125 साल पुराने रिकॉर्ड को 93 साल बाद उसी ही दिन मिली चुनौती, नहीं टूटे ये 2 रिकॉर्ड

नई दिल्ली: टेस्ट क्रिकेट में आज ही के दिन (15 जनवरी) सवा सौ साल पहले एक नायाब रिकॉर्ड बना था जिसको 32 साल पहले एक बार फिर से इसी ही दिन एक भारतीय चुनौती मिली। 125 साल पुराना तो हालांकि नहीं टूटा लेकिन एक नया रिकॉर्ड बन गया और अब तक टेस्ट क्रिकेट में ये दो रिकॉर्ड कोई तोड़ नहीं सका है। यही टेस्ट क्रिकेट में आंकड़ों की खूबसूरती है जो अजब संयोग बनाकर और भी गजब तरीके से क्रिकेट के खेल को प्रस्तुत करती है।

सवा सौ साल पुराना एल्बर्ट ट्रॉट का रिकॉर्ड

सवा सौ साल पुराना एल्बर्ट ट्रॉट का रिकॉर्ड

15 जनवरी 1895 के दिन ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज एल्बर्ट ट्रॉट ने टेस्ट क्रिकेट में अपना पदापर्ण किया था और अपने पहले ही टेस्ट में उन्होंने इंग्लैंड बैटिंग ऑर्डर की रीढ़ चटका दी थी। ट्रॉट ने उस मैच में 43 रन देकर 8 विकेट लिए थे। यह टेस्ट एडीलेड में हुआ था और 125 साल बीतने के बावजूद यह रिकॉर्ड आज तक नहीं टूट सका है। जिसका मतलब यह है कि एल्बर्ट अब भी ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने अपने डेब्यू के दौरान एक टेस्ट पारी में सबसे ज्यादा विकेट लिए हैं।

93 साल बाद नरेंद्र हिरवानी से मिली चुनौती

93 साल बाद नरेंद्र हिरवानी से मिली चुनौती

इस रिकॉर्ड को ठीक 93 साल तोड़ने की एक भारतीय कोशिश लेग स्पिनर नरेंद्र हिरवानी ने की थी। हिरवानी ने 1988 में टेस्ट डेब्यू करते हुए यह रिकॉर्ड तोड़ने को शानदार कोशिश की। हिरवानी ने इस मैच की दोनों पारियों में 8-8 विकेट लिए थे लेकिन उनके दिए गए रन एल्बर्ट से ज्यादा थे। कुल मिलाकर हिरवानी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए इस मुकाबले में 136 रन देकर 16 विकेट लिए थे। हिरवानी की उम्र तब केवल 19 साल थी और वे एल्बर्ट का रिकॉर्ड ना तोड़ने के बाद भी अपना ही एक नया रिकॉर्ड कायम कर गए जो आज 32 साल बाद तक भी नहीं टूट सका।

ICC Awards: आईसीसी ने घोषित की टेस्ट टीम, कोहली को मिला ट्रिपल अवॉर्ड

अब तक नहीं टूटे हैं ये दोनों रिकॉर्ड

अब तक नहीं टूटे हैं ये दोनों रिकॉर्ड

हिरवानी ने उस मुकाबले में डेब्यू करते हुए जो पूरे टेस्ट के दौरान 136 रन देकर 16 विकेट लिए जो किसी भी गेंदबाज द्वारा पहले ही टेस्ट मैच में लिए गए सबसे ज्यादा विकेट हैं। हिरवानी उस समय केवल 19 साल के थे और उन्होंने शानदार प्रदर्शन करके भारत को तब 255 रनों से जीत दिलाई थी। हिरवानी का करियर हालांकि बाद में उस तरह का शानदार नहीं रह सका। ये गेंदबाज केवल 17 टेस्ट और 18 वनडे ही खेल पाया था। टेस्ट में उन्होंने जहां 66 विकेट लिए थे तो वनडे में उन्होंने 23 विकेट लिए।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Read more about: record test
Story first published: Wednesday, January 15, 2020, 14:27 [IST]
Other articles published on Jan 15, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X