Tokyo Paralympics: कृष्णा नागर ने जीता गोल्ड मेडल, भारत को मिला 5वां स्वर्ण पदक

Tokyo Paralympics: Shuttler Krishna Nagar clinches gold in Men's Singles SH6 Final | वनइंडिया हिंदी

टोक्योः जापान के पैरालंपिक गेम्स में भारत का सपनों सरीखा सफर जारी है। इन खेलों के अंतिम दिन भी भारत का परचम लहरा रहा है। सुबह की शुरुआत में IAS अधिकारी सुहास यतिराज ने बेहतरीन तरीके से लड़े गए फाइनल मुकाबले के बाद सिल्वर मेडल देश के नाम किया तो गोल्ड की कसर भारत के एक और शटलर कृष्णा नागर ने पूरी कर दी। यह बैडमिंटन में भारत का दूसरा गोल्ड है।

कृष्णा नागर ने हांगकांग के मान काई चू पर 21-17, 16-21, 21-17 से जीत के साथ पुरुष सिंगल SH6 बैडमिंटन फाइनल जीता। इससे भारत के पदकों की संख्या 19 हो गई है। यह इस प्रतियोगिता में भारत का दूसरा गोल्ड मेडल है। इससे पहले प्रमोद भगत ने कल पहला गोल्ड दिलाया था। यह पैरालंपिक खेलों में भारत का 5वां गोल्ड है।

नागर की जीत के बाद जयपुर में उनके परिवार में जबरदस्त उत्साह है। पिता सुनील नागर का कहना है कि पूरा देश बेटे पर गर्व कर रहा है।

कोविड -19 हीरो बना पैरालंपिक हीरो, DM सुहास की पत्नी ने कहा- ये पिछले 6 सालों की मेहनत का फलकोविड -19 हीरो बना पैरालंपिक हीरो, DM सुहास की पत्नी ने कहा- ये पिछले 6 सालों की मेहनत का फल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि वे बैडमिंटन में भारत के खिलाड़ियों का सराहनीय प्रदर्शन देखकर खुश हैं। कृष्णा नागर के प्रदर्शन ने प्रत्येक भारतीय के चेहरे पर मुस्कान ला दी है।

एसएच6 वर्ग में विश्व के दूसरे नंबर के कृष्णा नागर को अपने स्वर्ण पदक के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी क्योंकि वह पहले गेम में चू मान काई के खिलाफ 12-16 से पीछे चल रहे थे। हालांकि, कृष्णा ने हॉन्ग कॉन्ग के शटलर को स्तब्ध करने और शुरुआती गेम में जगह बनाने के लिए कई अंक जुटाए।

दूसरा गेम चू मान काई के पाले में चला गया क्योंकि उन्होंने कृष्णा को परेशान करने के तरीके खोज लिए थे।

हालांकि तीसरा गेम दिलचस्प था क्योंकि कृष्णा ने 11-7 की बढ़त के साथ गेम ब्रेक में हांगकांग के खिलाड़ी को प्रतियोगिता में वापस आने का मौका दे दिया। चू मान काई ने इसे 14-14 कर दिया लेकिन कृष्णा ने आखिरी दांव अपने नाम किया।

कृष्णा नगर के 5 स्वर्ण पदक अंक थे लेकिन चू मान काई ने हार नहीं मानी क्योंकि उन्होंने भारतीय शटर के ऐसा करने से पहले एक को बचा लिया। प्रमोद की तरह, कृष्णा अपने कोच की ओर दौड़े और उन्हें गले लगा लिया क्योंकि उन्होंने टोक्यो पैरालिंपिक में भारत के लिए एक और स्वर्ण पदक जीता था।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Sunday, September 5, 2021, 10:27 [IST]
Other articles published on Sep 5, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X