सचिन ने जितनी तारीफ अपने बेटे अर्जुन की कभी नहीं की, उतनी कर रहे हैं इस 17 साल के wonderboy की

Posted By:

नई दिल्ली। जब पृथ्वी शॉ सिर्फ 7 साल के थे तब इस wonderboy को खेलते देखने के लिए विरार में नगर पालिका ग्राउंड में भीड़ इकट्ठा होती थी। आज 10 साल बाद भी ज्यादा कुछ बदला नहीं है। केवल उम्र एक अंक से दो अंक में हो गई है लेकिन पृथ्वी शॉ का प्रदर्शन वैसा ही है। अब पृथ्वी शॉ को खेलते हुए देखने के लिए बड़ी संख्या में दर्शक मैदान पर जाते हैं। मुंबई के युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने शानदार प्रदर्शन करते हुए क्रिकेट फैंस को अपना मुरीद बना लिया है। भारतीय क्रिकेट को उनसे बड़े कमाल की उम्मीद है।

सचिन ने जितनी तारीफ अपने बेटे अर्जुन की कभी नहीं की, उतनी कर रहे हैं इस 17 साल के wonderboy की
शॉ ने पांच मैचों में अपना चौथा प्रथम श्रेणी शतक लगाया

शॉ ने पांच मैचों में अपना चौथा प्रथम श्रेणी शतक लगाया

बुधवार को शॉ ने पांच मैचों में अपना चौथा प्रथम श्रेणी शतक लगाया। ये पिछली दो पारियों में उनका दूसरा शतक था। शॉ के पांचवें प्रथम श्रेणी मैच में चौथे शतक की बदौलत मुंबई ने ओडिशा के खिलाफ रणजी ट्राफी ग्रुप सी क्रिकेट मैच के पहले दिन छह विकेट पर 264 रन बनाए। पृथ्वी ने 153 गेंद में 18 चौकों की मदद से 105 रन की पारी खेलने के अलावा अजिंक्य रहाणे (49) के साथ दूसरे विकेट के लिए 136 रन की साझेदारी भी की। इस शतक के साथ ही पृथ्वी ने अंबति रायडू के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। रायडू ने 18 साल की उम्र से पहले 4 शतक जमाए थे।

अभी सचिन से पीछे हैं लेकिन

अभी सचिन से पीछे हैं लेकिन

हालांकि वे अभी सचिन से पीछे हैं लेकिन अगर शॉ ऐसे ही खेलते रहे तो एक दिन वह सचिन की बराबरी कर लेंगे। दरअसल 18 साल से कम उम्र में शॉ से ज्यादा प्रथम श्रेणी शतक सिर्फ सचिन तेंदुलकर ने ही लगाए हैं। सचिन ने इस दौरान 7 शतक लगाए हैं। जबकि शॉ 4 शतक लगाए है। और अगले हफ्ते 9 नवंबर को शॉ 18 साल के हो जाएंगे। इससे पहले वो सचिक के रिकार्ड को तोड़ना चाहेंगे।

टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने उनकी जमकर तारीफ की थी

टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने उनकी जमकर तारीफ की थी

पृथ्वी शॉ जब इसी साल भारत की अंडर-19 टीम के इंग्लैंड दौरे से सबसे ज्यादा रन बनाकर लौटे थे तब अंडर-19 टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने उनकी जमकर तारीफ की थी। तब से शॉ ने हर लेवल पर रन बनाए हैं। जनवरी में तमिलनाडु के खिलाफ रणजी में अपने डेब्यू मैच में शतक बनाने के बाद शॉ ने दुलिप ट्रॉफी में अपने पहले मैच में प्रीमियर जोनल प्रथम श्रेणी की प्रतियोगिता में भी ऐसा ही किया था और डेब्यू करते हुए शतक जड़ा था। शॉ ने ऐसा करके सचिन के रिकॉर्ड की बराबरी की थी। शॉ के प्रदर्शन ने सचिन का भी ध्यान अपनी ओर खींचा है।

तब मैंने उसमें एक चिंगारी देखी थी: सचिन

तब मैंने उसमें एक चिंगारी देखी थी: सचिन

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए सचिन ने कहा- "मैंने उन्हें 8-10 साल पहले देखा था। तब मैंने उसमें एक चिंगारी देखी थी। उसके पास खेल के प्रति परिपक्व दृष्टिकोण और अच्छा क्रिकेट ब्रेन है।" बता दें कि पृथ्वी शॉ तब लाइमलाइट में आए जब उन्होंने मुम्बई में स्कूल मैच के दौरान 330 गेंद पर 546 रन बनाए थे। शॉ का यह स्कोर क्रिकेट का तीसरा सर्वोच्च स्कोर रिकार्ड किया गया। शॉ ने हाल ही में न्यूजीलैंड के खिलाफ बोर्ड प्रेसिडेंट इलेवन की तरफ से खेलते हुए शानदार 66 रन बनाए थे। वो भी ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी जैसे धाकड़ गेंदबाजों की गेंद पर। तब बोल्ट ने मैच के बाद कहा था, "मैंने सुना कि वह 17 साल का है, मुझे इस पर विश्वास नहीं हुआ। वह काफी अच्छा खेला। मुझे लगता है कि शुरू में गेंद अच्छी स्विंग हो रही थी और ऐसा नहीं लगा कि वह इससे परेशान है। वह उन खिलाड़ियों में शामिल है जिनका भविष्य उज्जवल है लेकिन पहली बार देखकर उससे काफी प्रभावित हूं।"

Story first published: Thursday, November 2, 2017, 16:59 [IST]
Other articles published on Nov 2, 2017
Please Wait while comments are loading...