS: तीसरे टेस्ट के लिए ओपनिंग में कुछ हटकर प्रयोग कर सकता है भारत

India Vs Australia 3rd Test: Issues Virat Kohli need to address ahead of 3rd Test |वनइंडिया हिंदी
india is considering new options in opening batsman slot for boxing day test against Australia

नई दिल्ली। भारत की ओपनिंग जोड़ी की समस्या विदेशी दौरे पर एक बार फिर से उभरकर नासूर बन चुकी है। पहले दोनों टेस्ट में बुरी तरह से असफल रहे ओपनर्स के कारण टीम इंडिया को ना मजबूत नींव मिल सकी और ना ही फिर उस पर रनों की बड़ी इमारत खड़ी कर सकी। रही-सही कसर पृथ्वी शॉ की चोट ने पूरी कर दी। इसी के साथ भारत के पास विकल्पों के कम होने जैसी दूसरी समस्या भी आ खड़ी हुई।

100 रन भी मिलाकर नहीं बना पाई ओपनिंग जोड़ी

100 रन भी मिलाकर नहीं बना पाई ओपनिंग जोड़ी

जहां तक बात मुरली विजय और केएल राहुल की जोड़ी की है तो दोनों में जैसे रन ना बनाने की होड़ लगी है। दोनों ओपनरों ने पिछले दो मैचों में मिलकर अब तक कुल 97 रन ही बनाए हैं। इसके चलते भारत के मध्यक्रम को नई गेंद के सामने जल्दी आना पड़ रहा है। हालांकि अभी तक चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे जैसे भरोसेमंद बल्लेबाजों से सजे भारतीय मध्यक्रम ने अपनी जिम्मेदारियां निभाई हैं, लेकिन निचला क्रम फिर स्कोर करने में बुरी तरह असफल रहता है। इस तरह टीम तीन बल्लेबाजों के रन बनाने के बावजूद भी सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने में भी सफल नहीं हो पा रही है।

चेतेश्वर पुजारा से ओपनिंग!

चेतेश्वर पुजारा से ओपनिंग!

भारत ने मयंक अग्रवाल को बुलाया है और साथ ही चोट से उभर चुके ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या को भी टीम में शामिल किया है। लेकिन यह बहुत संभव है कि मयंक को तुरंत अनजान पिच पर स्टार्क एंड कंपनी के सामने ना उतारा जाए। ऐसे में भारत चेतेश्वर पुजारा और पार्थिव पटेल में से किसी एक को ओपनर के तौर पर उतारने के लिए विचार कर रहा है। टीम प्रबंधन यदि ऐसा फैसला करता है तो विजय या राहुल में से किसी एक को बाहर बैठाना पड़ सकता है। इससे निचले टीम में एक बल्लेबाज का स्थान भी खाली हो जाएगा जिसको भरने के लिए ऑलराउंड हार्दिक पांड्या को टीम में शामिल किया जा सकता है।

इस कारण से महिला क्रिकेट टीम के कोच नहीं चुने गए भारत को विश्वकप दिलाने वाले गैरी कर्स्टन

पार्थिव पाटिल दे सकते हैं संतुलन

पार्थिव पाटिल दे सकते हैं संतुलन

वहीं, अगर पार्थिव पटेल से ओपनिंग के साथ साथ विकेटकीपिंग भी करवाई जाती है तो टीम में ऋषभ पंत को बाहर करके भी पांड्या को खिलाया जा सकता है। इस तरह से टीम को ओपनिंग में अपने बचे हुए विकल्पों को आजमाने के अलावा एक ज्यादा संतुलित टीम भी मिल जाएगी। इससे भारत के सामने ऐसी स्थिति नहीं आएगी जैसी पर्थ में आई थी। भारत वहां चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरा, जबकि स्पिनर एक भी नहीं था। पांडया जहां चौथे तेज गेंदबाज की भूमिका निभा सकते हैं तो वहीं एक बल्लेबाज का भी रोल अदा कर सकते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

    Story first published: Friday, December 21, 2018, 12:56 [IST]
    Other articles published on Dec 21, 2018
    POLLS

    MyKhel से प्राप्त करें ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Mykhel sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Mykhel website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more