T20 World Cup : ये है भारत की संभावित प्लेइंग इलेवन, राहुल करेंगे ओपनिंग

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने बुधवार (8 सितंबर) को आगामी आईसीसी T20 विश्व कप 2021 के लिए 15 सदस्यीय टीम की घोषणा की। चेतन शर्मा के नेतृत्व वाले चयन पैनल ने शिखर धवन, युजवेंद्र चहल और क्रुणाल पांड्या को जगह नहीं दी, जबकि रविचंद्रन अश्विन और अक्षर पटेल के रूप में कुछ आश्चर्यजनक फैसले भी थे। हैरानी की बात है क्योंकि उन्होंने लंबे समय तक सीमित ओवरों का क्रिकेट नहीं खेला है और चहल, कुलदीप यादव और हाल ही में सुर्खियों में आने वाले वाशिंगटन सुंदर को बाहर का रास्ता दिखाया गया है।

ऑफ स्पिनर सुंदर की उंगली में चोट आई थी, जिससे वह अभी उभरे नहीं, इसका फायदा अक्षर पटेल को मिल गया। संयुक्त अरब अमीरात में पिचों को ध्यान में रखते हुए स्पिन के पक्ष में पांच स्पिनरों को शामिल किया गया।

चयनकर्ताओं ने लगातार शानदार फाॅर्म में चल रहे सूर्यकुमार यादव, राहुल चाहर को भी शामिल किया है। दोनों ने श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज के दौरान महत्वपूर्ण योगदान दिया और टीम में रहने का अधिकार अर्जित किया। इस बीच, ऋषभ पंत के बैकअप के रूप में ईशान किशन नामित विकेटकीपर-बल्लेबाज हैं। भुवनेश्वर कुमार की टीम में वापसी हुई है और रवींद्र जडेजा भी स्पिनरों में से एक हैं। आइए देखते हैं टी20 विश्व कप के लिए कैसी हो सकती है भारत की संभावित प्लेइंग इलेवन-

यह भी पढ़ें- ...तो इस कारण अश्विन को मिली जगह, 2017 से नहीं खेला कोई T20 मैच

1. रोहित शर्मा

1. रोहित शर्मा

रोहित शर्मा वर्तमान में सफेद गेंद वाले क्रिकेट में विश्व स्तर पर सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में से एक रहे हैं। दाएं हाथ का यह बल्लेबाज शानदार दाैर से गुजर रहा है। T20 क्रिकेट में उनके रिकाॅर्ड की बात करें तो, रोहित शर्मा ने 103 अंतरराष्ट्रीय T20 पारियों में 2,864 रन बनाए हैं। टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों के मामले में वह कप्तान विराट कोहली से पीछे हैं। इसके अलावा रोहित ने इस प्रारूप में चार शतक और 21 अर्द्धशतक बनाए हैं। कुछ प्रशंसकों ने तो यहां तक कह दिया कि टीम प्रबंधन को टी20 विश्व कप से पहले रोहित शर्मा को कप्तानी सौंपनी चाहिए। जबकि विराट कोहली की कप्तानी खोने की संभावना नहीं है, रोहित निश्चित रूप से एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में टीम में शामिल होंगे। साथ ही उप-कप्तान की भूमिका निभाएंगे।

2. केएल राहुल

2. केएल राहुल

फॉर्म में चल रहे केएल राहुल ने टी20 फॉर्मेट में बतौर ओपनिंग बल्लेबाज काफी सफलता हासिल की है। टूर्नामेंट संयुक्त अरब अमीरात की परिस्थितियों में होगा, रोहित और केएल राहुल दोनों द्वारा दमदार शुरूआत करने की संभावना है। केएल राहुल के नाम 45 T20 पारियों में 1557 रन हैं और वह पावरप्ले के ओवरों में मैच की पहली गेंद से ही विस्फोटक हो सकते हैं। उनका 140 से अधिक का स्ट्राइक रेट विपक्षी गेंदबाजों के लिए बुरा सपना साबित हो सकता है। इसके अलावा, केएल यूएई के धीमे विकेटों पर बहुत अच्छा कर सकता है और उसके पास आईपीएल का विशाल अनुभव भी है।

3. विराट कोहली

3. विराट कोहली

कोहली दुनिया के सबसे सफल T20 बल्लेबाज हैं। कई प्रशंसकों को लगेगा कि विराट कोहली के लिए नंबर चार की स्थिति सर्वश्रेष्ठ हो सकती है। हालांकि अब टीम के पास उपलब्ध विकल्पों को देखते हुए कप्तान कोहली को आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में तीन नंबर पर बल्लेबाजी करनी पड़ सकती है। ओपनिंग पोजीशन पर बल्लेबाजी करते हुए केएल राहुल ज्यादा सहज हैं। अगर टीम प्रबंधन राहुल को शीर्ष पर रख कर खुश होता है तो विराट कोहली अपने नियमित नंबर तीन पर बल्लेबाजी कर सकते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के 89 मैचों के T20 करियर में 3159 रन हैं। दाएं हाथ के बल्लेबाज ने 52.65 के अपने बल्लेबाजी औसत के साथ अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेक में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं।

