ये हैं उत्तराखंड के 'युवराज', कैंसर होने के बाद शतक ठोककर की जबरदस्त वापसी

Meet Kamal Singh Kaniyal who fought cancer and make come back like Yuvraj Singh

नई दिल्ली: युवराज सिंह के कैंसर होने की कहानी जितनी दर्दनाक थी उतनी ही प्रेरणादायक उनके ठीक होने के बाद मैदान में वापसी की कहानी है। कैंसर एक आम इंसान के जीवन में जो अंधकार पैदा करने की क्षमता रखता है वह जगजाहिर है और एक खिलाड़ी के लिए छोटी चोट भी कई बार बड़ी दिक्कत बन जाती है, ऐसे में किसी खिलाड़ी को करियर के बीच में कैंसर होना बहुत बड़ी निराशा का कारण बन सकता है।

युवराज ने यह जंग जीत ली थी लेकिन कैंसर को हराने के बाद मैदान पर छाने वाले युवराज अकेले भारतीय खिलाड़ी नहीं हैं।

कैंसर की लड़ाई में युवराज अकेले भारतीय क्रिकेटर नहीं-

कैंसर की लड़ाई में युवराज अकेले भारतीय क्रिकेटर नहीं-

जिस खिलाड़ी की हम बात कर रहे हैं उसको मात्र 15 साल की उम्र में कैंसर हो गया था। इस छोटी उम्र में किसी खिलाड़ी का करियर शुरू होता है लेकिन इस जीवट युवा ने ना केवल इस स्टेज से खुद को निकाला बल्कि तीन साल बाद खेल के मैदान पर प्रतिष्ठित रणजी ट्रॉफी के जरिए डेब्यू किया।

U19 चैम्पियन बनने के बाद बांग्लादेश के कप्तान ने बताया बदला लेने का बेस्ट तरीका

उत्तराखंड के ओपनर कमल सिंह कनियाल

उत्तराखंड के ओपनर कमल सिंह कनियाल

इतना ही नहीं, उन्होंने इस मुकाबले में शतक लगाकर विरोधियों के साथ कैंसर को भी ठेंगा दिखा दिया। जी हां, हम यहां बात कर रहे हैं उत्तराखंड के ओपनर कमल सिंह कनियाल की जिन्होंने गुरुवार को महाराष्ट्र के खिलाफ रणजी ट्रॉफी में डेब्यू करते हुए 101 रनों की पारी खेली। इस पारी में उन्होंने 160 गेंदों का सामना किया और 17 चौके लगा दिए।

प्लेटलेट्स काफी तेजी से गिरने लगे थे

प्लेटलेट्स काफी तेजी से गिरने लगे थे

कमल उस दौर को याद करते हैं जब उनको पहली दफा कैंसर होने का पता लगा था। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस के साथ बात करते हुए बताया-

'मैं खून की जांच के लिए पिता के साथ गया था। मेरे प्लेटलेट्स काफी तेजी से गिरने लगे थे जिसको देखकर डॉक्टर ने मेरे पिता को आगे के लिए इलाज के लिए सलाह दी।' उन्होंने आगे बताया कि वो लोग इलाज के लिए नोएडा आ गए।

नोएडा में रहकर हुआ इलाज-

नोएडा में रहकर हुआ इलाज-

उन्होंने अपनी बीमारी के बारे में आगे बताते हुए कहा- "मैं अक्सर बीमार पड़ता था और मेरी प्लेटलेट की गिनती तेजी से गिरती थी, "वह कहते हैं, "बाद में जब हम नोएडा के फोर्टिस अस्पताल गए, तो मुझे सिर्फ यह बताया गया कि मेरे खून में इंफेक्सन है। मैंने डॉक्टर को यह कहते हुए सुना कि मुझे कैंसर है। मैंने फिर खुद से कहा कि मुझे इलाज मिल रहा है, मुझे ज्यादा चिंता नहीं करनी चाहिए। "

'किसी-किसी का किस्मत अच्छा है'- ये है सचिन की फोटो पर गांगुली का मजेदार जवाब

कीमोथेरेपी के पांच दौर से गुजरें

कीमोथेरेपी के पांच दौर से गुजरें

वह दोबारा क्रिकेट खेलेंगे या नहीं, यह उनके दिमाग में नहीं था। उनके पिता, एक सेवानिवृत्त सेना हवलदार थे। उन्होंने अपने युवा बेटे को सांत्वना दी और कनियाल को कभी भी परेशान नहीं होने दिया।

