'गांगुली को हमारी चितां नहीं है', बेरोजगार हुए विकलांग क्रिकेटरों का छलका दर्द

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड की लिस्ट में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पहले स्थान पर है। लेकिन अब जो बात सामने आई है, उससे ऐसा प्रतीक होता है कि बीसीसीआई उन्हीं क्रिकेटरों पर मेहरबान है जो चर्चा में रहते हैं। विकलांग क्रिकेटरों के लिए बीसीसीआई की कोई योजना नहीं है, ना ही बीसीसीआई अध्यक्ष साैरव गांगुली को उनकी चिंता है। बीसीसीआई के प्रति कुछ विकलांग क्रिकेटरों की नाराजगी देखने को मिली है।

विकलांग क्रिकेटर्स भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड द्वारा प्रदर्शित उदासीनता के खिलाफ बोल रहे हैं। वे पूछ रहे हैं कि जब दुनिया के सबसे छोटे देश अपने विकलांग क्रिकेटरों को मुख्य खिलाड़ियों में शामिल करते हैं तो दुनिया की सबसे अमीर क्रिकेट संस्था उनका समर्थन क्यों नहीं कर सकती। शारीरिक रूप से कर्नाटक राज्य के विकलांग विजय कांत तिवारी जो कप्तान हैं और स्पिनर हैं, उन्होंने सवाल किया है, ''भारत का संविधान कहता है कि हर कोई समान है? फिर हमारे साथ यह भेदभाव क्यों'? ''

शाहिद अफरीदी ने बताया बाबर कैसे बन सकते हैं कोहली-स्मिथ जैसा महान बल्लेबाज

विकलांग क्रिकेटर्स पैसों के लिए संघर्ष करते हैं

विकलांग क्रिकेटर्स पैसों के लिए संघर्ष करते हैं

विजय कांत ने कहा, ''फरवरी के बाद से कोई सीरीज नहीं हुई है और मेरी बचत अब तक खर्चा चला है। अब मैं काम की तलाश में हूं। मैं शादीशुदा नहीं हूं, और मेरे पिता एक सेवानिवृत्त भारतीय सेना अधिकारी हैं, इसलिए मेरे माता-पिता मेरी देखभाल करने में सक्षम हैं।'' हालांकि, विजय अपने साथी विकलांग क्रिकेटरों के हताश संकट से नाराज और परेशान हैं। उन्होंने गांगुली के खिलाफ भी नाराजगी जाहिर की।

गांगुली को हमारी चितां नहीं है

गांगुली को हमारी चितां नहीं है

उन्होंने कहा, ''जब सौरव गांगुली को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था, तो हम सभी आशावादी थे क्योंकि ओएस भारत में क्रिकेट और उसके विकास में उनका प्रमुख योगदान था। लेकिन उसने हमारी अनदेखी की है। हमारी कोई चिंता नहीं है। क्या हम भारत के नागरिक नहीं हैं? क्या हमारे पास समान अधिकार नहीं हैं? अगर बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे छोटे देश अपने विकलांग खिलाड़ियों को मुख्य क्रिकेट बोर्ड में शामिल कर सकते हैं, तो भारत क्यों नहीं?''

बीसीसीआई प्रमुख के रूप में गांगुली से कई उम्मीदें

बीसीसीआई प्रमुख के रूप में गांगुली से कई उम्मीदें

पीसीसीएआइ (फिजिकली चैलेंज्ड क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ इंडिया) के सचिव रवि चौहान ने खुले तौर पर भारत के विकलांग क्रिकेटरों को निराश करने के लिए BCCI प्रमुख की खिंचाई की। पूर्व में शारीरिक रूप से अक्षम क्रिकेटर रहे चौहान ने कहा कि मान्यता के अभाव में विकलांग क्रिकेटरों को राज्यों और केंद्र में विभिन्न खेल योजनाओं के लिए अर्हता प्राप्त करने से रोका जा रहा है।

विजय का कहना है कि उदासीनता से बीसीसीआई को विश्व में नंबर एक क्रिकेटिंग का दर्जा दिया गया है। उन्होंने कहा, 'हम नियमित खिलाड़ियों की तरह ही खेल खेलते हैं। अगर स्टीव वॉ हमारे लिए एक धन उगाही अभियान शुरू कर सकते हैं, तो हमारा अपना बोर्ड हमारा समर्थन क्यों नहीं कर सकता है? आपके पास कोविद -19 के दौरान आईपीएल आयोजित करने का समय है, लेकिन हमारी दुर्दशा पर गौर नहीं करते? "

हिमाचल के गुरमीत भी बुरे दाैर में

हिमाचल के गुरमीत भी बुरे दाैर में

वहीं हिमाचल प्रदेश में शारीरिक रूप से विकलांग क्रिकेट टीम के एक क्रिकेटर गुरमीत धीमान लॉकडाउन के बाद गंभीर रूप से प्रभावित हैं। क्रिकेट के अलावा, इस 30 वर्षीय ने अंतरराष्ट्रीय मार्शल आर्ट टूर्नामेंट में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। गुरमीत कहते हैं, ''कोरोना काल में खर्चा चलाने के लिए मैंने दोस्तों से बहुत पैसा उधार लिया है। मेरी बुजुर्ग मां और छोटा भाई मुझपर निर्भर हैं। मेरे पास एक आटा चक्की है जहां मैं थोड़ा पैसा कमाता हूं लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। दोस्तों से पैसे मांगते रहना शर्मनाक है। हिमाचल प्रदेश सरकार का कोई समर्थन नहीं है।

बीसीसीआई से समर्थन की गुहार लाते हुए गुरमीत ने कहा "जब तक हमारा क्रिकेट बोर्ड हमारी मदद नहीं करेगा, हम जीवित कैसे रहेंगे?"

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, August 15, 2020, 14:39 [IST]
Other articles published on Aug 15, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X