बेइंतहा ट्रोलिंग पर उनादकट का पलटवार- 'लोगों को पता नहीं हम भी इंसान हैं'

नई दिल्ली: भारतीय उपमहाद्वीप जैसे देशों में फैंस अपने चहेते क्रिकेटरों को सर आंखों पर रखते हैं, लेकिन प्रशंसकों को उसी क्रिकेटरों के खिलाफ मुड़ने में देर नहीं लगती है अगर वही खिलाड़ी मैदान पर छोटी-छोटी गलतियां करते हैं। और एक क्रिकेटर जो इसे अच्छी तरह से जानता है, वह है जयदेव उनादकट। इस गेंदबाज ने एक किशोर के रूप में 2010 में दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर भारत के लिए अपनी शुरुआत की। उनादकट ने सनसनी बहुत मचाई लेकिन वास्तव में उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए हैं।

आखिरकार चीजें अच्छी तब हुई जब उन्होंने आईपीएल 2017 में दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी के रूप में अपना नाम किया। उनका प्रदर्शन एक कारण था कि राइजिंग पुणे सुपरजायंट ने सभी बाधाओं के खिलाफ फाइनल में जगह बनाई। इस प्रदर्शन ने न केवल उन्हें भारतीय टीम से वापस बुलाने में मदद की, बल्कि अगली दो नीलामी में सबसे महंगे भारतीय खिलाड़ी बन गए।

बहुत हुई ट्रोलिंग-

बहुत हुई ट्रोलिंग-

लेकिन फिर से समय पलटा और उनादकट अपने बड़े मूल्य टैग को सही ठहराने में असफल रहे। 2018 के बाद से, उन्होंने 26 मैचों में से केवल 21 विकेट लिए और 10+ रन रेट के साथ रन भी लुटवाए। पिछले सीजन में वह 14 मैचों में 10.66 की इकॉनमी रेट के साथ सिर्फ 10 विकेट ही ले पाए थे क्योंकि राजस्थान रॉयल्स प्लेऑफ में जगह बनाने में नाकाम रही थी।

'फ्यूचर टूर प्रोग्राम' से नाखुशी पर कोहली को लगाई COA के पूर्व मेंबर ने फटकार

इस दौरान उनादकट की आलोचना इस हद तक हुई कि वे सोशल मीडिया पर बात-बात पर ट्रोलर्स की लिस्ट में फेवरेट नाम बन गए। उनादकट ने हाल ही में उन आलोचनाओं के बारे में बात की और कहा कि प्रशंसक कभी-कभी लाइन पार कर जाते हैं।

'मनोरंजन मिलता है ट्रोलर्स को'

'मनोरंजन मिलता है ट्रोलर्स को'

"कुछ बिंदु पर, मुझे लगता है कि लोग इतने कठोर हो जाते हैं कि उन्हें एहसास ही नहीं होता कि हम इंसान हैं। लेकिन आप वास्तव में हर व्यक्ति के पास नहीं जा सकते और देख सकते कि उनकी मानसिकता क्या है। वे [ट्रोल] इसे मनोरंजन के लिए करते हैं, या केवल ध्यान आकर्षित करने के लिए करते हैं।"

उनादकट ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो को बताया, लोगों ने मुझे बताया है कि सोशल मीडिया पर हो रही बात के लिए मुझे परेशान नहीं होना चाहिए और ना ही सोशल मीडिया की ओर बहुत देखना चाहिए।

'सोशल मीडिया को गंभीरता से लेने का मतलब नहीं'

'सोशल मीडिया को गंभीरता से लेने का मतलब नहीं'

"मेरे पास कोई नहीं था जो मेरे चेहरे पर आकर मेरी बुराई करे। मुझे लगता है कि वे लोग केवल सोशल मीडिया पर आपका उल्लेख करते हैं। आमने सामने, वे कुछ भी नहीं बोलते। वह खुद दिखाता है कि वे चीजें वास्तव में उतनी मायने नहीं रखतीं, जितनी आप सोचते हैं।

अपनी फोटो में कोहली ने बताया जिंदगी को एक आशीर्वाद, फैंस ने बरसाया प्यार

जबकि जयदेव उनादकट ने कहा कि रचनात्मक आलोचना उनके खेल को बेहतर बनाने में एक खिलाड़ी की मदद करती है, ऐसे लोग हैं जो क्रिकेटरों को गाली देते हैं। उन्होंने आगे कहा कि उन्हें अब सभी ट्रोल्स और गाली-गलौज की आदत है और ये बातें उन्हें ज्यादा परेशान नहीं करती हैं।

'भारत में खेलना है खाल मोटी करो'

'भारत में खेलना है खाल मोटी करो'

"हम प्रशंसकों के लिए यह सुंदर खेल खेलते हैं, लेकिन हमारे देश में, ऐसा होता है कि कुछ लोग इसमें भी घृणा या ईर्ष्या भर सकते हैं। आलोचक कई बार आपकी मदद कर सकते हैं, आपको ऐसी चीजें बताते हैं जो आप अपने खेल में नहीं देखते हैं। लेकिन जो लोग हर समय आपको कोसते रहते हैं, वे वास्तव में मायने नहीं रखते हैं।

"जब यह शुरू हुआ, तो यह मुश्किल था क्योंकि मुझे इसकी आदत नहीं थी। लेकिन मैं अब सभी के लिए बहुत अधिक सोचता नहीं हूं। यदि आप भारत में क्रिकेट खेल रहे हैं तो आपको एक मोटी चमड़ी विकसित करनी होगी।"

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Friday, January 31, 2020, 14:02 [IST]
Other articles published on Jan 31, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X