सहवाग को ओपनर बनाने के लिए खुद नंबर 4 पर चले गए सचिन, पूर्व कीपर ने किया खुलासा

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज अजय रात्रा का मानना ​​है कि भारत के सलामी बल्लेबाज के रूप में वीरेंद्र सहवाग को प्रमोट करने का श्रेय पूर्व कप्तान सौरव गांगुली और महान सचिन तेंदुलकर को दिया जाना चाहिए।

सचिन उस समय सलामी बल्लेबाज के रूप में अच्छा कर रहे थे लेकिन सहवाग को ओपनिंग करनी थी। इसलिए सचिन ने नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने की पेशकश की। सहवाग ने दादा (सौरव गांगुली) के साथ उस बाएं और दाएं संयोजन के लिए ओपन किया।

सहवाग की ओपनिंग के पीछे सचिन का त्याग-

सहवाग की ओपनिंग के पीछे सचिन का त्याग-

"अगर सचिन सहमत नहीं होते तो वीरू को शायद कम बल्लेबाजी करनी पड़ती। उन्हें वनडे में ओपनिंग करने का मौका नहीं मिला और कहानी बहुत अलग हो सकती है, " अजय रात्रा ने यह बात हिंदुस्तान टाइम्स के साथ एक बातचीत में कही है।

ग्रीम स्वान ने बताया- इंग्लैंड के लिए एक साथ क्यों जरूरी है ब्रॉड और एंडरसन की जोड़ी

26 जुलाई, 2001 को न्यूजीलैंड के खिलाफ, भारत की त्रिकोणीय श्रृंखला का तीसरा मैच था जब गांगुली ने जुआ खेलने का फैसला किया। सहवाग को पहली बार एकदिवसीय मैच में पारी खोलने के लिए प्रोत्साहित किया गया था।

सचिन के चोट के चलते मिला था वीरू को मौका-

सचिन के चोट के चलते मिला था वीरू को मौका-

भारत वह मैच हार गया। नजफगढ़ के हार्ड हिटर ने 54 गेंदों पर 33 रन बनाए, जो भारत की पारी का सर्वोच्च स्कोर रहा।

शीर्ष पर दो और विफलताओं के बाद, सहवाग ने 70 गेंदों में शतक बनाकर भारत को कीवी टीम के खिलाफ जीत दिलाई। उस शतक ने सहवाग अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर के तौर पर पुनर्जन्म दिया।

लेकिन भारत के लिए मुश्किलें शुरू हो गई थीं। दक्षिण अफ्रीका में अगली त्रिकोणीय श्रृंखला के लिए सचिन वापस आ गए थे।

अजय रात्रा थे तब टीम का हिस्सा-

अजय रात्रा थे तब टीम का हिस्सा-

सहवाग इंग्लैंड के खिलाफ छह मैचों की घरेलू सीरीज के माध्यम से पारी की शुरुआत कर रहे थे, जहां भारत के विकेट कीपर के रूप में भी रात्रा ने अपना वनडे डेब्यू किया। इंग्लैंड के खिलाफ 51, 82, 42, और 31 के स्कोर सहवाग के सलामी बल्लेबाज के रूप में कामयाबी दिखाने के लिए पर्याप्त थे।

दुती चंद ने किया खुलासा- अपनी BMW बेचने पर क्यों हुईं मजबूर, ट्रेनिंग फंड नहीं है कारण

सहवाग तेंदुलकर के साथ ओपनिंग कर रहे थे और गांगुली नंबर 3 पर बल्लेबाजी कर रहे थे। गांगुली और तेंदुलकर के बाएं और दाएं संयोजन ने पिछले तीन-चार वर्षों में भारत के लिए चमत्कार किया। बाएं-दाएं कॉम्बो को बनाए रखना अब भी बेहतर होता। लेकिन दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज सचिन को किस ऑर्डर में बल्लेबाजी करने के लिए कौन कहेगा?

नंबर 4 पर आए सचिन, ओपनिंग में स्टार बन गए सहवाग-

नंबर 4 पर आए सचिन, ओपनिंग में स्टार बन गए सहवाग-

"सचिन ने एक अलग भूमिका निभाई। उन्होंने नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने के लिए खुद ही अपने को नीचे किया। 45 वें ओवर तक उनकी भूमिका बल्लेबाजी करने की थी। और यह कदम काम कर गया, वीरू टॉप पर इतने सफल हो गए, "रात्रा ने कहा।

सहवाग के साथ गांगुली के साथ पारी की शुरुआत की और सचिन नंबर पर 4 पर रहे। वेस्टइंडीज में भारत के दौरे पर और इंग्लैंड में नेटवेस्ट त्रिकोणीय श्रृंखला में भी यही संयोजन जारी रहा, यहां तक ​​कि श्रीलंका में चैंपियंस ट्रॉफी में भी सिलसिला रहा, जिसमें भारत मेजबान टीम के साथ संयुक्त विजेता था।

भारत के सफलतम सलामी बल्लेबाज के तौर पर रिटायर हुए वीरू-

भारत के सफलतम सलामी बल्लेबाज के तौर पर रिटायर हुए वीरू-

हालांकि, सचिन 2003 विश्व कप से पहले शीर्ष पर थे। लेकिन तब तक सहवाग ने सलामी बल्लेबाज के रूप में अपनी जगह पक्की कर ली थी।

सहवाग टेस्ट और वनडे दोनों में भारत के सबसे सफल सलामी बल्लेबाजों में से एक थे। उन्होंने अपने 221 मैचों में से 214 वनडे सलामी बल्लेबाज के रूप में खेले और 7518 रन बनाए हैं। सहवाग के 15 में से 14 वनडे शतक भारत के लिए ओपनिंग बल्लेबाजी की शुरुआत करते हुए आए।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, July 16, 2020, 9:51 [IST]
Other articles published on Jul 16, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X