IPL 2019 : "तीन दुश्मनों" की तिकड़ी ने ऐसे बदली दिल्ली कैपिटल्स की किस्मत

Delhi Capitals

नई दिल्ली : दिल्ली डेयर डेविल्स (Delhi Dare Devils) से दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) बनी दिल्ली की टीम इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) की एक ऐसी टीम है जिसने नाम बदलने के साथ IPL में एक नया इतिहास भी लिख दिया। साल 2008 के बाद (11 साल बाद) इस टीम ने पहली बार प्ले-ऑफ (Play 0ff) का मुकाबला जीता और अब IPL फाइनल से महज एक कदम दूर है। टी-20 को युवाओं का खेल कहा जाता है और दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर ने इस बात को अक्षरशः साबित कर दिया। दिल्ली की किस्मत बदलने का फैसला तब हुआ (साल 2018) था जब आउट ऑफ फॉर्म कप्तान गौतम गंभीर से कप्तानी छीनकर श्रेयस अय्यर को कप्तानी दी गई थी। पिछले साल 25 अप्रैल को गंभीर ने कप्तानी छोड़ी और श्रेयस के युवा कंधों पर एक बड़ी जिम्मेदारी दी गई। विश्व क्रिकेट में भारत-ऑस्ट्रेलिया की चिर प्रतिद्वंदिता दुनिया जानती है लेकिन एक दूजे के 'दुश्मन' जब दोस्त बन जाएं तो क्या हो सकता है यह सौरव गांगुली और रिकी पोंटिंग ने साबित किया और इस तिकड़ी में शामिल हैं मोहम्मद कैफ। यह अपने खेलने के दौरान भले एक दूसरे के 'दुश्मन' रहे लेकिन दोस्त बनकर एक टीम को नई पहचान दे दी। आईपीएल के 12वें सीजन में इस टीम ने सौरव गांगुली की सलाह, रिकी पोंटिंग की कोचिंग और मोहम्मद कैफ की फील्डिंग कोचिंग में उन 5 चीजों पर काम किया जो इस टीम की कायापलट में सबसे बड़ा फैक्टर बना। जानिए उन 5 फैक्टर को जिसने इस टीम के नाम और जर्सी ही नहीं बल्कि खेल को भी पूरी तरह बदल दिया।

दिल्ली की युवा टीम ने दिखाया दम

दिल्ली की युवा टीम ने दिखाया दम

दिल्ली डेयर डेविल्स ने जब अपना नाम बदलकर दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) रखा था तब इनकी जर्सी और नाम को लेकर सोशल मीडिया पर मजाक तक उडाया गया था। साल 2018 में गौतम गंभीर बतौर कप्तान फ्लॉप साबित हुए, दिल्ली की टीम को मोमेंटम नहीं दे पाए और श्रेयस को बीच आईपीएल में ही कप्तान बनाया गया। ऋषभ पंत ने अगले ही मैच में तूफानी पारी खेली और ऐसा लगा इस टीम का खोया जोश कहीं से वापस आ गया। इस टीम ने जहां अपना पिछला सीजन छोड़ा था इस साल का नया सीजन उसी जोश और नए तेवर के साथ शुरू किया। टीम मैनजेमेंट ने आईपीएल-2019 के ऑक्शन में खिलाड़ियों की स्मार्ट खरीददारी कर इस बात का संकेत दे दिया था। दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने कगिसो रबादा, कॉलिन इंग्राम, कीमो पॉल, ट्रेंट बोल्ट, संदीप लमिछाने जैसे युवा और प्रतिभाशाली खिलाड़ियों पर बड़ी बोली लगाकर न उन्हें सिर्फ खरीदा बल्कि मैच दर मैच उन पर भरोसा दिखाया और इन खिलाड़ियों ने उस भरोसे को जीत में तब्दील किया। दिल्ली कैपिटल्स में अमित मिश्रा और तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ही दो ऐसे खिलाड़ी हैं जिनकी उम्र 36 साल और 30 साल है वहीं इस टीम की औसत उम्र 24-25 साल के करीब है। क्रिकेट के मिस्टर 360 कहे जाने वाले ए.बी.डिविलयर्स ने भी माना है कि युवाओं पर भरोसा और पैसा खर्च करने की वजह से दिल्ली कैपिटल्स इतनी सफल टीम बनी है।

