RR vs CSK: शारजाह में छाने को तैयार हैं पानी-पूरी बेचकर IPL तक पहुंचे यशस्वी जायसवाल

नई दिल्लीः शाहजाह के मैदान पर राजस्थान रॉयल्स आईपीएल सीजन 13 के पहले मुकाबले की तैयारी कर रही है और यह मुकाबला है चेन्नई सुपर किंग्स के साथ जिसने आईपीएल 2020 का उद्घाटन मुकाबला मुंबई इंडियंस से जीता है। जब हम इस मैच में प्लेइंग इलेवन की बात करते हैं तो एक युवा खिलाड़ी अपनी जगह बनाने का हकदार दिखाई देता है जिसका नाम है यशस्वी जायसवाल।

18 साल के यशस्वी जायसवाल, जो कभी मुंबई में पानीपूरी बेचकर गुजारा करते थे, को राजस्थान रॉयल्स ने 2 करोड़ 40 लाख रुपये में खरीदा था। जायसवाल पिछले साल प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दोहरा शतक बनाने वाले सबसे युवा बल्लेबाज बने थे।

राजस्थान रॉयल्स में यशस्वी के पास यश कमाने का मौका-

राजस्थान रॉयल्स में यशस्वी के पास यश कमाने का मौका-

अब उम्मीद है बाएं हाथ के खिलाड़ी को टीम में जगह मिलेगी क्योंकि यशसवी जायसवाल भारत के सबसे रोमांचक युवाओं में से एक हैं। 18 वर्षीय खिलाड़ी घरेलू स्तर पर काफी सफल रहे हैं और उनसे आईपीएल में भी यही दोहराने की उम्मीद है। गेंद के साथ भी वे योगदान दे सकता है और बटलर की अनुपस्थिति में पावरप्ले ओवरों को भुनाने की उनकी क्षमता RR की बल्लेबाजी लाइन-अप के लिए काफी महत्वपूर्ण होगी।

यशस्वी के लिए चार साल पहले दुनिया बिल्कुल एक अलग जगह थी और जब वे 2012 में मुंबई आए तो आंखों में एक बेहतर क्रिकेटर बनने का सपना था लेकिन यहां उन्होंने बहुत संघर्ष किया।

तंबू में रहने से लेकर पानी पूरी बेचने जैसा सब कुछ किया-

तंबू में रहने से लेकर पानी पूरी बेचने जैसा सब कुछ किया-

शुरुआत में वे कभी किसी जगह सोते तो कभी किसी दुकान में सोने के लिए जगह मिल जाती। उनके संघर्ष को ना रुकते हुए देख उन्हें आजाद मैदान के मैदान में मुस्लिम यूनाइटेड क्लब के टेंट में मैदानकर्मियों द्वारा शरण दी गई थी। इस दौरान जायसवाल ने जान लिया था कि उनको बतौर क्रिकेटर निखरने के साथ-साथ रोज के जीवन से भी लड़ना है।

IPL 2020 CSK vs RR: 5 अहम खिलाड़ी जो गेम चेंजर साबित हो सकते हैं

उन्होंने इस दौरान क्रिकेट खेलने के साथ खाने की दुकान पर भी काम करना शुरू कर दिया। वह तंबू में रहन-सहन के दौरान स्टॉफ की रोटियां भी बनाया करते थे। कमाई के लिए पानी-पूरी भी बेची। उस टेंट में बिजली, पानी और वॉशरूम जैसी कोई भी सुविधा नहीं थी लेकिन उन्होंने संघर्ष जारी रखा।

देवदत्त पडिक्कल की तरह मौका भुनाना चाहेंगे-

देवदत्त पडिक्कल की तरह मौका भुनाना चाहेंगे-

इस दौरान यशस्वी के पास ना तो कोच था और ना ही पैसै लेकिन उनका खेल हर दिन के साथ बेहतर होता जाता था और तभी कोच ज्वाला सिंह की नजर उन पर पड़ी और यहीं से यशस्वी को क्रिकेट की विधिवत ट्रेनिंग मिलनी शुरू हो गई। उनके कोच से मिली जानकारी के अनुसार जायसवाल ने लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में स्थान बनाया था, जब उन्होंने 319 रन बनाए थे और एक स्कूल क्रिकेट मैच में 13/99 (सबसे अधिक रन और विकेट) के गेंदबाजी आंकड़े हासिल किए थे।

अब अगर यशस्वी इस आईपीएल में क्लिक कर जाते हैं तो यह उनके लिए टीम इंडिया के चयनकर्ताओं की नजरों में आने का बेहतरीन मौका होगा। आईपीएल के तीसरे ही मैच में आरसीबी की ओर से ओपनिंग बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल की किस्मत चमकी है जिन्होंने अपने डेब्यू मुकाबले में अर्धशतक ठोककर ना केवल साथी खिलाड़ी आरोन फिंच की चमक को धुंधला कर दिया बल्कि कप्तान विराट कोहली और एबी डिविलियर्स जैसे खिलाड़ियों से भी तारीफ पाई।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Tuesday, September 22, 2020, 17:05 [IST]
Other articles published on Sep 22, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X