4. सूर्यकुमार यादव

4. सूर्यकुमार यादव

मुंबई के बल्लेबाज सूर्युकमार को लंबे समय बाद टी20 सीरीज में इंग्लैंड के खिलाफ पदार्पण करना पड़ा और उन्होंने निराश नहीं किया क्योंकि उन्होंने पहली गेंद पर तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर का छक्का लगाकर स्वागत किया। तब से, दाएं हाथ के बल्लेबाज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और निडर क्रिकेट खेलकर टीम में प्रतिष्ठा को मजबूत किया। यादव की स्पिन को शानदार तरीके से खेलने की क्षमता भी चयनकर्ताओं के लिए टी 20 विश्व कप के लिए टीम में शामिल करने वालों में से एक थी। साथ ही, वह बल्लेबाजी क्रम में कहीं भी उतर सकता है और नंबर तीन, चार और पांच पर बल्लेबाजी कर सकता है। मुख्य रूप से उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग में मुंबई इंडियंस के लिए उसी स्थिति में बल्लेबाजी की है। यादव जल्दी से गियर बदल सकते हैं और टी 20 विश्व कप के दौरान उस भूमिका को निभाने के लिए एकदम सही हैं। वह चाैथे नंबर पर भूमिका निभाने के लिए सही हैं।

5. ऋषभ पंत

5. ऋषभ पंत

अगर भारतीय टीम में कोई एक बल्लेबाज है जिसने पिछले छह महीने में तहलका मचाया तो ऋषभ पंत का नाम लेना गलत नहीं है। धुरंधर बल्लेबाज ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान इसकी शुरुआत की और इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज के दौरान भी अपने शानदार बॉल स्ट्राइकिंग कौशल का प्रदर्शन किया। पंत की आक्रामक बल्लेबाजी करने की क्षमता उसे एक खतरनाक खिलाड़ी बनाती है। खेल के सबसे छोटे प्रारूप में गेम चेंजर की जरूरत रही है जो पंत ठीक साबित हो सकते हैं। हालांकि उनका T20I रिकॉर्ड अभी तक चौंका देने वाला नहीं है, लेकिन 33 में 123.07 का उनका स्ट्राइक रेट 15 सदस्यीय टीम में शामिल होने के लिए काफी महत्वपूर्ण था। साथ ही, पंत टाॅप छह में बाएं हाथ के बल्लेबाजों में से एक हैं, जो उनके मामले को थोड़ा मजबूत करता है।

6. हार्दिक पांड्या

6. हार्दिक पांड्या

ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या आईसीसी टी20 विश्व कप 2021 में भारत की सफलता की कुंजी होंगे। पांड्या को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आए थोड़े ही महीने हुए थे कि उन्हें 2016 टी 20 विश्व कप में देश का प्रतिनिधित्व करने का माैका मिल गया था। हालांकि, वह अब काफी परिपक्व खिलाड़ी हैं। बड़ौदा का यह खिलाड़ी खेल के सबसे छोटे प्रारूप में अपनी टीम के लिए मैच विजेता रहा है। पांड्या एक प्रभावशाली खिलाड़ी हैं, जो अपनी बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग से गति को अपनी टीम के पक्ष में मोड़ सकते हैं। उनका लक्ष्य अगले साल आईसीसी टी20 विश्व कप तक पूरी तरह फिट होने का है। अगर वह बीच-बीच में मध्यम गति के चार ओवर फेंक सकते हैं तो हार्दिक इस मुकाबले में टीम के लिए काफी अहम होंगे।

7. रविंद्र जडेजा

7. रविंद्र जडेजा

पिछले कुछ सीजन में रवींद्र जडेजा के प्रर्दशन में कई गुना तेजी आई है। वह एक ऑलराउंडर के रूप में टी20 वर्ल्ड कप प्लेइंग इलेवन में खेलने के योग्य दावेदार भी हैं। चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के लिए इस सीजन में, जडेजा को धोनी द्वारा फिनिशर के रूप में इस्तेमाल किया गया था और उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) के खिलाफ शानदार 60 रन बनाकर अपने कप्तान को निराश नहीं किया। जडेजा एक गन फील्डर भी हैं और ज्यादा से ज्यादा रन बचाते हैं। उनकी गेंदबाजी बहुत ही किफायती है, जिससे बल्लेबाज आक्रामक हो जाते हैं और इस प्रक्रिया में विकेट गंवा देते हैं। जडेजा टीम को एक अतिरिक्त बाएं हाथ का विकल्प भी प्रदान करते हैं। हार्दिक पांड्या के बाद जडेजा भी वैसे खिलाड़ी हैं जो टीम को अंतिम समय जीत दिला सकते हैं।

