दाहिने हाथ में नहीं हैं चार उंगलियां, फिर भी यह खिलाड़ी करता है तूफानी बल्लेबाजी और गेंदबाजी

नई दिल्ली। मंजिल को हासिल करने के लिए हाैसले का बुलंद होना जरूरी है। इस बात को पाकिस्तान के उस क्रिकेटर ने साबित कर दिया जिसके हाथ की चार उंगलियां नहीं हैं लेकिन फिर भी तूफानी बल्लेबाजी व गेंदबाजी के कारण मशहूर है। जी हां, हम बात कर रहे हैं विकलांग क्रिकेटर शाहबाज खान की जिनके दाहिने हाथ की चार उंगलियां नहीं है। शाहबाज को इस बात अब दुख नहीं कि वो विकलांग है क्योंकि उन्होंने अपनी कमजोरी को ताकत बनाया है।

नहीं रोक सकी मुश्किलें

नहीं रोक सकी मुश्किलें

शाहबाज अब 3 अगस्त से इंग्लैंड में उद्घाटन डिसेबल वर्ल्ड सीरीज में अपने देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। 11-दिवसीय टूर्नामेंट का आयोजन इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड द्वारा वॉस्टरशायर में किया जाता है। देश के लिए खेलना उनके लिए गर्व की बात है। उन्होंने खेल के प्रति लगाव लगाकर गरीबी को दूर करने में पूरा प्रयास किया। शाहबाज का करियर आसानी से बनने वाला नहीं था लेकिन उनके परिवार और दोस्तों ने ही उनका साथ दिया। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के कसूर में आटा बनाकर रोजाना 800 रुपए कमाने वाले इस शख्स ने बचपन में ही मीट चॉपर में अपने दाहिने हाथ की चार उंगलियां गंवा दी थीं। लेकिन इसने उसे अपने लक्ष्य का पीछा करने से नहीं रोका।

VIDEO : अफरीदी ने खेली 40 गेंदों में 81 रनों की तूफानी पारी, दो बार गेंद को स्टेडियम के पार पहुंचाया

चार उंगलियों की कमी के बावजूद करते हैं तेज गेंदबाजी

चार उंगलियों की कमी के बावजूद करते हैं तेज गेंदबाजी

जो बात शाहबाज को खास बनाती है, वह यह है कि वह गेंदबाजी में चार अंगुलियों की कमी के बावजूद गंभीर गति पैदा करते हैं। शाहबाज ने कहा, "गेंद को पकड़ते समय मुझे कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा। वास्तव में, मेरा अंगूठा मुझे ऊर्जा देता है और मैं गति और सटीक लंबाई के साथ गेंदबाजी करता हूं। मुझे बल्लेबाजी पसंद है और आक्रामक होकर खेलने की कोशिश करता हूं। मैंने अपने दाहिने हाथ पर दस्ताने नहीं पहने हैं लेकिन जब क्रिकेट की बात आती है तो मुझे डर नहीं लगता।"

पीडीसीए ने किया सपना साकार

पीडीसीए ने किया सपना साकार

करीब सात से आठ साल पहले, शाहबाज़ज विकलांगों के लिए क्रिकेट के बारे में सुनने आए थे और इससे उन्हें प्रोत्साहन मिला। वह कराची गए जहां पाकिस्तान विकलांग क्रिकेट एसोसिएशन (पीडीसीए) विशेष रूप से विकलांग क्रिकेट प्रेमियों के सपनों को साकार कर रहा था। शहबाज को वहां अपना मंच मिला। उन्होंने कहा, 'मैं सात-आठ साल पहले पाकिस्तान की क्रिकेट से जुड़ा था। उन्होंने मुझे उच्च स्तर पर अपने देश और परिवार का प्रतिनिधित्व करने की उम्मीद दी। उन्होंने विश्व आयोजन में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व करने का मौका देने के लिए पीडीसीए को धन्यवाद दिया।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Read more about: cricket pakistan cricket team
Story first published: Monday, July 29, 2019, 16:39 [IST]
Other articles published on Jul 29, 2019
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X