'नहीं बन सकता सहवाग-वॉर्नर', पुजारा ने कोहली के स्लो स्ट्राइक रेट कमेंट पर दिया जवाब

नई दिल्ली। भारतीय टेस्ट क्रिकेट के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाजों में से एक चेतेश्वर पुजारा ने हाल ही उनकी बल्लेबाजी स्टाइल पर उठने वाले सवालों को लेकर जवाब दिया है। हाल ही में न्यूजीलैंड दौरे पर जब चेतेश्वर पुजारा अपनी बल्लेबाजी में कोई कमाल दिखा पाने में नाकाम रहे तो खुद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने उनकी धीमी गति से बल्लेबाजी करने के तरीके पर सवाल उठाया था। विराट कोहली ने कहा था कि जब खिलाड़ी स्लो रेट से बल्लेबाजी करते हैं तो साथ खेलने वाले दूसरे खिलाड़ी पर भी दबाव बढ़ता है।

जब पाकिस्तान में होटल अरेस्ट हुआ यह साउथ अफ्रीकी गेंदबाज, सुनाई पूरी आपबीती

यह पहली बार नहीं है जब पुजारा के स्लो स्ट्राइक रेट को लेकर सवाल किया गया है वह पहले भी कई बार इस वजह से आलोचनाओं का शिकार हो चुके हैं। ऐसे में गुरुवार को न्यूज एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए जब एक बार फिर उनसे यह सवाल किया गया तो उन्होंने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि वह चाह कर भी वीरेंद्र सहवाग या डेविड वॉर्नर नहीं बन सकते हैं।

शापित है Tokyo Olympics, हर 40 साल में होता है महामारी का शिकार

मेरी बैटिंग स्टाइल का समर्थन करता है टीम मैनेजमेंट

मेरी बैटिंग स्टाइल का समर्थन करता है टीम मैनेजमेंट

हाल ही में रणजी ट्रॉफी के फाइनल मैच में सौराष्ट्र की ओर से खेलते हुए चेतेश्वर पुजारा ने 237 गेंद पर 66 रनों की पारी खेली थी। इस मैच को सौराष्ट्र ने जीत कर चैम्पियन बनने का खिताब हासिल किया था। धीमी बल्लेबाजी पर बात करते हुए पुजारा ने कहा कि वह इस बात से बिल्कुल भी तनाव नहीं लेते क्योंकि उन्हें अपनी बैटिंग स्टाइल के बारे में पता है और साथ ही टीम मैनेजमेंट भी इस बात को समझता है।

उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि इस बारे में ज्यादा कुछ बात करने के लिए है। मीडिया में इस बात को अलग तरह से पेश किया जाता है, लेकिन टीम मैनेजमेंट में पूरा समर्थन देता है। मेरे ऊपर कप्तान (विराट कोहली), कोच (रवि शास्त्री) की ओर से भी कोई दबाव नहीं है।'

बैटिंग स्टाइल बदलने के लिये नहीं है टीम मैनेजमेंट का दबाव

बैटिंग स्टाइल बदलने के लिये नहीं है टीम मैनेजमेंट का दबाव

हाल ही न्यूजीलैंड दौरे से वापस लौटी भारतीय टीम को टेस्ट सीरीज के दोनों मैचों में हार का सामना करना पड़ा था। इस सीरीज के पहले टेस्ट मैच में पुजारा ने काफी गेंद खेली थी, लेकिन बड़ी पारी खेले बिना ही आउट होकर पवेलियन लौटे थे, जिसके बाद कप्तान विराट ने उनका नाम लिए बिना कहा था कि बाहर टेस्ट मैचों में डिफेंसिव नहीं अटैकिंग बल्लेबाजी करनी चाहिए।

उन्होंने इस इंटरव्यू में कहा, 'मैं इस बात को साफ करना चाहता हूं कि जब भी स्ट्राइक रेट की बात होती है, लोग टीम मैनेजमेंट की ओर इशारा करने लगते हैं, लेकिन आपको बता दूं कि मेरे ऊपर टीम मैनेजमेंट की ओर से कोई दबाव नहीं है। टीम मैनेजमेंट को मेरी बैटिंग स्टाइल पता है और वो ही मेरे लिए अहम है।'

नहीं कर सकता सहवाग या वॉर्नर जैसी बल्लेबाजी

नहीं कर सकता सहवाग या वॉर्नर जैसी बल्लेबाजी

सोशल मीडिया पर चेतेश्वर पुजारा से लोगों ने रणजी ट्रॉफी फाइनल के दौरान पूछा था कि क्यों मैं 10 रन बनाने के लिए इतना समय लेता हूं। इसक जवाब में पुजारा ने कहा कि लोगों की आदत होती है कि वो किसी एक आदमी के पीछे पड़ जाते हैं, लेकिन यह सिर्फ मेरी बात नहीं है, लेकिन अगर आप बाकी टेस्ट सीरीज देखें, जिसमें मैंने रन बनाए हों, जितना समय मैंने लिया है, उतना ही समय विरोधी टीम के बल्लेबाजों ने भी लिया है।

पुजारा ने कहा, 'मुझे पता है कि मैं डेविड वॉर्नर या वीरेंद्र सहवाग नहीं बन सकता हूं, लेकिन अगर एक सामान्य बल्लेबाज क्रीज पर टिकने में समय ले रहा हो तो इसमें कोई बुराई नहीं है।'

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, March 19, 2020, 22:19 [IST]
Other articles published on Mar 19, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X