#MeToo: ओलंपिक जिमनास्‍ट का खुलासा, 'जरूरी ट्रीटमेंट' की बात कहकर करता था यौनशोषण

Posted By:

वाशिंगटन। पिछले काफी समय से सोशल मीडिया पर #MeeToo कैंपेन चल रहा है जिसमें दुनिया भर के पुरुष व महिलाएं अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में खुलासा कर रहे हैं। इसी क्रम में अमेरिकी की ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाली महिला खिलाड़ी मेकएला मैरोनी ने भी इसी कैंपेन के तहत अपने दर्द को साझा किया है। पहले हम आपको बताते हैं कि मेकएला मैरोनी कौन हैं? दरअसल ये वही जिमनास्ट हैं जिनका एक फोटो सोशल मीडिया पर 2012 ओलंपिक के बाद खूब वायरल हुआ था। 2012 ओलंपिक में इस अमरीकी जिमनास्ट के गले में मेडल था लेकिन मुंह बनाते हुए तब मेकएला मैरोनी की वो तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई। इस फोटो को लोगों को मेकएला मैरोनी के साहस से जोड़कर देखा। इसी का असर था कि जब अमेरिकी राष्ट्रपति मेकएला मैरोनी से मिले तो उन्होंने भी डेंढ़ा मुंह बनाते हुए फोटो क्लिक करवाया था। आइए अब जानते हैं कि मेकएला मैरोनी के साथ आखिर क्या हुआ जिसने उन्हें झकझोर कर रख दिया? मैरोनी ने खुलासा किया है कि 7 सालों तक उनका यौन शोषण किया जाता रहा। उनका यह पोस्ट इंटरनेट पर खूब वायरल हो रहा है। हजारों की संख्या में लोगों ने इस पर कमेन्ट किए हैं।

Olympic gold medal gymnast McKayla Maroney said she was molested by Team USA doctor for 7 years

13 साल की उम्र से ही मेरा यौन उत्पीड़न शुरू हो गया

13 साल की उम्र से ही मेरा यौन उत्पीड़न शुरू हो गया

मेकएला ने लिखा, ''मैं 13 साल की उम्र से लेकर जब तक खेल से रिटायर नहीं हो गई, इस दौरान सात साल तक मैं यौन उत्पीड़न का शिकार रही। मेरा उत्पीड़न वूमेन जिम्नास्टिक्स टीम के डॉक्टर लैरी नस्सार ने किया था।'' मैरोनी ने कहा है कि 13 साल की उम्र से ही उनका यौन उत्पीड़न शुरू हो गया और यह तब तक चलता रहा जब तक उन्होंने खेल छोड़ नहीं दिया. उन्होंने पिछले साल हेल्थ इश्यू का हवाला देकर स्पोर्ट्स छोड़ दिया था।

मेरा सपना था कि मैं ओलंपिक मेडल जीतूं, लेकिन...

मेरा सपना था कि मैं ओलंपिक मेडल जीतूं, लेकिन...

उन्होंने आगे बताया- "सार्वजनिक तौर पर अपने साथ हुई किसी बुरी घटना के बारे में कहना काफी मुश्किल होता है। मैं जानती हूं क्योंकि मेरे साथ भी कुछ ऐसा हुआ है। लोग जानते हैं कि ये सिर्फ हॉलीवुड में नहीं हो रहा है। ये हर जगह हो रहा है। जहां कहीं भी कोई ताकतवर पद पर है, वहां उत्पीड़न होने की आंशका बढ़ जाती है। मेरा सपना था कि मैं ओलंपिक मेडल जीतूं। लेकिन अपने इस सपने को पूरा करने के रास्ते में जो दिक्कतें मुझे झेलनी पड़ीं- वो गैरजरूरी और परेशान करने वाली थीं।"

आदमी जहां कहीं भी मिलता था, 'ट्रीटमेंट' करने में जुट जाता था

आदमी जहां कहीं भी मिलता था, 'ट्रीटमेंट' करने में जुट जाता था

मैरोनी ने आगे लिखा- "अमरीकी महिलाओं के जिम्नास्ट और ओलंपिक टीम के डॉक्टर लैरी नस्सार ने मेरा उत्पीड़न किया। नस्सार ने मुझसे कहा कि मेरे साथ जो भी हो रहा है वो एक ''मेडिकल ट्रीटमेंट'' का हिस्सा है और वो अपने मरीजों के साथ 30 सालों से ऐसा कर रहे हैं।" जिमनास्ट ने लिखा है कि ये आदमी जहां कहीं भी मिलता था, 'ट्रीटमेंट' करने में जुट जाता था। उन्होंने लंदन ओलंपिक के दौरान भी ऐसा किया।

'मुझे लगा मैं उस रात मर ही जाऊंगी'

'मुझे लगा मैं उस रात मर ही जाऊंगी'

मैरोनी के मुताबिक इस सबकी शुरुआत तब हुई,जब वह 13 साल की थींऔर टेक्सास में पहली बार नेशनल टीम ट्रेनिंग कैंप में शामिल हुई थी। उस दिन शुरू हुई चीजें तब तक खत्म नहीं हुई, जब तक मैरोनी ने खेलों को अलविदा नहीं कह दिया। एक बार फ्लाइट के लिए नींद की गोली देने के नाम पर उन्हें सुला दिया गया। जब वह जगी तो होटल के कमरे में अकेले 'ट्रीटमेंट' झेल रहीं थी। मैरोनी आगे लिखती हैं कि वह रात उनके लिए सबसे खौफनाक रात थी। मुझे लगा मैं उस रात मर ही जाऊंगी। बता दें कि डॉ नस्सार मिशेगन में उन पर चाइल्ड प्रॉनोग्राफी के आरोप में ट्रायल चल रहा है। उन पर 120 महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

Read more about: olympics america gymnastics molested
Story first published: Saturday, October 21, 2017, 14:43 [IST]
Other articles published on Oct 21, 2017
Please Wait while comments are loading...