READ MORE - IPL 2019 : अपने 'GAME से NAME' बनाने वाले हैट्रिक ब्वॉय श्रेयस गोपाल की कहानी

गेंदबाजों की तिकड़ी ने तोड़ी सबकी कमर

गेंदबाजों की तिकड़ी ने तोड़ी सबकी कमर

अक्सर टी-20 क्रिकेट को बल्लेबाजों का खेल कहा जाता है लेकिन कगिसो रबादा ने दिल्ली बनाम कोलकाता के एक मैच में इस अवधारणा को गलत साबित कर दिया और सुपर ओवर में अपनी टीम को मैच जितवाकर एक नई दिशा और दशा दी। विश्व क्रिकेट में अपनी रफ्तार और चालाकी भरी गेंदबाजी के लिए मशहूर इस खिलाड़ी ने दिल्ली कैपिटल्स को आईपीएल-2019 के लीग स्टेज में मोमेंटम दी और इस टीम ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। रबादा चोटिल होकर आईपीएल से बाहर हो गए लेकिन लीग स्टेज के महज 12 मैचों में 25 विकेट झटक कर इस गेंदबाज ने विरोधी खेमे में सनसनी मचा दी। क्रिस मॉरिस ने भी 9 मैचों में 13 विकेट लिए हैं और दिल्ली की कई जीत में बड़ी भूमिका निभाई है। लेकिन इस साल जिस गेंदबाज की चर्चा इस खेमे में सबसे अधिक हो रही है वो कोई और नहीं बल्कि इशांत शर्मा हैं। इशांत को पिछले सीजन कोई खरीददार नहीं मिला था लेकिन इस साल उन्होंने न सिर्फ दिल्ली के लिए धारदार गेंदबाजी की है बल्कि किफायती गेंदबाजी भी है। 12 मैचों में 12 विकेट झटक कर और महज 7.73 की औसत से रन खर्च किए हैं। दिल्ली कैपिटल्स की इस तिकड़ी ने दिल्ली को न सिर्फ दमदार टीम बनाया है बल्कि उन्हें बड़े उलटफेर का दावेदार साबित किया है।

READ MORE - IPL 2019 : कौन हैं रियान पराग, जिनके पिता से जुड़ा है धोनी का 'कनेक्शन'

दिल्ली को मिली दादा और पोंटिंग का 'दम'

दिल्ली को मिली दादा और पोंटिंग का 'दम'

दिल्ली कैपिटल्स की टीम के कायापलट में जिस दो शख्स की सबसे बड़ी भूमिका रही है वो हैं भारतीय टीम में एग्रेशन की नींव रखने वाले पूर्व कप्तान सौरव गांगुली और ऑस्ट्रेलिया को अपनी कप्तानी में दो बार विश्व कप जिताने वाले ऑल टाइम ग्रेट रिकी पोंटिंग। यह हम नहीं कह रहे बल्कि दिल्ली के कई खिलाड़ियों ने खास मौकों पर स्वीकार किया है। हैदराबाद के खिलाफ एलिमिनेटर में शानदार पारी खेलने वाले पृथ्वी शॉ ने भी इस बात को स्वीकार किया था कि कैसे उनके बहुत रन नहीं बनाने के बावजूद उन्हें बैक किया गया और एक विस्फोटक पारी उसका रिजल्ट था। खुद कप्तान श्रेयस अय्यर ने भी यह कई मौकों पर कहा है और ऋषभ पंत भी इस बात को स्वीकार चुके हैं। बेस्ट टीम कॉम्बिनेशन और इंडिविजुअल से बेस्ट दिलवाने में इन दो दिग्गजों ने बड़ी भूमिका निभाई और दिल्ली कैपिटल्स के कायापलट में इन दो दिग्गजों ने एक अहम भूमिका निभाई है।

