IPL 2020 के टाइटल स्पॉन्सर के लिये BCCI ने मांगे आवेदन, सामने रखी 300 करोड़ की शर्त

नई दिल्ली। भारत और चीन के सैनिकों के बीच पिछले महीने लद्दाख की गलवान वैली में हुई हिंसक झड़प के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनातनी का माहौल है। इसको लेकर पूरे देश में चीन विरोधी माहौल बना हुआ है। जहां भारत सरकार ने इस मुद्दे पर चीन के सोशल मीडिया और 60 एपलिकेशन को भारत में बैन कर दिया है तो वहीं पर लोगों का विरोध देखते हुए आईपीएल में टूर्नामेंट की टाइटल स्पॉन्सर चीनी कंपनी वीवो ने इस सीजन के लिये खुद को अलग कर लिया है। वीवो आईपीएल की मुख्य स्पॉन्सर थी जिसे रद्द करने के बाद बीसीसीआई को फिलहाल 440 करोड़ रुपये का नुकसान है।

ENG vs PAK: जोस बटलर के समर्थन में उतरे शेन वॉर्न, कहा- हर टेस्ट में होना चाहिये शामिल

फिलहाल बीसीसीआई इस टूर्नामेंट को आयोजित कराने के लिये नये स्पॉन्सर की तलाश में जिसको लेकर सोमवार को उसने इसमें रूचि दिखाने वाली कंपनियों से टाइटल स्पॉन्सरशिप की बिड के लिये आवेदन मांगे हैं। इसको लेकर आईपीएल के चयरमैन बृजेश पटेल ने सोमवार को मीडिया से बात की और इसको लेकर नियम और शर्तों के बारे में भी बताया।

UAE में आईपीएल कराने को मिली सरकार से मंजूरी, IPL चेयरमैन ने की पुष्टि

18 अगस्त तक की जायेगी टाइटल स्पॉन्सर की घोषणा

18 अगस्त तक की जायेगी टाइटल स्पॉन्सर की घोषणा

ब्रजेश पटेल ने सोमवार को इंडियन प्रीमियर लीग का आयोजन संयुक्त अरब अमीरात में कराने के लिये केंद्र सरकार से औपचारिक मंजूरी मिलने की जानकारी देते हुए कहा कि आईपीएल के लिये नये टाइटल स्पॉन्सर का ऐलान 18 अगस्त तक किया जायेगा।

उन्होंने कहा,' आईपीएल के नये टाइटल प्रायोजक की घोषणा 18 अगस्त तक हो जायेगी । इच्छुक कंपनियों को बोली जमा करने के लिये 7 दिन का समय दिया जा रहा है।'

आवेदन के लिये सामने रखी 300 करोड़ की शर्त

आवेदन के लिये सामने रखी 300 करोड़ की शर्त

गौरतलब है कि आईपीएल का आयोजन इस साल संयुक्त अरब अमीरात में 19 सितंबर से 10 नवंबर के बीच शारजाह, दुबई और अबुधाबी में कराया जायेगा। जिसकी टाइटल स्पॉन्सरशिप के मुद्दे पर बात करते हुए बीसीसीआई ने कहा कि नई कंपनी को इस करार के जरिये प्रायोजक अधिकार 18 अगस्त 2020 से 31 दिसंबर 2020 तक ही मिलेंगे। इसके अलावा बीसीसीआई ने बोली में हिस्सा लेने वाली कंपनियों के हिस्सा लेने पर बड़ी शर्त रखते हुए कहा कि इस स्पॉन्सरशिप की बोली में वही कंपनी हिस्सा ले सकेगी जिसका टर्नओवर 300 करोड़ रुपये से ज्यादा होगा।

वीवो के अलग होने से BCCI को नहीं पड़ता फर्क

वीवो के अलग होने से BCCI को नहीं पड़ता फर्क

आईपीएल चेयरमैन बृजेश पटेल का मानना है कि बीसीसीआई को वीवो के अलग होने से कोई खास फर्क नहीं पड़ता है और उसे अगले एक हफ्ते के अंदर नया स्पॉन्सर मिल जाएगा।

उन्होंने कहा ,' वीवो का अलग होना कोई झटका नहीं है। कई कंपनियां पहले ही रूचि जता चुकी हैं। चाहे भारतीय कंपनी हो या विदेशी, जो सबसे ज्यादा बोली लगायेगी उसे ही अधिकार मिलेंगे। पूरी प्रक्रिया 18 अगस्त तक पूरी हो जायेगी।'

टाइटल स्पॉन्सर की रेस में यह कंपनियां हैं शामिल

टाइटल स्पॉन्सर की रेस में यह कंपनियां हैं शामिल

आपको बता दें कि चीनी मोबाइल कंपनी वीवो से करार टूटने के बाद बीसीसीआई (BCCI) को प्रायोजन तलाशने में भी दिक्कत हो रही है । यह 440 करोड़ रुपये का करार था जो भारत और चीन के सैनिकों के बीच सीमा पर हुई हिंसक झड़प के कारण चीनी उत्पादों और कंपनियों के बहिष्कार की मांग के बीच इस साल के लिये रद्द कर दिया गया है। वहीं आईपीएल के टाइटल स्पॉन्सरशिप की रेस में पतंजलि, एमेजॉन, जियो जैसी कंपनियां आगे बताई जा रही हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Monday, August 10, 2020, 21:43 [IST]
Other articles published on Aug 10, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X