जानिए आखिर किस वजह से डेविड वार्नर का खेल हुआ धीमा और क्यों नहीं लय में नजर आ रहे

नई दिल्ली। आईपीएल के इस सीजन में सनराइजर्स हैराबाद के कप्तान डेविड वार्नर जिस तरह की विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं, वह अभी तक देखने को नहीं मिली है। इस सीजन में वार्नर के अभी तक के सफर पर नजर डालें तो उन्होंने 35.5 के औसत से रन बनाए हैं। कुल 8 मैचों में वार्नर ने 121.88 के स्ट्राइक रेट से 284 रन बनाए हैं। लेकिन अगर पिछले सीजन की बात करें तो वार्रन ने 12 मैचों में 69.20 के औसत से 692 रन बनाए थे। वार्नर के बारे में पूर्व क्रिकेटर अजय जडेजा का कहना है कि हैदराबाद की टीम रणनीति वाली टीम है, जब शिखर धवन इस टीम के साथ थे तो वार्रन अटैकिंग बल्लेबाज थे। लेकिन जबसे शिखर धवन टीम से गए हैं और जॉनी बेयरस्टो टीम में आए हैं वार्रन ने अपनी भूमिका में बदलाव किया है।

शिखर धवन के जाने का पड़ा असर

जडेजा ने कहा कि डेविड वार्नर से तीन साल पहले गेंदबाज डरा करते थे, लेकिन जबसे शिखर धवन टीम से बाहर गए गेंदबाज बेयरस्टो से डरते हैं वार्नर से नहीं क्योंकि गेंदबाजों को पता है कि वार्नर अपना टाइम लेंगे। आंकड़ों में यह साफ नजर आता है, जबसे शिखर धवन टीम से गए हैं वार्रन की भूमिका में बदलाव आया है। डेविड वार्नर आईपीएल मे किस स्तर के खिलाड़ी हैं इस बात का अंदाजा आपको उनके आंकड़ों से हो जाएगा। कुल 134 पारियों में वार्नर ने 4990 रन बनाए हैं, जबकि उनका स्ट्राइक रेट 141.04 का रहा है। वार्नर के कुल औसत की बात करें तो यह 42.64 रहा है। अभी तक आईपीएल में वार्नर 46 अर्धशतक और 4 शतक लगा चुके हैं।

दूसरे खिलाड़ियों की वजह से धीमे पड़े वार्नर

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम से खेल चुके मनोज तिवारी ने कहा कि वार्रन क्लास खिलाड़ी हैं, इस साल वार्नर अटैकिंग क्रिकेट इसलिए नहीं खेल रहे हैं क्योंकि उनकी टीम के 4-5 प्लेयर एक ही गियर में खेल रहे हैं, वह दूसरे गियर से 3-4थे गियर में नहीं जा रहे हैं, बेयरस्टो भी मारकर खेल रहे हैं, ऐसे में अगर वह आउट हो जाते हैं तो टीम को दिक्कत होती है। यही वजह है कि डेविड वार्नर पिछले सीजन की तुलना में धीमा खेल रहे हैं। मनोज तिवारी ने कहा कि डेविड वार्रन अभी भी इस उम्र में जिस स्तर का क्रिकेट खेल रहे हैं वह देखने और सीखने वाली बात है।

धवन में बहुत क्षमता

बता दें कि डेविड वार्नर का स्टेमिना स्कोर 83 है, उन्होंने हैदराबाद के लिए सर्वाधिक रन बनाए हैं, औसतन प्रति पारी 35.5 है। वार्नर ने 52.1 फीसदी रन विकेटों के बीच भागकर बनाए हैं। प्रति पारी वार्नर औसतन 60 गेंद तक मैदान पर डटे रहे हैं। मनोज तिवारी ने कहा कि आईपीएल सिर्फ चार छक्कों वाली बात नहीं है, आपको लंबी पारी खेलने की जरूरत है, विकेटों के बीच एक रन को दो रन में कंवर्ट करके आप दूसरी टीम पर दबाव डालते हैं।

इसे भी पढ़ें- चेन्नई सुपर किंग्स की हार के बाद महेंद्र सिंह धोनी पर भड़के ओलंपिक चैंपियन

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Sunday, October 18, 2020, 16:31 [IST]
Other articles published on Oct 18, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X