गिलेस्पी के द्वारा देखी गई 5 बेस्ट टेस्ट पारियां, जिसमें लक्ष्मण की पारी को नहीं मिली जगह

नई दिल्ली: बेन स्टोक्स की एशेज सीरीज में खेली गई अविश्वसनीय पारी में टेस्ट क्रिकेट में नई जान फूंक दी हैं। हेडिंग्ले में हुए तीसरे एशेज टेस्ट में खेली गई नाबाद 135 रनों की पारी के दम पर स्टोक्स ने वन मैन ऑर्मी की तरह से पूरी कंगारू सेना को पस्त कर दिया था। यह पारी निश्चित तौर पर परंपरागत क्रिकेट के इतिहास में खेली गई सर्वश्रेष्ठ पारियों में शामिल है। विश्व कप फाइनल के हीरो बनने के बाद स्टोक्स एक और बेमिसाल पारी के दम पर क्रिकेट के नए आइकन बन गए हैं। हर ओर उनकी चर्चा है और इसी बहाने से यह भी सवाल उठ रहा है कि क्या यह टेस्ट इतिहास की सबसे महान पारी थी या और भी पारियों को इससे भी ऊपर रखा जा सकता है। अनेकों दिग्गजों ने अपने अनुभव बताए हैं। इसी बीच पूर्व कंगारू स्पीडस्टर जेसन गिलेस्पी ने भी पांच ऐसी टेस्ट पारियों की लिस्ट दी है जो उनके द्वारा देखी गई टेस्ट इतिहास की सर्वश्रेष्ठ पारियां हैं।

स्टोक्स की पारी को मिला तीसरा स्थान-

स्टोक्स की पारी को मिला तीसरा स्थान-

गिलेस्पी ने स्टोक्स के द्वारा खेली गई पारी को अपनी लिस्ट में तीसरा स्थान दिया है। बता दें कि स्टोक्स ने नाबाद 135 रनों की पारी में अंतिम विकेट के लिए 76 रनों की साझेदारी की थी। इस पारी में 11वें नंबर के बल्लेबाज का योगदान केवल 1 रन का था। गिलेस्पी ने नंबर पांच पर मार्क बूचर के नाबाद 173 रनों को रखा है जो उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2001 में बनाए थे। इस गेम में इंग्लैंड किसी तरह से मैच ड्रा करने की जुगत में था लेकिन बूचर ने शानदार स्ट्राइक रेट के साथ बल्लेबाजी करते हुए इतिहास रच दिया था। खास बात यह है कि ये पारी भी हेडिंग्ले में खेली गई थी।

गिलेस्पी के द्वारा देखी गई बेस्ट टेस्ट पारियां-

गिलेस्पी के द्वारा देखी गई बेस्ट टेस्ट पारियां-

गिलेस्पी ने नंबर चार पर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज मार्क वॉ की पारी को स्थान दिया है। ऑस्ट्रेलियाई टीम ये मैच पोर्ट एलिजाबेथ में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। इस मैच की पहली पारी में कंगारू टीम केवल 108 रनों पर सिमट गई थी जबकि उनको जीत के लिए 270 रनों का लक्ष्य दिया था। मार्क वॉ ने इस मैच में 116 रनों की पारी खेलकर शानदार तरीके से मैच जिताया था। यह 1997 की बात है। दूसरे नंबर पर गिलेस्पी ने ब्रायन लारा का नाम लिया है। लारा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिजटाउन में यह पारी 1999 में खेली थी। लारा के शतक की बदौलत कैरेबियाई टीम केवल एक विकेट से मैच जीतने में कामयाब रही थी।

महान कैरेबियाई गेंदबाज ने दिया बड़ा बयान- भारत में आगे नहीं होगा बुमराह जैसा गेंदबाज

लक्ष्मण की 281 रनों की पारी को नहीं मिली जगह

लक्ष्मण की 281 रनों की पारी को नहीं मिली जगह

मजेदार बात यह है कि गिलेस्पी ने नंबर एक का स्लॉट अपने लिए खाली छोड़ा है। बता दें कि गिलेस्पी के नाम पर टेस्ट क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ने का रिकॉर्ड है। ये कारनामा उन्होंने 2006 में बांग्लादेश के खिलाफ किया था। इस मैच में पहली पारी में गिलेस्पी केवल 8 रनों पर आउट हो गए थे और दूसरी पारी में उनको नाइटवॉटमैन के तहत भेजा गया था। इस पारी में गिलेस्पी ने 425 गेंदों का सामना करते हुआ 26 चौकों व 2 छक्कों की मदद से 201 रन बनाए थे। खास बात यह है कि दोहरा शतक बनाने के बावजूद भी यह मैच गिलेस्पी के करियर का अंतिम टेस्ट साबित हुआ। गिलेस्पी ने जिस तरह से वीवीएस लक्ष्मण के द्वारा 2001 में ईडन गार्डन में खेली गई 281 रनों की पारी को नजरअंदाज किया उसके चलते उनकी आलोचना भी हो रही है। लक्ष्मण ने उस मैच में द्रविड़ (180) के साथ मिलकर भारत को पहली पारी में फॉलोऑन भुगतने के बावजूद 171 रनों से जीत दिला दी थी।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, August 29, 2019, 15:33 [IST]
Other articles published on Aug 29, 2019
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X