क्या सेमीफाइनल में नो बॉल पर आउट हुए थे धोनी, अब सामने आया पूरा सच

नई दिल्ली: भारत की विश्व कप से सेमीफाइनल में जो विदाई हुई थी उसने ना केवल क्रिकेट पंडितों को चौंकाया है बल्कि भारतीय क्रिकेट फैंस का भी दिल तोड़ा है। कुछ समय तो किसी को समझ हीं नहीं आया कि यह क्या हुआ। उस मैच में टीम इंडिया के लिए अपनी बल्लेबाजी में शुरुआती 45 मिनट बहुत भारी साबित हुए। टॉप ऑर्डर की विफलता के अलावा इस मैच में भारत का हार का सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट महेंद्र सिंह धोनी का रन आउट होना था। धोनी पारी के आखिर में तब रन आउट हुए जब भारत को जीत के लिए 10 गेंदों पर 25 रनों की दरकार थी। यह मार्टिन गुप्टिल का जबरदस्त डायरेक्ट हिट था लेकिन बाद में इसी रन आउट को लेकर एक विवाद उठना शुरू हो गया। दरअसल टीवी स्क्रीन पर एक ग्राफिक्स के जरिए यह बात सामने आए कि धोनी को रन आउट करने वाली गेंद नो-बॉल थी। इसके बाद भी आईसीसी की ओर से कोई बयान आया और ना ही बीसीसीआई ने कोई प्रतिक्रिया दी। ऐसे में इस मामले से जुड़ा बड़ा खुलासा अब सामने आया है।

क्या कहता है आईसीसी का नियम

क्या कहता है आईसीसी का नियम

धोनी के रन आउट होने से पहले एक फील्डिंग ग्राफिक्स टीवी स्क्रीन पर फ्लैश हो रहा था जिसमे दिखाया जा रहा था कि इस समय 30 गज के दायरे के बाहर कुल 6 फील्डर हैं। यह आईसीसी के फील्डिंग नियमों का उल्लंघन था। उसके बाद ही चर्चाओं और विवाद का दौर शुरू हो गया। आईसीसी का नियम कहता है कि जब तीसरा पॉवरप्ले चल रहा हो तो 30 गज के घेरे के बाहर कोई केवल पांच की फील्डर खड़े हो सकते हैं। जबकि धोनी की बल्लेबाजी के समय जारी ग्राफिक्स दिखा रहा था कि उस समय 6 फील्डर इस दायरे से बाहर खड़े थे। ऐसे में सोशल मीडिया पर तुरंत आईसीसी और मैदानी अंपायरों पर गुस्सा फूट पड़ा कि यह गेंद तो नो-बॉल देनी चाहिए थी।

सामने आया 'नो-बॉल' का सच

सामने आया 'नो-बॉल' का सच

इसके बाद जब इस ग्राफिक्स की जांच-पड़ताल की गई तो अब असली सच्चाई खुलकर सामने आई है। अब पता यह चला है कि यह ग्राफिक्स दरअसल ब्रॉडकास्टिंग गलती का नतीजा था। यानी की यह अंपायर की नहीं बल्कि प्रसारणकर्ता की गलती थी जिसके चलते यह गलतफहमी पैदा हुई। हुआ यह था कि 49वें ओवर की पहली गेंद पर न्यूजीलैंड के पांच खिलाड़ी रिंग के बाहर खड़े थे। धोनी ने इस ओवर की पहली ही गेंद पर छक्का जड़ दिया। ऐसे में जब लॉकी फर्गुसन ने दूसरी गेंद डाली उससे पहले मिड विकेट का फील्डर वापस पीछे ले जाया गया और डीप फाइन को बुलाया गया। धोनी हालांकि इस गेंद पर कोई रन नहीं ले पाए। अब बात करते हैं उस गेंद की जिस पर धोनी रन आउट हुए और सारा विवाद खड़ा हुआ।

यह हुआ था उस गेंद से पहले

यह हुआ था उस गेंद से पहले

तीसरी गेंद से पहले ही एक ग्राफिक्स स्क्रीन पर दिखाई देने लगा जिसमें सर्कल के बाहर 6 फील्डर दिखाए गए थे। यहीं पर गलती हुई थी। इसमें दिखाया गया कि न्यूजीलैंड ने शॉर्ट फाइन लेग फील्डर तैनात किया है लेकिन इसने यह नहीं दिखाया कि थर्ड मैन फील्डर की स्थिति में भी बदलाव किया गया है। जबकि यह बात कॉमेंटेटर इयान स्मिथ ने गेंद डालने से पहले ही स्पष्ट कर दी थी कि थर्ड मैन को बुलाने और फाइन लेग को वापस भेजने के लिए कहा गया। उन्होंने यह भी कहा कि फर्गुसन ने अपनी फील्डिंग खुद सजाई थी।

वर्ल्ड कप में मिली हार के बाद टीम से पहले ही अकेल घर लौटे रोहित शर्मा

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Sunday, July 14, 2019, 15:53 [IST]
Other articles published on Jul 14, 2019
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X