"डॉक्टर ने कहा कि ठीक होने की संभावना अधिक है। डॉक्टर ने कहा इस उम्र में शरीर जल्दी ठीक हो जाता है। मैं कीमोथेरेपी के पांच दौर से गुजर गया। मुझे नहीं पता था कि इसका क्या मतलब है। मेरे आसपास सकारात्मक लोग थे जिन्होंने मुझे प्रेरित किया और मुझे खुश रखा। मेरा परिवार कहता था कि मैं एक टाइगर हूं, यह लडका बहोत ही बहादुर हूं ', बस ये लाइन सुनके जोश आ जाता था।

6 महीने के इलाज के बाद हुए ठीक लेकिन..

6 महीने के इलाज के बाद हुए ठीक लेकिन..

छह महीने के उपचार के बाद, डॉक्टरों ने कहा कि वह ठीक है, लेकिन घर पर सावधानी बरती गई। उसे पूरी तरह से ठीक होने में लगभग एक साल लग गया। जब उन्होंने ऐसा किया, तो सबसे पहले उन्होंने फिर से मैदान में वापसी की। कनियाल और उनका परिवार शायद ही कभी इस बात के बारे में ज्यादा बात करता है इसको वे अपने जीवन का सबसे काला चरण मानते हैं।

उत्तराखंड की अंडर-19 में मिली जगह

उत्तराखंड की अंडर-19 में मिली जगह

जब उत्तराखंड की टीम ने अंडर -19 खेल में हिस्सा लिया तो सलामी बल्लेबाज को उसमें जगह मिल गई। उन्होंने कहा, "पहले कोई उत्तराखंड संघ नहीं हुआ करता था, संघ दो साल पहले आया था। हम यूपी में मौका लेने की कोशिश करते थे लेकिन अनगिनत मौकों पर इसे खारिज कर दिया गया।

"मैंने अंडर -14 शिविरों में भाग लिया, जहां हमारे 40 लड़के थे और शिविर चार से पांच दिनों में खत्म हो गया। बाद में, मुझे अंडर -16 कैंप के लिए चुना गया, जो कुछ ट्रायल मैचों के साथ चार दिनों में समाप्त हो गया। "

संघर्ष की अनोखी दास्तान-

संघर्ष की अनोखी दास्तान-

"मैंने अंडर -14 शिविरों में भाग लिया, जहां हमारे 40 लड़के थे और शिविर चार से पांच दिनों में खत्म हो गया। बाद में, मुझे अंडर -16 कैंप के लिए चुना गया, जो कुछ ट्रायल मैचों के साथ चार दिनों में समाप्त हो गया। "

IND vs NZXI: 'ऐसा बाउंस आज तक नहीं देखा'- शतक के बाद हनुमा विहारी का खुलासा

करियर को लेकर दार्शनिक सोच-

करियर को लेकर दार्शनिक सोच-

वापस बारामती में, उन्होंने स्वीकार किया कि उनके ऊपर पदार्पण मैच खेलने का कुछ दबाव था। लेकिन उन्होंने अपने दिमाग में एक भी नकारात्मक विचार को प्रवेश नहीं करने दिया था। जब उनसे पूछा गया कि वे अपने आगे के करियर को किस प्रकार देखते हैं तो उनका किसी दार्शनिक की तरह से था-

"आगे का किसने देखा है, जैसा चल रहा है चलता रहे।"

संक्षिप्त स्कोर:

संक्षिप्त स्कोर:

संक्षिप्त स्कोर: 49.4 ओवर में महाराष्ट्र 207 रन (ए पलक 60, वीवी मोर 59, एनएस शेख 47; अगिमिम तिवारी 3/49, प्रदीप चमोली 3/52) और 46 ओवर में 2 विकेट पर 140 (अंकित बावने 50 बल्लेबाजी, स्वप्निल फुलपागर) 40 (बल्लेबाजी)

उत्तराखंड 251 ओवर में 38 ओवर में (कमल सिंह 101, सौरभ रावत 49, वैभव भट्ट 33; सत्यजीत बच्चव 4/71)।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Friday, February 14, 2020, 17:25 [IST]
Other articles published on Feb 14, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Mykhel sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Mykhel website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more