एमएस धोनी की वापसी पर पूर्व चयनकर्ता का बड़ा बयान, बताया क्यों टीम इंडिया में जगह मुश्किल

नई दिल्ली। दुनिया भर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते जहां एक ओर खेल जगत पूरी तरह ठप्प पड़ गया है वहीं दूसरी तरफ क्रिकेट फैन्स की भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी को फिर से मैदान पर खेलते देखने की हसरत पर कुछ वक्त के लिये पानी फिर गया है। पिछले साल विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच खेलने के बाद से महेंद्र सिंह धोनी लगातार मैदान से दूर चल रहे हैं और अब तक एक भी अंतर्राष्ट्रीय मैच नहीं खेला। इस मैच में भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा था।

इस मामले में विराट कोहली का मुकाबला करना चाहते हैं हर्शल गिब्स

हालांकि इंडियन प्रीमियर लीग में एमएस धोनी चेन्नई सुपर किंग्स की कमान संभालते हुए एक बार फिर मैदान पर वापसी करने वाले थे लेकिन कोरोना वायरस के चलते 29 मार्च से शुरु होने वाली इस टी20 लीग को 15 अप्रैल तक के लिये स्थगित कर दिया गया है। अब मैदान पर उनकी वापसी की आस लगाये फैन्स को थोड़ा और इंतजार करना होगा। इस बीच भारतीय टीम के पूर्व स्पिनर और चयनकर्ता वेकटपति राजू ने वो कारण बताया जिसकी वजह से एमएस धोनी का भारत की राष्ट्रीय टीम में वापसी कर पाना मुश्किल है।

ब्रैंडन मैकलम ने 9 साल बाद किया रोस टेलर से झगड़े का खुलासा, बताया-किस वजह से हुई लड़ाई

एमएस धोनी के टी20 विश्व कप के सपने पर मंडरा रहा खतरा

एमएस धोनी के टी20 विश्व कप के सपने पर मंडरा रहा खतरा

दरअसल एमएस धोनी ने लंबे ब्रेक के बाद जब फिर से तैयारियां शुरु की तो दिमाग में एक ही लक्ष्य था कि आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करके टी20 विश्व कप की प्लेइंग 11 में अपनी जगह सुनिश्चित कर सकें लेकिन अब ऐसा हो पाना मुश्किल लग रहा है। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए बीसीसीआई इस साल के आईपीएल को रद्द करने पर भी विचार कर रही है।

अब एमएस धोनी की वापसी को लेकर पूर्व चयनकर्ता वेंकटपति राजू ने कहा है कि अगर आईपीएल नहीं हो पाता है तो हमें मान लेना होगा कि एमएस धोनी को हमने पिछले साल आखिरी बार नीली जर्सी में खेलते हुए देखा था।

इस कारण धोनी की भारतीय टीम में वापसी हुई मुश्किल

इस कारण धोनी की भारतीय टीम में वापसी हुई मुश्किल

अंग्रेजी अखबार 'द हिन्दु' से बात करते हुए पूर्व चयनकर्ता ने कहा कि एमएस धोनी पिछले 8 महीने से ज्याद समय से कोई प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेले हैं। इसके चलते उनके मौजूदा प्रदर्शन का आकलन कर पाना मुश्किल है। वह फिटनेस साबित कर सकते हैं पर फॉर्म को साबित करने के लिये क्रिकेट खेलना जरूरी है। ऐसे में उनकी वापसी के आसार बेहद कम नजर आते हैं।

पूर्व चयनकर्ता ने कहा,'धोनी पिछले 15 साल से मैच विनर खिलाड़ी रहे हैं। उनकी एक बहुत बड़ी फैन फॉलोइंग है। लेकिन किसी भी खिलाड़ी के लिए इतने लंबे ब्रेक के बाद वापसी आसान नहीं होती। धोनी की वापसी आईपीएल के प्रदर्शन पर निर्भर करती है।'

किसी और को नहीं खुद को साबित करना है धोनी को

किसी और को नहीं खुद को साबित करना है धोनी को

भारत की ओर से 28 टेस्ट और 53 वनडे खेल चुके पूर्व चयनकर्ता वीके राजू ने कहा कि यहां पर धोनी को किसी और को नहीं बल्कि खुद को साबित करने की जरूरत है कि वह अभी भी भारती के लिये पहले जैसा खेल जारी रख सकते हैं।

उन्होंने कहा, ‘कोई भी खिलाड़ी यदि घरेलू या इंडिया ए सीरीज के तहत प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में अच्छा खेलता है तो वह दावेदारों में बना रहता है।यहां उम्र भी एक बड़ा फैक्टर है। इंटरनेशनल क्रिकेट खेलना आसान नहीं होता। यहां पर आपको अलग तरह की फिटनेस और कौशल की जरूरत होती है।'

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Sunday, March 22, 2020, 18:19 [IST]
Other articles published on Mar 22, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X