ISSF विश्व कप में सौरभ चौधरी ने जीता कांस्य पदक, टोक्यो ओलंपिक में बढ़ी भारत की उम्मीदें

Saurabh Chaudhary
Photo Credit: SAI Media Twitter

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक में इस साल भारत की ओर से हिस्सा लेने जा रहे 19 साल के युवा निशानेबाज सौरभ चौधरी ने खेलों के महाकुंभ से पहले फैन्स की उम्मीदें बढ़ाने का काम किया है। सौरभ चौधरी इस समय क्रोएशिया में जारी आईएसएसएफ विश्व कप में हिस्सा लेने पहुंचे हैं, जहां पर सौरभ चौधरी ने भारत की धीमी शुरुआत के पदकों का खाता खोलने का काम किया है। सौरभ चौधरी ने गुरुवार को आईएसएसएफ विश्व कप की 10 मीटर एयर पिस्टल प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीतने का काम किया। भारत की ओर से हिस्सा लेने पहुंचे अन्य खिलाड़ी पोडियम तक पहुंच पाने में असफल रहे।

सौरभ चौधरी ने क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में 581 का स्कोर बनाकर फाइनल में जगह बनाने का काम किया और फाइनल राउंड में 220 अंक हासिल कर कांस्य पदक जीतने का काम किया। क्वालिफाइंग राउंड में भारत के दूसरे निशानेबाज अभिषेक वर्मा ने भी 581 अंक हासिल किये थे लेकिन फाइनल राउंड में वो सिर्फ 179.3 अंक ही हासिल कर सके।

और पढ़ें: Tokyo ओलंपिक्स से पहले भारतीय खिलाड़ियों के लिये खुशखबरी, इन प्लेयर्स को मिलेगी सख्त क्वारंटीन से छूट

वहीं पर महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल प्रतियोगिता में मनु भाकेर सिर्फ 137.3 अंक हासिल कर के 7वें पायदान रही जबकि इलावेनिल वलारिवान समेत दो अन्य भारतीय महिला निशानेबाज 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल में जगह बनाने में नाकाम रही। पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल में ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर 7वें स्थान पर रहे। एश्वर्य प्रताप ने क्वालिफाइंग राउंड में 628 प्वाइंट हासिल किये लेकिन फाइनल में बाहर होने से पहले उन्होंने 143.9 अंक ही हासिल किये।

भारत के 2 अन्य निशानेबाज दीपक कुमार (626) और दिव्यांश सिंह पंवार (624.7) क्वालिफाइंग राउंड में 14वें और 27वें पायदान पर रहे जिसके चलते वो फाइनल में नहीं पहुंच सके। महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल में भी अंजुम मोदगिल, अपूर्वी चंदेला और वलारिवान जगह बनाने में नाकाम रही। अंजुम ने 42वां स्थान, अपूर्वी ने 24वां स्थान और इलोवेनिल ने 35वां अंक हासिल किया था। हालांकि इलावेनिल ने सही स्कोर किये गये शॉट पर विरोध जताया तो उन पर 2 अंक की पेनाल्टी लग गई और इसके चलते वो 55वें पायदान पर खिसक गई।

और पढ़ें: Tokyo Special: जब आजादी के बाद भारत ने लंदन में जाकर फहराया तिरंगा, जीता पहला ओलंपिक गोल्ड

गौरतलब है कि आईएसएसएफ के नियमों के अनुसार अगर कोई खिलाड़ी रिजल्ट, टाइमिंग और स्कोरिंग को लेकर विरोध दर्ज कराता है और जांच के बाद ज्यूरी को लगता है कि उसकी स्कोरिंग सही थी और खिलाड़ी का विरोध नाजायज था तो निशानेबाज पर 2 अंक की पेनाल्टी लगती है। आपको बता दें कि सौरभ चौधरी और मनु भाकेर इस साल ओलंपिक में भारतीय दल का हिस्सा बने हुए हैं।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Friday, June 25, 2021, 21:59 [IST]
Other articles published on Jun 25, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X