Happy Birthday Sania Mirza: ये हैं भारतीय स्टार के 5 सबसे बड़े खिताब

नई दिल्लीः भारतीय टेनिस क्वीन सानिया मिर्जा 15 नवंबर को 34 साल की हो गईं। भारत की सबसे प्रभावशाली खेल हस्तियों में से एक सानिया ने देश में अपना प्रभाव तब बनाया जब ज्यादातर पुरुष क्रिकेट के लोग दीवाने होते हैं। हालांकि भारत कई प्रसिद्ध महिला एथलीटों का घर रहा है, टेनिस की दुनिया काफी कम भारतीय महिलाओं के साथ चर्चित रही है, और यहां तक ​​कि बहुत कम लोग एक घरेलू नाम बनने में कामयाब रहे हैं।

छह बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन 2004 अर्जुन पुरस्कार (भारत में दूसरा सर्वोच्च खेल सम्मान) की प्राप्तकर्ता रही हैं। उन्हें 2016 टाइम्स पत्रिका की दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में स्थान मिला। दुनिया के तीन सबसे बड़े खेल यानी एफ्रो-एशियन गेम्स, एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में 6 गोल्ड के साथ उनके नाम 14 मेडल हैं।

हम उनके जन्मदिन के उपलक्ष्य में उनके पांच सबसे बड़े खिताबों पर फिर से गौर करें।

IND vs AUS: वैगनर ने शॉर्ट बॉल पर OUT कर दिया, बाकी शायद नहीं कर पाएंगे- स्टीव स्मिथ

1. 2005 एपी पर्यटन हैदराबाद ओपन - एकल

यह वह मैच है जिसने मजबूती के साथ टेनिस की दुनिया में सानिया को फिट किया। साल की गत चैंपियन निकोल प्रैट ने सीजन में भाग नहीं लिया। गेम बाय गेम सानिया फाइनल में पहुंची। वहां, उन्होंने अलोना बोंडारेंको (यूक्रेन) को 6-4, 5-7, 6-3 से हराया। वह डब्ल्यूटीए एकल खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं।

2. 2009 ऑस्ट्रेलियन ओपन- मिक्स्ड डबल्स

हालांकि साल का महिलाओं का दोहरा खिताब उनसे दूर हो गया, लेकिन सानिया ने महेश भूपति के साथ मिश्रित युगल टीम के माध्यम से जीत हासिल की। नथाली डेची (फ्रेंच) और एंडी राम (इजराइल) के साथ खेलते हुए, उन्होंने 6-3, 6-1 से खिताब जीता।

3. 2012 फ्रेंच ओपन- मिक्स्ड डबल्स

सानिया-भूपति की जादुई जोड़ी ने फ्रेंच ओपन जीतकर पहले से ही धमाका किया था। यह सानिया का पहला फ्रेंच ओपन खिताब था और यह उनका दूसरा ग्रैंड स्लैम था। फाइनल कलुआडिया जान्स (पोलिश) और सैंटियागो गोंजालेज (मैक्सिकन) के खिलाफ खेला गया और जीता गया।

4. 2015 यूएस ओपन- डबल्स

इस साल सानिया ने केसी डेलाक्वा (ऑस्ट्रेलियाई) और यारोस्लावा श्वेदोवा (कजाकिस्तान) की टीम को हराने के लिए मार्टिना हिंगिस (स्विस) के साथ जोड़ी बनाई। अंतिम राउंड स्कोर 6-3, 6-3 था। यह मिर्जा-हिंगिस का वर्ष का लगातार दूसरा ग्रैंड स्लैम खिताब था

5. 2015- विंबलडन- महिला युगल

इस दिन इतिहास बना था। सानिया विंबलडन चैंपियन का प्रतिष्ठित खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। उन्होंने हिंगिस के साथ फिर से जोड़ी बनाई। फाइनल मैच एकटेरिना मकारोवा और एलेना वेस्नीना (रूस) के खिलाफ 5-7, 7-6, 7-5 के स्कोर के साथ खेला गया।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Sunday, November 15, 2020, 12:27 [IST]
Other articles published on Nov 15, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X