फीफा-17: करो या मरो गेम में घाना से भिड़ेगी टीम इंडिया, ये रहा नॉक-आउट में पहुंचने का पूरा समीकरण

Posted By:

नई दिल्ली। फीफा अंडर-17 फुटबॉल वर्ल्डकप के अपने तीसरे मुकाबले में भारत दो बार की चैंपियन घाना से शाम 8 बजे से दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में भिड़ेगा। घाना के खिलाफ जब भारतीय टीम मैदान में उतरेगी तो उसका एकमात्र मकसद जीत हासिल करना होगा। वहीं घाना की नकारें इस मैच को जीतकर नॉकआउट दौर में पहुंचने पर लगी होंगी। यह मुकाबला भारत के लिए किसी भी तरह से आसान नहीं होगा क्योंकि उसे अगर अंतिम-16 में जगह बनानी है तो घाना जैसी मजबूत टीम को बड़े अंतर से हराना होगा।

FIFA U-17 World Cup, India vs Ghana, Today's Match
ऐसे नॉक आउट में पहुंच सकता है भारत

ऐसे नॉक आउट में पहुंच सकता है भारत

टूर्नामेंट के पहले दो मुकाबलों में मेजबान टीम को हार का सामना करना पड़ा था। जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में खेले गए पहले मैच में अमेरिका ने भारत को 3-0 से मात दी थी जबकि कोलंबिया ने मेजबान टीम को बेहद संघर्षपूर्ण मुकाबले में 2-1 से हराया था। वहीं घाना ने टूर्नामेंट का ओपनर मैच कोंलंबिया को 1-0 से हराकर जीता था तो दूसरे मैच में उसे अमेरिका के हाथों 0-1 से हार का सामना करना पड़ा था। अब भारत की लगातार दो हार से उसके अंतिम-16 में पहुंचने के समीकरण घाना के खिलाफ होने वाले मैच पर आकर ठहर गए हैं। अब उसे घाना को बड़े अंतर से मात देने के अलावा उम्मीद करनी होगी कि अमेरिका कोलंबिया को बड़े अंतर से हरा दे। अगर दोनों टीमें बराबर अंकों पर ग्रुप दौर की समाप्ति करती हैं तो गोल अंतर को ध्यान में रखते हुए फैसला लिया जाएगा।

हीरो जैक्सन सिंह पर फिर होंगी सभी की निगाहें

हीरो जैक्सन सिंह पर फिर होंगी सभी की निगाहें

गौरतलब है कि कोलंबिया के खिलाफ अपने दूसरे मैच में जैक्सन सिंह ने दूसरे हाफ में भारत के लिये ऐतिहासिक गोल दागा था। ये भारत का फीफा में पहला गोल था। हालांकि अगले ही मिनट में कोलंबिया ने जवाबी कार्रवाई करते हुये मैच विजयी गोल कर दिया था। इस मैच में भारत का प्रदर्शन हर लिहाज से सराहनीय रहा था और इस प्रदर्शन की चौतरफा तारीफ हुई थी। एक बार फिर से भी की निगाहें जैक्सन सिंह पर होंगी।

घाना हमारे लिए शारीरिक तौर पर चुनौती के अलावा मानसिक चुनौती भी

घाना हमारे लिए शारीरिक तौर पर चुनौती के अलावा मानसिक चुनौती भी

भारतीय टीम के कोच लुइस नोर्टन डी माटोस ने कहा, 'हम जीत से कम कुछ नहीं चाहते हैं। हम दुनिया को बताना चाहते हैं कि उनके बराबर खड़े हैं और अब हम जीत भी सकते हैं। घाना हमारे लिए शारीरिक तौर पर चुनौती के अलावा मानसिक चुनौती भी है। वह (घाना) काफी मजबूत टीम है। अगर हमें उनके खिलाफ जीत हासिल करनी है तो मैच में हर समय तैयार रहना होगा।' हालांकि जहां घाना के कप्तान एरिक अयाह आक्रमण पंक्ति में भारत के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं। तो वहीं भारत के कप्तान अमरजीत सिंह कियाम का खेलना मुश्किल है। वे कोलंबिया के खिलाफ मैच में चोटिल हो गए थे।

Story first published: Thursday, October 12, 2017, 13:45 [IST]
Other articles published on Oct 12, 2017
Please Wait while comments are loading...
POLLS