World Cup 2019 : विश्व कप 2019 के लिए चुनी गई टीम इंडिया पर क्या बोले राहुल द्रविड़

श्रेयस अय्यर की 'युवा सोच'

श्रेयस अय्यर की 'युवा सोच'

24 वर्षीय श्रेयस अय्यर ने साबित किया कि बतौर कप्तान इस सीजन वो कई दिग्गज खिलाड़ियों और कप्तान से बेहतर हैं। इस युवा खिलाड़ी ने लीडर और कप्तान के बीच के अंतर को अपनी लीडरशिप की बारीकियों से परिभाषित किया। श्रेयस को भले ही भारतीय टीम में बहुत मौके न मिले हों लेकिन वो आईपीएल-2019 के बाद कहीं चयनकर्ताओं के लिए एक 'सुखद सिरदर्द' बनने वाले हैं। उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स की टीम को बतौर कप्तान शानदार तरीके से लीड किया और अंतरराष्ट्रीय प्रतिभाओं से ठसाठस भरी इस आईपीएल में अपनी कई समझदार और सजग परियों से दिल्ली कैपिटल्स के टीम मैनजेमेंट के उस फैसले को सही साबित कर दिखाया जो पिछले साल टीम मैनजेमेंट ने लिया था। उन्होंने 15 मैचों में 450 रन बनाए हैं जिसमें 3 अर्धशतक शामिल हैं और कई पारी विषम परिस्थितियों में खेली गई हैं जो यह दर्शाती है कि बतौर कप्तान श्रेयस 24 की उम्र में बाकी खिलाड़ियों से कितने बेहतर हैं।

'गब्बर' के धमाके से दिल्ली की बदली 'पहचान'

'गब्बर' के धमाके से दिल्ली की बदली 'पहचान'

किसी भी टीम की जीत में सबसे बड़ी भूमिका उनके ओपनर्स जोड़ी की होती है और दिल्ली कैपिटल्स की टीम को यह एक वरदान के तौर पर मिला। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शिखर धवन सनराइजर्स हैदराबाद से मिल रहे पैसों को लेकर बहुत खुश नहीं थे। वो नए फ्रेंचाइजी की तलाश में थे उन्हें 'घरवापसी' का मौका मिला और उन्होंने मानो ठान लिया हो कि इस टीम को आईपीएल का खिताब दिलाकर दम लेंगे। शिखर धवन ने अब तक खेले 15 मैचों में 503 रन बनाए हैं जिसमें 97* रनों की विस्फोटक पारी भी शामिल है। उन्होंने अब तक 5 अर्धशतक लगाए हैं जिनमें अब तक खेले गए मैचों में 61 चौके और 11 छक्के शामिल हैं। वहीं दिल्ली कैपिटल्स के लिए पृथ्वी शॉ ने भी कई धमाकेदार पारी खेली है। ऋषभ पंत इस टीम को मिडिल ऑर्डर में गजब की मजबूती देते हैं जो एक ओवर में मैच बदलने का माद्दा रखते हैं। 'गब्बर' ने इस टीम को हर मैच में तेज शुरुआत दी जिसके दम पर दिल्ली कैपिटल्स ने आईपीएल-2019 में एक नया मुकाम हासिल किया। अब दिल्ली के फैंस को इस बात का इंतजार है कि यह टीम पहली बार आईपीएल का खिताब जीत नया इतिहास लिख दे।

READ MORE - IPL 2019 : हैदराबाद की हार के बाद टाॅम मूडी की वायरल हो रही है यह तस्वीर

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Friday, May 10, 2019, 16:13 [IST]
Other articles published on May 10, 2019
POLLS

MyKhel से प्राप्त करें ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Mykhel sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Mykhel website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more