इस बात को लेकर PCB पर खूब बरसे जावेद मियांदाद, बोले- अखबार पढ़ा करो

नई दिल्ली। पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान जावेज मियांदाद ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पर जमकर अपना गुस्सा निकाला है। उन्होंने पीसीबी के अधिकारियों को यह कह दिया कि काम करते नहीं तो फिर पैसे किस बात के लिए जाते हैं। मियांदाद ने यह भड़ास अपने यू-ट्यूब चैनल के जरिए निकाली है। साथ ही पाक बोर्ड को अखबार पढ़ने की सलाह दी ताकि उन्हें दुनिया-दारी के बारे में पता चले।

सुनील जोशी पर मेहरबान हुई BCCI, बाकी चयनकर्ताओं को दिया झटका

अच्छे गेंदबाज हैं, पर बल्लेबाज नहीं

अच्छे गेंदबाज हैं, पर बल्लेबाज नहीं

मियांदाद ने कहा है कि पाकिस्तान का एक भी मौजूदा बल्लेबाज इंडिया, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका या न्यूजीलैंड की टीम में नहीं खेल सकता। मियांदाद ने कहा, ''पाकिस्तानी टीम के पास अच्छे गेंदबाज तो हैं लेकिन बल्लेबाज नहीं हैं। सारी दुनिया में देख लीजिए, इंग्लैंड को ही देख लीजिए। वहां सीरीज टू सीरीज खिलाते हैं। ऑस्ट्रेलिया सीरीज टु सीरीज खिलाता है। एक सीरीज में फेल हो जाइए फिर वो भूल जाता है कि पिछली सीरीज में आपने 500 रन बनाए थे। ये पाकिस्तान ही है कि एक बार 100 रन बना ले तो आदमी 10 इनिंग खेलता है। फेल हो गए लेकिन परवाह नहीं है, इसीलिए तो टीम में प्रॉबल्म हुई है। मुझे कोई भी पाकिस्तानी प्लेयर इस वक्त बता दें जो ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका या इंडिया की टीम के लिए खेल सके। गेंदबाजी में हैं मगर बल्लेबाजी में एक भी नहीं है।

पाक क्रिकेट किसी की जागीर नहीं

पाक क्रिकेट किसी की जागीर नहीं

पीसीबी पर मियांदाद की भड़ास यही नहीं थमी। उन्होंने आगे कहा, ''हमारे यहां एक मैच के बाद आठ-आठ साल तक खिला रहे हैं। यही वजह है कि हम डूबते जा रहे हैं। आप पेड हैं, आप प्रोफेशनल हैं। आप काम भी न करें तो पैसा किस चीज का भाई? पाकिस्तान क्रिकेट किसी की जागीर नहीं है। ये उसकी जागीर है जो हर बार रन बनाता है। 10 में से आठ बार उसकी परफाॅर्मेंस होनी चाहिए।

अखबार पढ़ने की दी नसीहत

अखबार पढ़ने की दी नसीहत

मियांदाद ने आगे कहा कि आप इंडिया को ही देख लीजिए। हमारा एक भी लड़का क्या दुनिया की किसी टीम में घुस सकता है? है ही नहीं! बना ही नहीं रहे अपने आप को। मुझे विवियन रिचर्ड की एक बात याद है। उनसे किसी बच्चे ने ऐसे ही पूछा कि आप कौन हैं? उन्होंने जवाब दिया, "आप लाइब्रेरी में जाइए और मेरे बारे में ढूंढकर पढ़िए।" मैं कहता हूं कि थोड़ा दुनिया-दारी के बारे में जानो। अखबार पढ़ा करो। जब बुरा करो तब ज़रूर पढ़ो कि लोग तुम्हारे बारे में क्या कह रहे हैं। मैंने खुद ऐसा किया है।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, March 19, 2020, 6:59 [IST]
Other articles published on Mar 19, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X