1.20 करोड़ में बिकने वाले चेतन सकरिया गांव में रहते हैं, अब परिवार के लिए खरीदेंगे घर

Chetan Sakariya : Son of Auto driver who earned IPL contract with RR in Auction| वनइंडिया हिंदी

नई दिल्ली। आईपीएल की नीलामी में इस बार चेतन सकरिया को राजस्थान रॉयल्स की टीम ने रिकॉर्ड 1.20 करोड़ रुपए में खरीदा है। रिकॉर्ड कीमत में बिकने वाले चेतन सकरिया अब इस पैसे से अपने परिवार के लिए घर खरीदना चाहते हैं। क्रिकेट में अपनी पहचान बनाने वाले चेतन के परिवार वाले चाहते थे कि चेतन अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें और सरकारी नौकरी हासिल करें। लेकिन चेतन क्रिकेट को लेकर बहुत ही जुनूनी थे और उनका यह जुनून अब रंग लाया है। चेतन के पिता ऑटो ड्राइवर थे, लेकिन चेतन के मामा ने उन्हें पढ़ाई और स्कूल की फीस का खर्च उठाया। आईपीएल में इस बार चेतन शर्मा का बेस प्राइस 20 लाख रुपए था लेकिन राजस्थान रॉयल्स की टीम ने 1.2 करोड़ रुपए में खरीदा था।

रिकॉर्ड कीमत पर बिके सकारिया

रिकॉर्ड कीमत पर बिके सकारिया

चेतन सकारिया पूर्व क्रिकेटर जहीर खान को अपना आदर्श मानते हैं। चेतन को पिछले साल आरसीबी ने नेट गेंदबाज के तौर चुना था। इस दौरान डेल स्टेन और उमेश यादव से मिले सुझाव का चेतन ने भरपूर इस्तेमाल किया। नीलामी में रिकॉर्ड कीमत पर बिकने वाले चेतन ने कहा कि जब हम प्रैक्टिस करके होटल जा रहे थे तो मुझे उम्मीद थी कि मेरे लिए बोली लगाई जाएगी। मेरे नाम से पहले 4-5 नाम को बुलाया गया जब अवि बरोत नहीं बिके तो मैं चिंतित हो गया था, लेकिन जब मेरा नाम आया तो 5-10 सेकेंड तक किसी ने बोली नहीं लगाई, इसके बाद आरसीबी ने मेरे लिए बोली लगाई और फिर राजस्थान रॉयल्स ने भी बोली में हिस्सा लिया। जब 1.20 करोड़ रुपए में मुझे खरीदा गया तो मेरी टीम के सभी सदस्यों ने मुझे बधाई दी और जश्न मनाने लगे, खुशी में साथी खिलाड़ियों ने मुझे पानी से भिगो दिया था।

गांव में रहते हैं सकारिया

गांव में रहते हैं सकारिया

सकारिया ने कहा कि मैं अपने और अपने परिवार के लिए घर खरीदना चाहता हूं, अभी हम गांव में रहते हैं। मैं राजकोट में घर खरीदने की योजना बना रहा हूं क्योंकि इससे क्रिकेट में शामिल होना भी आसान होगा। सकरिया ने बताया कि मैं जब 13 साल का था तो मैंने क्रिकेट खेलना शुरू कियाथा, पहले मैंने टेनिस बॉल टूर्नामेंट खेला, शुरुआत में मेरे माता-पिता इसके खिलाफ थे वो चाहते थे कि मैं पढ़ाई करूं और सरकारी अधिकारी बनूं। लेकिन क्रिकेट को लेकर मेरा जुनून अलग था। परीक्षआ के समय भी मैं क्रिकेट के लिए समय निकाल लेता था। जब अंडर-16 में मेरा चयन हुआ तो मेरे परिवार वालों ने कहा कि हां क्रिकेट में मेरा भविष्य है। उसके बाद उन्होंने मुझे प्रेरित करना शुरू कर दिया।

परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं

परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं

अपनी आर्थिक स्थिति को लेकर सकरिया ने कहा कि हमारे परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी, मेरे मामा की मदद से चीजें बेहतर हुईं, उनकी स्टेशनरी की दुकान है, वो मेरे परिवार की देखभाल करती थीं। उन्होंने मुझसे कहा कि दुकान में मेरी मदद करूं, उन्होंने मेरी स्कूल की फीस जमा की और क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया। मैं गेंदबाज था, लिहाजा किट पर मेरा बहुत अधिक खर्च नहीं था। जहीर खान मेरे आदर्श है। मैं मुंबई इंडियंस कैंप में ट्रायल के लिए भी गया था, वो हमे देख रहे थे, मैं उनके पास गया और उन्होंने मुझे सुझाव दिए, उन्होंने कहा कि मेरा रिलीज अच्छा है और लय भी अच्छी है। सकारिया ने बताया कि उन्हें एमआरएफ पेस फाउंडेशन के तहत ग्लेन मैकग्राथ से काफी सीखने को मिला।

इसे भी पढ़ें- इंग्लैंड टीम छोड़ IPL खेलने वाले खिलाड़ियों के खिलाफ ज्योफ्री बॉयकॉट ने की ये मांग

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Tuesday, March 9, 2021, 19:00 [IST]
Other articles published on Mar 9, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X