8. रविचंद्रन अश्विन

8. रविचंद्रन अश्विन

टी20 विश्व कप टीम में सबसे बड़ा फैसला अश्विन को माैका देना था। अश्विन टीम के सबसे अनुभवी स्पिनर हैं, जिनके पास आईपीएल में खेलने का भी बड़े स्तर का अनुभव है। आसान बल्लेबाजी कौशल के साथ उनकी स्मार्ट विविधताओं ने चयनकर्ताओं को टी 20 विश्व कप के लिए टीम में उनको शामिल करने पर मजबूर किया। साथ ही, पिछले दो सत्रों के दौरान, उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स के लिए शानदार प्रदर्शन किया है और पावरप्ले में गेंदबाजी की। हां, उन्होंने 2017 से अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट नहीं खेला है, लेकिन अश्विन ने आईपीएल के जरिए टीम में जगह बनाई है। भारत के कम से कम एक ऑफ स्पिनर के साथ खेलने के विकल्प के साथ अश्विन शायद उस जिम्मेदारी को निभा सकते हैं। यूएई पिचों को ध्यान में रखते हुए प्लेइंग इलेवन में 8वें खिलाड़ी अश्विन हो सकते हैं।

9. राहुल चाहर

9. राहुल चाहर

लेग स्पिनर ने राहुल ने पिछले एक साल में जितने भी मौके पाए, उसे भुनाया है। मुंबई इंडियंस के लिए खेलते हुए सुर्खियों में आए, चाहर की तेज गुगली और अच्छी इकॉनमी रेट ने उन्हें बाकियों से अलग कर दिया। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ छह सफेद गेंद के मैचों के दौरान शानदार गेंदबाजी की और सात विकेट लिए। चेतन शर्मा ने कहा कि युजवेंद्र चहल के बजाय राहुल का टीम में होने का मुख्य कारण उनकी थोड़ी तेज गेंदबाजी करने की क्षमता है। यूएई में धीमी और सुस्त पिचें उनकी गेंदबाजी शैली के अनुकूल होंगी। लेकिन देखना यह होगा कि वह प्लेइंग इलेवन में जगह बनाते हैं या नहीं। 66 टी20 मैचों में लेग स्पिनर ने 21.36 की अच्छी औसत से 82 विकेट लिए हैं। उनका इकॉनोमी रेट भी प्रभावशाली है क्योंकि यह 8 से नीचे है। इसलिए चाहर विपक्षी बल्लेबाजों को कड़ी पकड़ में रखने में भी अच्छे हैं।

10. जसप्रीत बुमराह

10. जसप्रीत बुमराह

जसप्रीत बुमराह 2016 की शुरुआत में हार्दिक पांड्या के साथ भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल हुए थे। मुंबई इंडियंस के अपने साथी की तरह, बुमराह ने 2016 में घरेलू सरजमीं पर अपना पहला आईसीसी इवेंट खेला। दाएं हाथ के तेज गेंदबाज भारत के नंबर एक ऑल-फॉर्मेट गेंदबाज बन गए। वह जबरदस्त फॉर्म में हैं। जसप्रीत ने 49 टी20 मैच खेले हैं, जिसमें देश के लिए 59 विकेट लिए हैं। घर पर उनकी 6.42 की इकॉनमी रेट भारत के बाहर खेले गए T20 मैचों में उनके 6.88 के रेट से थोड़ी बेहतर है। विशेष रूप से, जसप्रीत की गेंदबाजी औसत और स्ट्राइक रेट घरेलू धरती की तुलना में भारत के बाहर बेहतर है। उनके रिकाॅर्ड टीम प्रबंधन के पास उपलब्ध अन्य तेज गेंदबाजी विकल्पों की तुलना में काफी बेहतर है।

11. भुवनेश्वर कुमार

11. भुवनेश्वर कुमार

इंग्लैंड के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज के खिलाफ चोट से वापसी करने के बाद भुवनेश्वर कुमार ने तुरंत अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। वह पावरप्ले और डेथ ओवरों में इंग्लैंड के बल्लेबाजों को ढेर करने वाले भारत के सबसे किफायती गेंदबाज थे। कुमार ने जसप्रीत बुमराह की अनुपस्थिति में तेज गेंदबाजी आक्रमण संभाला। कुमार टीम में चुने गए चार तेज गेंदबाजों में से एक हैं और उन्हें सबसे छोटे प्रारूप में खेलने का व्यापक अनुभव है। उन्होंने अब तक 51 टी20 मैचों में 25.10 के अच्छे औसत से 50 विकेट लिए हैं। लेकिन उनका इकॉनमी रेट 6.90 रन प्रति ओवर है जो सबसे अलग है। पिछले दो वर्षों में, उनकी बल्लेबाजी में भी सुधार हुआ है और अंतिम समय रन बना सकते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, September 9, 2021, 14:13 [IST]
Other articles published on Sep 9, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X