इशांत शर्मा ने बताया क्यों पसंद है विराट का साथ, करियर के इस पड़ाव पर कैसा हो रहा महसूस

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के लिये पिछले कुछ सालों में तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने टेस्ट क्रिकेट में काफी दमदार प्रदर्शन किया है और या कहना गलत नहीं होगा कि वह इस समय अपने करियर के सबसे अच्छी फॉर्म पर हैं। इस बीच इशांत शर्मा ने अपनी इस फॉर्म को लेकर साफ किया है कि वह अपने करियर के इस दौर में सिर्फ क्रिकेट का लुत्फ उठा रहे हैं। बीसीसीआई.टीवी की ओर से शेयर किये गये एक पोडकास्ट 'ओपन नेट्स विद मयंक' पर इशांत शर्मा अपने साथी खिलाड़ी मयंक अग्रवाल के साथ बात करते नजर आये जहां पर वह दिसंबर में होने वाले ऑस्ट्रेलिया दौरे को लेकर बात करते नजर आये।

उन्होंने कहा, 'मैं अपने करियर के उस पड़ाव पर हूं, जहां मैं अपनी क्रिकेट का मजा ले रहा हूं और जितना मैं इसका लुत्फ उठाता हूं, उतना ही क्रिकेट बेहतर होता है। मैं टीम के लिए और अधिक विकेट लूंगा और मैचों में जीत दिलाऊंगा, जब तक आप लोग मुझे उकसाकर प्रतिबंधित नहीं करवा देते।'

और पढ़ें: जब सचिन-हरभजन ने सौरव गांगुली को बनाया अप्रैल फूल, कप्तानी छोड़ने वाले थे 'दादा'

उल्लेखनीय है कि भारतीय टीम के लिये अब तक 97 टेस्ट मैच खेल चुके इशांत शर्मा और स्टीव स्मिथ के बीच 2017 में हुई घरेलू टेस्ट सीरीज के दौरान तीखी झड़प देखने को मिली थी, जहां पर इस तेज गेंदबाज ने कुछ ऐसा एक्सप्रेशन दिया था कि वह बड़ा फेमस 'मीम' बन गया था।

इस पर बात करते हुए इशांत शर्मा ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दिसंबर में होनी वाली टेस्ट सीरीज में उन्हें स्टीव स्मिथ पर छींटाकशी करना शायद पसंद नहीं आएगा। 2017 में हुए विवाद को लेकर उन्होंने कहा कि इसका एकमात्र लक्ष्य स्मिथ की लय बिगाड़ना था।

उन्होंने कहा, 'मैं बस स्टीव स्मिथ की लय बिगाड़ने की कोशिश कर रहा था। हम जानते थे कि अगर हम वो विकेट हासिल कर लेते हैं तो हमारे पास जीतने का मौका होगा। विराट को आक्रामकता से गुरेज नहीं है। वह आक्रामक कप्तान है और वह सिर्फ एक चीज कहते हैं कि 'बस मुझे विकेट दिलाओ लेकिन ध्यान रखो कि प्रतिबंधित नहीं हो।'

और पढ़ें: हमेशा से फुटबॉलर बनना चाहते थे सौरव गांगुली, जानें कैसे बने क्रिकेटर

गौरतलब है कि इशांत शर्मा भारतीय टीम के उस तेज गेंदबाज चौकड़ी का हिस्सा थे, जिसने ऑस्ट्रेलिया में 2018-19 में ऐतिहासिक सीरीज में जीत दिलाई थी और वह इस बात का काफी लुत्फ उठाते हैं।

उन्होंने कहा, 'मैं 2007-08 से ऑस्ट्रेलिया के दौरों पर रहा हूं और मैं जानता हूं कि यह कितना कठिन होता है। इतने वर्षों तक यह सुनने के बाद कि हम ऑस्ट्रेलिया में नहीं जीतते, आपके अंदर जीतने का उत्साह होता है।'

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Sunday, May 31, 2020, 21:24 [IST]
Other articles published on May 31, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X